बिहार : 11 फरवरी से आरंभ विधानसभा सत्र में विभिन्न मु़द्यों पर सरकार को घेरेगी भाकपा-माले. - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 10 फ़रवरी 2019

बिहार : 11 फरवरी से आरंभ विधानसभा सत्र में विभिन्न मु़द्यों पर सरकार को घेरेगी भाकपा-माले.

cpi-ml-protest-government
पटना 10 फरवरी 2019,  11 फरवरी से आरंभ हो रहे विधानसभा सत्र में भाकपा-माले विधायक दल ने विभिन्न मुद्दों पर सरकार को घेरने की रणनीति बनाई है. भाकपा-माले विधायक दल के नेता महबूब आलम, दरौली विधायक सत्यदेव राम और तरारी विधायक सुदामा प्रसाद ने आज इस संदर्भ में बैठक आयोजित की. माले विधायक दल ने कहा है कि अररिया में माॅब लिंचिंग, राज्य में बढ़ते अपराध की घटनाएं, महिलाओं की सुरक्षा, विगत एक महीने से जारी रसोइया संगठनों की हड़ताल, धान खरीद की गारंटी, गरीबों को जबरन उजाड़ने, स्कीम वर्करों को सरकारी कर्मचारी का दर्जा, सिकमी बटाईदारों को पुश्तैनी अधिकार, समान शिक्षा प्रणाली लागू करने आदि सवालों पर सरकार को घेरा जाएगा. माले विधायकों ने कहा कि आज बिहार में पूरी तरह भाजपा का शासन चल रहा है. माॅब लिंचिंग की घटनाएं आम होती जा रही हैं जो दिखलाती हैं कि भाजपा-आरएसएस बिहार में सांप्रदायिक उन्माद की गहरी साजिश रच रही है और इस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चुपी साध रखी है. पश्चिम चंपारण से लेकर हर कहीं गरीबों को उजाड़ा जा रहा है. सरकार का वादा था गरीबों को 5 डिसमिल जमीन देने की लेकिन आज उलटे पूरे बिहार में बरसो से बसे गरीबों को बेदखल किया जा रहा है. भाजपा-नीतीश राज में ऐसा लगता है कि गरीब उजाड़ो अभियान चल रहा है.  आशाकर्मियों की हड़ताल के बाद विगत 7 जनवरी से रसोइया संगठनों की हड़ताल चल रही है, लेकिन इसके प्रति सरकार उदासीन रवैया अपनाए हुए है. रसोइयों की मांगें पूरी करने के सवाल को विधानसभा के अंदर उठाया जाएगा. 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...