मधुबनी : नवसृजित प्राथमिक विद्यालय रामनगर में चापाकल खडाब होने से एमडीएम बाधित - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 18 मई 2019

मधुबनी : नवसृजित प्राथमिक विद्यालय रामनगर में चापाकल खडाब होने से एमडीएम बाधित


बेनीपट्टी/मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) प्रखंड के रामनगर गांव स्थित नवसृजित प्राथमिक विद्यालय पर बुधवार की सुबह 8.10 बजे पहुंचने पर देखा कि विद्यालय खुला था, सोनिया देवी नामक एक रसोईया बरामदे पर बैठी थीं. सहायक शिक्षक मो. जाबिर भी रसोइये के निकट एक कुर्सी पर बैठ मोबाइल में तल्लीन थे. एचएम रेखा कुमारी का कहीं कोई अता पता नही था. विद्यालय में एक भी बच्चे उपस्थित नही थे और न ही एमडीएम संचालन की कोई गतिविधि होते देखी गयी. बच्चे के बजाय विद्यालय परिसर में भैंस घूम रही थी. विद्यालय के ही एक कमरे में एमडीएम बनाया जाता है. जहा कमरे के ठीक बगल में लगा चापाकल कई महीनों से खडाब पड़ा है. एमडीएम और बच्चों की अनुपस्थिति के बारे में पूछने पर सहायक शिक्षक ने बताया कि देर से बच्चे आते हैं इसलिये अभी एमडीएम अभी नही बना है. वहीं कुछ ग्रामीणों ने बताया कि पिछले कई दिनों से एमडीएम नही बना है. जबकि रसोईया ने बताया कि विद्यालय परिसर में लगा चापाकल कई महीनों से खडाब है. मुहल्ले के चापाकल से पानी लाकर एमडीएम बनाना पड़ता है. वहीं 8.40 बजे सुबह में प्राथमिक विद्यालय बरही में एक सहायक शिक्षिका आठ दस बच्चों के साथ ललिता झा मौजूद थीं. बच्चों ने बताया कि चुनाव से पहले से ही एमडीएम बंद है. जबकि दो चापाकल में एक बंद और एक चालू था. 8.45 में प्राथमिक विद्यालय करही टोले बरही में तीन शिक्षकों में महज एक शिक्षक राधेश्याम ठाकुर दो तीन अभिभावकों से बाते करने में मशगूल थे. विद्यार्थी पूरी तरह नदारद थे. उपस्थित शिक्षक श्री ठाकुर ने बताया कि चावल नही रहने के कारण करीब 15 दिनों से एमडीएम बंद है. विद्यालय में चापाकल नाम और भवन नाम की कोई चीज नही है. बता दें कि उक्त विद्यालय गांव के एक अनुसूचित दालान में विद्यालय संचालन की खानापूरी की जाती है. कुल मिलाकर तीनों विद्यालय में से एक में भी एमडीएम नही बन रहा था वहीं दो विद्यालय में तो एक भी बच्चें भी नही थे.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...