कांग्रेस के समक्ष लोकसभा में नेता के चयन का संकट - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 28 मई 2019

कांग्रेस के समक्ष लोकसभा में नेता के चयन का संकट

crisis-of-the-leader-s-selection-in-the-lok-sabha-before-the-congress
नयी दिल्ली, 27 मई, लोकसभा चुनाव में मल्लिकार्जुन खड़गे सहित कांग्रेस के कई दिग्गज नेताओं की हार के कारण उसके समक्ष सदन में नेता के चयन का संकट खड़ा हो गया है। कांग्रेस संसदीय दल की नेता सोनिया गांधी तथा पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी इस बार भी सदन में होंगे लेकिन इनमें से कोई सदन के नेता का पद संभालेगा या नहीं यह अभी स्पष्ट नहीं है। पिछली बार भी दोनों सदन के सदस्य थे लेकिन नेता पद श्री खड़गे काे सौंपा गया था। इस बार अटकलें लगाई जा रही हैं कि शशि थरूर, अधीर रंजन चौधरी और मनीष तिवारी मे से किसी को भी नेता पद दिया जा सकता है। मनीष तिवारी पिछली बार सदन के सदस्य नहीं थे। श्री चौधरी 1999 से लोकसभा के सदस्य हैं और इन नेताओं में वही सबसे ज्यादा अनुभवी हैं। पार्टी के वरिष्ठ श्री खड़गे के अलावा, वीरप्पा मोइली, के एच मुनियप्पा तथा के वी थॉमस भी इस बार लोकसभा नहीं पहुंच पाये हैं। सोलहवीं लोकसभा में श्री एम आई शानवास पार्टी के एक और वरिष्ठ नेता लोकसभा में थे लेकिन इस बार उनकी वायनाड सीट से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी उम्मीदवार थे इसलिए वह चुनाव नहीं लड़े। कांग्रेस के तेज तर्रार युवा नेता के सी वेणुगोपाल और ज्योतिरादित्य सिंधियां भी इस बार लोकसभा मे नहीं हैं। श्री वेणुगोपाल को श्री अशोक गहलोत की जगह महासचिव के रूप में पार्टी संगठन का काम सौंपा गया इसलिए पार्टी ने उन्हें चुनाव मैदान में नहीं उतारा था जबकि श्री सिंधिया अपनी परंपरागत सीट गुना से चुनाव हार गये हैं। कांग्रेस नेता सुनील जाखड और कमलनाथ भी इस बार सदन में नहीं होंगे। श्री जाखड भाजपा के सनी देवल से चुनाव हारे हैं और कमलनाथ पहले ही मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बना दिये गये थे। भाजपा को सदन में घेरने और बीच बीच में उसे करारा जवाब देने वाले युवा नेता सुष्मिता देव तथा रंजना रंजन जैसे युवा नेताओं की गौरमौजूदगी भी कांग्रेस को इस बार सदन में खलेगी हालांकि इस टोली के गौरव गोगोई, रवनीतसिंह बिट्टू तथा के सुरेश चुनाव जीते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...