तेजप्रताप के घर नहीं लौटने पर जद (यू) ने तेजस्वी को पढ़ाया नैतिकता का पाठ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 9 दिसंबर 2018

तेजप्रताप के घर नहीं लौटने पर जद (यू) ने तेजस्वी को पढ़ाया नैतिकता का पाठ

jdu-teach-lesson-to-tejashwi
पटना, 8 दिसंबर, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव द्वारा अदालत में तलाक की अर्जी दिए जाने के बाद घर नहीं लौटने पर जनता दल (युनाइटेड) ने शनिवार को पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को नैतिकता का पाठ पढ़ाया। जद (यू) ने तेजस्वी को रामचरितमानस की याद दिलाते हुए उन्हें भरत से सीख लेने की नसीहत दी है। जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने शनिवार को कहा कि सत्ता गंवाने के बाद भी तेजस्वी की आत्मा नहीं जागी। अब उन्हें अपने बड़े भाई से भी आंख मिलाने से डर लगने लगा है। उन्होंने तेजस्वी को रामचरित मानस से सीख लेने की नसीहत देते हुए कहा, "याद कीजिए, जब छोटे भाई भरत को अयोध्या का राजा बनाया गया था, तब वे वनवास गए बड़े भाई राम को वन से वापस लाने गए थे।" जद (यू) नेता ने तेजस्वी को जाकर बड़े भाई को घर लाने की सलाह देते हुए कहा, "यही नैतिकता है। एक कोशिश तो कीजिए।" उल्लेखनीय है कि तेजप्रताप ने अपनी पत्नी एश्वर्या से तलाक की अर्जी एक नवंबर को पटना पारिवारिक (फैमिली) अदालत में दी है। इस मामले की पहली सुनवाई को लेकर तेजप्रताप 29 नवंबर को पटना पहुंचे लेकिन इसके बावजूद घर नहीं गए।
एक टिप्पणी भेजें