पाकिस्तान छोड़ सभी पड़ोसी देशों के नेता शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 28 मई 2019

पाकिस्तान छोड़ सभी पड़ोसी देशों के नेता शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित

leaders-of-all-neighboring-countries-leaving-pakistan-invited-to-the-swearing-in-ceremony
नयी दिल्ली 27 मई , प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गुरूवार को होने वाले शपथ ग्र्रहण समारोह के लिए सभी बिम्सटेक देशों के नेताओं को आमंत्रित किया गया है। श्री मोदी ने जब 2014 में प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी तो उनके शपथ ग्रहण समारोह में दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संघ(दक्षेस) देशों के नेताओं को आमंत्रित किया गया था जिनमें पाकिस्तान भी शामिल था। इस बार बिम्सटेक के नेताओं को न्यौता दिया गया है लेकिन इस संगठन के सदस्यों में पाकिस्तान शामिल नहीं है। अभी तक कोई ऐसी आधिकारिक जानकारी नहीं कि पाकिस्तान को भी आमंत्रित किया जाएगा या नहीं। सरकारी प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि सरकार ने ‘पड़ाेसी पहले’ की अपनी नीति को ध्यान में रखते हुए बिम्सटेक देशों के नेताओं को प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित किया है। इन देशों में भारत के अलावा बंगलादेश, भूटान, नेपाल, श्रीलंका , म्यांमार और थाइलैंड शामिल हैं। उन्होंने कहा कि शंघाई सहयोग संगठन के मौजूदा अध्यक्ष और किर्गिस्तान के राष्ट्रपति एस जीन्बेकोव तथा मारिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ को भी शपथ ग्रहण समारोह का आमंत्रण भेजा गया है। श्री जगन्नाथ इस वर्ष प्रवासी भारतीय दिवस समारोह में मुख्य अतिथि थे। श्री मोदी गुरूवार को शाम सात बजे राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में मंत्रिपरिषद के सदस्यों के साथ शपथ लेंगे। वह लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...