स्मार्ट शहरों के लिए रोल मॉडल बनेगा नया रायपुर का केंद्र : प्रधानमंत्री - Live Aaryaavart

Breaking

गुरुवार, 14 जून 2018

स्मार्ट शहरों के लिए रोल मॉडल बनेगा नया रायपुर का केंद्र : प्रधानमंत्री

raipur-role-model-for-smart-city-modi
रायपुर, 14 जून, छत्तीसगढ़ के एकदिवसीय प्रवास पर गुरुवार को रायपुर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एकीकृत कमांड एवं नियंत्रण केंद्र का लोकार्पण किया। इस दौरान मोदी ने कहा, "नया रायपुर का यह अत्याधुनिक एकीकृत कमांड एवं नियंत्रण केंद्र देश के अन्य स्मार्ट शहरों के लिए भी एक रोल मॉडल बनेगा।" प्रधानमंत्री ने इस केंद्र के निर्माण पर खुशी प्रकट करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सहित नया रायपुर विकास प्राधिकरण के सभी प्राधिकारियों को बधाई दी। इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी सुबह साढ़े 11 बजे वायुसेना के विशेष विमान से रायपुर पहुंचे थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का रायपुर के माना स्थित स्वामी विवेकानंद विमानतल पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने स्वागत किया। नया रायपुर देश का पहला ऐसा स्मार्ट शहर है, जिसमें बिजली, पानी, सड़क, संचार और स्वच्छता जैसी नागरिक सुविधाओं की ऑनलाइन निगरानी और इन सेवाओं से जुड़ी जन समस्याओं के निराकरण के लिए एकीकृत कमांड एवं नियंत्रण केंद्र की स्थापना की गई है। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, केंद्रीय संचार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनोज सिन्हा, केंद्रीय आवास एवं नगरीय मामलों के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी, छत्तीसगढ़ सरकार के आवास, पर्यावरण एवं लोकनिर्माण मंत्री राजेश मूणत, केंद्रीय आवास मंत्रालय के सचिव डीएस मिश्रा, नया रायपुर विकास प्राधिकरण (एनआरडीए) के अध्यक्ष और आवास एवं पर्यावरण विभाग के प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह, सचिव आवास एवं पर्यावरण संजय शुक्ला और मुख्य कार्यपालन अधिकारी (एनआरडीए) रजत कुमार उपस्थित रहे।

नया रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष अमन कुमार सिंह ने प्रस्तुतिकरण देते हुए उन्हें बताया, "इस केंद्र के जरिए बिजली, पानी, स्वच्छता, यातायात प्रबंधन, एकीकृत भवन प्रबंधन, सिटी कनेक्टिविटी और और संपूर्ण नया रायपुर शहर की निगरानी की जा सकेगी।" उन्होंने बताया, "शहर की परिवहन व्यवस्था, बिजली एवं जल आपूर्ति, स्ट्रीट लाइट और आधारभूत सुविधाओं से जुड़ी प्रत्येक व्यवस्था की निगरानी चौबीसों घंटे की जा सकेगी। वर्तमान में भूमि खरीद के किसी प्रकरण की शिकायत अथवा नो ओब्जेक्शन सर्टिफिकेट आदि प्राप्त करने के लिए ऑफलाइन आवेदन दिया जाता है, जिससे समय की काफी हानि होती है। उन्होंने बताया, "सीसीसी व्यवस्था के शुरू हो जाने से ये सभी सुविधाएं नागरिकों को केवल एक क्लिक में उपलब्ध हो सकेंगी। शहर में लगे सभी सेंसर्स जैसे पब्लिक ट्रांसपोर्ट बसों में लगे जीपीएस सेन्सर्स, डायल 100 वाहन की स्थिति, 108 एंबुलेंस की स्थिति, स्मार्ट लाइटिंग, ट्रैफिक मैनेजमेंट कैमरे, पब्लिक बाइक शेयरिंग, सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट, मौसम विभाग, सोलर पैनल्स, स्मार्ट मैप इत्यादि व्यवस्थाओं एवं परियोजनाओं का डाटा यहां स्टोर होगा।"
एक टिप्पणी भेजें
Loading...