धरने पर बैठने वाले पुलिस अधिकारियों के पदक वापस लिये जा सकते हैं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 7 फ़रवरी 2019

धरने पर बैठने वाले पुलिस अधिकारियों के पदक वापस लिये जा सकते हैं

medals-of-police-officers-sitting-on-the-dharana-can-be-taken-back
नयी दिल्ली 07 फरवरी,  केन्द्र सरकार ने केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के साथ टकराव के बाद कोलकाता के पुलिस आयुक्त के साथ धरने पर बैठने वाले पश्चिम बंगाल कैडर के भारतीय पुलिस सेवा के पांच अधिकारियों के व्यवहार को अनुचित पाया है और वह इनके पदक और सम्मान वापस ले सकती है।  गृह मंत्रालय के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार केन्द्र इन अधिकारियों के नाम प्रतिनियुक्ति के पैनल से हटा सकती है और उन पर केन्द्र सरकार में सेवा देने के मामले में कुछ समय का प्रतिबंध भी लगाया जा सकता है। सूत्रों के अनुसार जिन अधिकारियों के खिलाफ यह कार्रवाई की जायेगी उनमें पश्चिम बंगाल के पुलिस महानिदेशक वीरेन्द्र , पश्चिम बंगाल पुलिस के निदेशक (सुरक्षा) विनीत कुमार गाेयल,पश्चिम बंगाल के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) अनुज शर्मा, विधाननगर के पुलिस आयुक्त अनुज शर्मा और कोलकाता के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त -III सुप्रतिम सरकार।  सूत्रों के अनुसार मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल सरकार से इन अधिकारियों के खिलाफ अखिल भारतीय सेवा की सेवा शर्तों और नियमों के तहत कार्रवाई करने को भी कहा है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...