बिहार : और मनरेगा भी पलायन रोकने में अक्षम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 जुलाई 2018

बिहार : और मनरेगा भी पलायन रोकने में अक्षम

  • मनरेगा में कम मजदूरी भुगतान होने से अकेले 250 महादलित पलायन 
  • वार्ड नं.12 के वार्ड सदस्य बहादुर ऋषि ने कहा कि सड़क भरने का कार्य अधूरा पड़ गया

mnregaa-and-bihar-labour
डूमर,(समेली). डूमर पंचायत में है बकिया मुसहरी पश्चिमी टोला.यह वार्ड नम्बर-12 में है.इस वार्ड के वार्ड सदस्य बहादुर ऋषि है. वार्ड सदस्य बहादुर ऋषि का कहना है कि क्षेत्र में मनरेगा से काम हो रहा है. फिर भी लोग पलायन कर जा रहे है.मनरेगा पलायन रोकने में अक्षम साबित हो रहा है.उन्होंने कहा कि मरजिया नया टोला में सड़क भरने का कार्य अधूरा ही रह गया.150 महादलित मुसहर 4 दिन कार्य किये.उनको 177.00 रू.की दर से भुगतान किया. वार्ड सदस्य ने कहा कि कम मजदूरी का रोना रोकर 250 महादलित मुसहर पंजाब चले गये.वहां उनको धान रोपनी करनी है.ठेका लेकर खेत में धान रोपते हैं.जहां प्रति व्यक्ति दो से तीन सौ कमा लेते हैं.महिला और पुरूष बराबरी हिस्सेदारी लेते हैं.अपना बिहार में गैर बराबरी मजदूरी के तहत महिला को 120 रू.और पुरूष को 250 रू.मिलता है.  मनरेगा में धीरेंद्र ऋषि 4 दिन काम किये है.खुब मेहनत करके सड़क में मिट्टी भराई किये.2012 से मनरेगा कार्ड बना है.कार्ड में किसी तरह की इंट्री नहीं है.सभी पेज सादा ही है.मनरेगाकर्मी लिखित काम की मांग नहीं करते हैं. रोजगार सेवक और कार्यक्रम पदाधिकारी के मन से मनरेगा चल रहा है.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...