बेगूसराय : महादलितों का तांडव किसी महाभारत से कम नहीं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 5 फ़रवरी 2019

बेगूसराय : महादलितों का तांडव किसी महाभारत से कम नहीं

mahadalit-capture-land
अरुण कुमार (बेगूसराय)  जिले के नीमा चांदपुरा थाना क्षेत्र के बनद्वार गांव में महादलितों द्वारा किसानों के लगभग 50 एकड़ जमीन पर जबरन कब्जा कर झोपड़ियों का निर्माण आनन फानन में करते हुए जमीनों को अपने कब्जे में कर लिया।अब उसको अतिक्रमण मुक्त कराने पुलिस प्रशासन अतिक्रमित जमीनों को मुक्त कराने पहुँची है।खबर मिल रही है कि अतिक्रमणकारियों द्वारा जमकर उपद्रव किया गया है।जमकर रोड़ेबाजी की सूचना है।वाहनों में आग लगने के प्रयास भी किये गए हैं।झड़प में कुछ पुलिस कर्मियों के घायल होने की बात भी सामने आ रही है।आगे आपको बता दें कि प्रशासन के द्वारा उसे खाली कराने का प्रयास किया गया तो महादलितों ने प्रशासन पर भी हमला बोल दिया था।जिसके बाद प्रशासन ने शांतिपूर्ण ढंग से किसानों की जमीन खाली कराने का प्रयास किया।लेकिन जब महादलितों ने प्रशासन की एक नहीं सुनी तो आज प्रशासन ने बल प्रयोग करते हुए पूरे दल बल के साथ किसानों की जमीन को मुक्त कराने के प्रयास में जुट गई है। इस दौरान महा दलितों ने जब देखा कि प्रशासन के द्वारा बल प्रयोग किया जा रहा है तो वह अपने-अपने झोपड़ियों में आग लगा कर फरार हो गए हैं।फिलहाल मौके पर दमकल की टीम एवं प्रशासन किसानों की जमीन मुक्त कराने के साथ-साथ आग पर काबू पाने का भी प्रयास कर रही है।महादलित के द्वारा लगाए गए आग से दमकल की गाड़ियां भी खुद जलने से किसी तरह बच पाई है।वहीं महादलित के द्वारा पुलिस पर जमकर पथराव भी किया गया है।जिसे देख   पुलिस भी अपने बचाव में पथराव करना शुरू कर दिया अभी भी स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है।इस पथराव में कई पुलिसकर्मी के घायल होने की सूचना है।गौरतलब है कि उक्त वर्णित भूमि का विवाद पिछले एक माह से चल रहा है।समाजिक एवं प्रशासनिक स्तर पर इसे निपटाने का प्रयास किया गया लेकिन नतीजा नगण्य अंत में जब कोई उपाय नही  बचा निपटारे का तो आज प्रशासन कई थानों की पुलिस लेकर अतिक्रमण मुक्त कराने पहुँची है।बता दें कि पिछले दिनों भी इसी स्थान पर पुलिस और अतिक्रमणकारियों के बीच कहा-सुनी,पत्थरबाजी हुई थी।उस वक्त भी कई पुलिस कर्मी चोट लगने से घायल हुए थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...