बेगूसराय : कन्हैया कुमार ने कहा हिन्दू नहीं "विज्ञान लॉजिक और संविधान" खतरे में है - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 18 मई 2019

बेगूसराय : कन्हैया कुमार ने कहा हिन्दू नहीं "विज्ञान लॉजिक और संविधान" खतरे में है

science-and-constitution-in-denger
अरुण कुमार (आर्यावर्त) बंगाल हिंसा के दौरान ईश्वरचंद विद्यासागर की तोड़ी गई मूर्ति को लेकर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से बिहार के बेगूसराय सीट से लोकसभा चुनाव के उम्मीदवार कन्हैया कुमार ने अपने फेसबुक अकाउंट पर एक लंबा-चौड़ा पोस्ट लिखा है,जिसमे कन्हैया कुमार ने जिक्र किया है कि आज हिंदू नहीं बल्कि विज्ञान, लॉजिक और संविधान खतरे में हैं।कन्हैया कुमार ने लिखा, ”आज करोड़ों रुपये खर्च करके यह झूठ फैलाया जा रहा है कि देश में हिंदू ख़तरे में है।सच तो यह है कि आज हिंदू नहीं बल्कि विज्ञान, लॉजिक और संविधान ख़तरे में हैं। कन्हैया कुमार ने आगे लिखा, ”जिन लोगों ने विद्यासागर की मूर्ति तोड़ी है, उन्होंने असल में पूरे देश में विद्या के खिलाफ अघोषित युद्ध छेड़ रखा है। भाजपा ने पूरे देश में लगभग दो लाख सरकारी स्कूल बंद करा दिए हैं।हरियाणा में 300 से ज़्यादा स्कूलों में विज्ञान की पढ़ाई बंद करा दी गई है।शिक्षा के बजट में लगातार कटौती की जा रही है।इन तमाम कदमों के पीछे एक ही मकसद है और वह है नागरिकों को भीड़ में तब्दील करके एक ऐसी विचारधारा को मज़बूत करना जिसने आज तक लोकतंत्र और इंसानियत पर चोट करने के अलावा और कोई काम नहीं किया है। लोकतंत्र में हिंसा और प्रतिहिंसा की कोई जगह नहीं है।चाहे हिंसा किसी भी तरफ़ से हो, यह समस्या का समाधान नहीं है।जिन्होंने विद्यासागर की मूर्ति तोड़ी है, वे अगर भविष्य में विद्यासागर सेतु को भी तोड़ने की बात कहें तो हमें आश्चर्य नहीं होगा।अंग्रेजों ने फूट डालकर राज करने की नीति अपनाई थी और उनके लिए मुख़बिरी करने वाले लोग आज लोगों को बांटने के साथ उनका ध्यान भटकाने की नीति भी अपना रहे हैं।ध्यान भटकाना तभी आसान होगा जब स्कूल-अस्पताल पर बात नहीं करके श्मशान-कब्रिस्तान को राजनीति के केंद्र में रखा जाएगा।बौद्धिकता के खिलाफ नफरत का माहौल बनाने के लिए विश्वविद्यालयों को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ने वाली भाजपा ने देश का बहुत बड़ा नुकसान किया है।इस नुकसान की भरपाई चुनावी जीत से नहीं, बल्कि आने वाले समय में नागरिकों की सामूहिक कोशिशों से ही की जा सकेगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...