बिहार : माकपा के वरिष्ठ नेता कामरेड विजय कान्त ठाकुर नहीं रहे। - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 12 अगस्त 2018

बिहार : माकपा के वरिष्ठ नेता कामरेड विजय कान्त ठाकुर नहीं रहे।

cpi-leader-vijay-kant-thakur-psses-away
पटना (आर्यावर्त डेस्क) 12 अगस्त।  भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी बिहार राज्य परिषद के सचिव सत्य नारायण सिंह ने भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माक्र्सवादी) के पूर्व राज्य सचिव तथा अविभाजित दरभंगा जिला भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के पूर्व सचिव कामरेड विजय कांत ठाकुर के आकस्मिक निधन पर शोक व्यक्त करते हुए पार्टी और उनके शोक संतप्त परिवार के प्रति गहरी शोक संवेदना प्रकट की है। भाकपा के राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह ने कहा कि कामरेड विजय कान्त ठाकुर भूमि आंदोलन के चैम्पियन थे। वे बाढ़ प्रभावित संयुक्त और वर्तमान दरभंगा जिला में बाढ़ सुखा, बिजली संकट, समाजिक जुल्म-अत्याचार, किसान-मजदूरांे के सवालों को लेकर आजीवन संघर्ष करते रहे। कामरेड ठाकुर अपने इन्हीं गुणों के कारण लोकप्रियता के शिखर पर पहुॅंचे और भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माक्र्सवादी) के राज्य सचिव और केन्द्रीय कमिटियों में भी रहें। कम्युनिस्ट आंदोलन के मजबूत स्तंभ रहे कामरेड ठाकुर हृदय रोग से पीड़ित रहे। कल रात दिनांक 11 अगस्त को अचानक हृदय गति रूक जाने के कारण उनका निधन हो गया। उनके निधन का समाचार सुनते ही दरभंगा में एवं उनके कनसी गाँव में उनके पार्थिव शरीर पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति के सदस्य का॰ रामनरेष पाण्डेय, दरभंगा के जिला सचिव का॰ नारायण जी झा, का॰ सुधीर कुमार, प्रो॰ शब्बीर अहमद वेग ने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से लाल झंडा तथा पूष्पंाजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।  भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह ने अपनी एवं पार्टी की ओर से का॰ ठाकुर को श्रद्धांजलि देते हुए उनके निधन को कम्युनिस्ट आंदोलन के लिए अपूर्णीय क्षति बताया है। 
एक टिप्पणी भेजें