बिहार : जाने-माने ईसाई पत्रकार फादर फिलिप कट्टाकयाम मदर टेरेसा से 1992 में मिले थे - Live Aaryaavart

Breaking

बुधवार, 5 सितंबर 2018

बिहार : जाने-माने ईसाई पत्रकार फादर फिलिप कट्टाकयाम मदर टेरेसा से 1992 में मिले थे

आज संत मदर टेरेसा की 21 वीं पुण्य तिथि है, चारों तरफ से स्मरण कर श्रद्धांजलि दी जा रही है और आशीष देने का आग्रह किया जा रहा है
mother-terssa-annivirsery
पटना: पटना सिटी में है मदर संत टेरेसा का अनाथालय.यहां कल  हर्ष का माहौल था और आज गम का है.खुशी 4 सितंबर, 2016 की थी 'संत' घोषित की गई थीं.दु:ख 5 सितंबर,1997 को 'देहावसान' हो गया.जीवन की लीला के बीच बहुत सारे कार्य किए.स्वर्ग से दुआ भेजती रहती हैं. कोलकाता के कैथोलिक चर्च में संत टेरेसा के नाम से पहचानी जाने वाली मदर टेरेसा का जन्म 27 अगस्त 1910 को मेसेडोनिया के स्कॉप्जे में आग्नेस गोंझा बोयाजिजू के रूप में हुआ था और 5 सितंबर 1997  को मदर टेरेसा का स्वर्गवास हो गया. प्रारंभ में मदर टेरेसा अल्बानियाई भारतीय रोमन कैथोलिक नन के रूप में, मैसेडोनिया में अट्ठारह साल तक रही,  बाद में वह आयरलैंड चली गईं और अंततः भारत आकर रहने लगीं जहाँ मदर टेरेसा ने अपने जीवन का सबसे अधिक समय बिताया. निकोला और द्रना बोयाजिजू (एक अल्बेनियाई राजनेता) की सबसे छोटी बेटी, मदर टेरेसा मिशनरियों के जीवन, जिस तरह से वे पश्चिम बंगाल में मानव जाति की सेवा कर रहे थे, की कहानियों से अत्यधिक प्रभावित हुई। 12 साल की कम उम्र में, अाग्नेस उर्फ मदर टेरेसा ने अपने जीवन को धार्मिक कार्यों में समर्पित करने का फैसला कर लिया था.मदर टेरेसा ने 18 साल की उम्र में ही स्कॉप्जे (अपने माता-पिता का घर) को छोड़ दिया था और सिस्टर्स आफ लॉरेटो पूरे भारत में परिचालन मिशन में आयरिश समुदाय में नन के रूप में शामिल हो गईं.मदर टेरेसा पहली बार 1992 में भारत आईं थी. वर्ष 1931 से 1948 तक मदर टेरेसा ने शिक्षण के प्रति अपनी रुचि को कायम रखा. मदर टेरेसा ने दार्जिलिंग के सेंट टेरेसा स्कूल में शिक्षण कार्य किया.

1948 में, मदर टेरेसा ने पश्चिम बंगाल, कलकत्ता (कोलकाता) के झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले गरीबों में से सबसे गरीब लोगों की सेवा करना शुरू कर दिया था। बाद में, इन्होंने झुग्गी में रहने वाले बच्चों के लिए ओपन-एयर स्कूल का संचालन किया और अंततः वेलीन्टर से अनुमति प्राप्त करने के बाद 7 अक्टूबर, 1950 को “मिशनरी ऑफ चैरिटी समूह” की स्थापना की. इस समूह का उद्देश्य शराबियों, एड्स पीड़ितों, भूखें, नंगे, बेघर, अपंग, अंधे, कुष्ठरोग से पीड़ित और कई अन्य, सभी व्यक्ति जिन्हें सहायता की आवश्यकता थी, को सहायता प्रदान करना था. प्रारंभ में, इस मिशनरी ऑफ चैरिटी समूह में कलकत्ता में सिर्फ 13 सदस्यों का समूह था और वर्ष 1997 तक 4000 से ज्यादा नन शामिल हो गई, जो दुनिया के विभिन्न हिस्सों में एड्स होस्पेस, अनाथाश्रम और चैरिटी केंद्र को चलाने में लगी हुई हैं. मदर टेरेसा के कार्यों ने व्यक्तियों के साथ-साथ दुनिया भर के संगठनों से भी प्रशंसा प्राप्त की। जिनकी यहाँ पर सूची दी गई हैः

1962 में, मदर टेरेसा को भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया गया.
1969 में, मदर टेरेसा को अंतर्राष्ट्रीय समझ के लिए जवाहरलाल नेहरू पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.
1979 में, नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया.
1980 में, भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार ‘भारत रत्न पुरूस्कार’ से सम्मानित किया गया था.
उपरोक्त सूचीबद्ध पुरस्कारों के अतिरिक्त मदर टेरेसा को टेंपलटन, रमन मैगसेसे पुरस्कार और अंतर्राष्ट्रीय समझ एवं पोप जॉन XXIII शांति पुरस्कार (1971) के लिए भी पुरस्कार मिले हैं.

4 सितंबर, 2016 को, मदर टेरेसा को इटली के विभिन्न हिस्सों के 15 आधिकारिक प्रतिनिधि मंडलों और 1500 बेघर लोगों के साथ हजारों लोगों की एक सभा में वेटिकन सिटी के सेंट पीटर स्क्वायर में पोप फ्रांसिस द्वारा संत की उपाधि प्रदान की गई थी. वेटिकन ने इस पुष्टि के बाद ही (17 दिसंबर, 2015) को एक दूसरे चमत्कार, पोप फ्रांसिस की मान्यता प्रदान की, जिसका श्रेय भी मदर टेरेसा को दिया गया, इसमें मस्तिष्क के ट्यूमर से पीड़ित ब्राजील के व्यक्तियों को राहत दिलाने का कार्य किया गया। इनके कैनोनाइजेशन (संत की उपाधि) समारोह को वेटिकन टेलीविजन चैनल पर लाइव प्रसारण किया गया था और इंटरनेट पर भी दिया गया था. इन समारोहों में मदर टेरेसा के कैनननाइजेशन (संत की उपाधि) के विशेष सार्वजनिक जश्न को कोलकाता और भारत के मिशनरी ऑफ चैरिटी के अलावा, इनके गृहनगर स्कोप्जे में भी 7 दिवसीय लंबे उत्सव के रूप में मनाया गया था. ईसाई पत्रकार हैं फादर फिलिप कट्टाकयाम.येसु समाजी फादर 1992 में मदर टेरेसा से मिले थे.उसी समय का दुलर्भ चित्र है.उन्होंने भावभीनी श्रद्धांजलि  संत मदर टेरेसा को दी है.अल्पसंख्यक विभाग कांग्रेस के उपाध्यक्ष सिसिल साह,सामाजिक कार्यकर्ता सुशील लोबो ने भी श्रद्धापुष्प अर्पित किया है.
एक टिप्पणी भेजें
Loading...