चर्चा : सिद्धू-कैप्टन घमासान, कांग्रेस में भूचाल का संकेत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 21 मई 2019

चर्चा : सिद्धू-कैप्टन घमासान, कांग्रेस में भूचाल का संकेत

siddhu-captan-war
राजनीति में कब क्या हो जाए कुछ कहा नहीं जा सकता। लेकिन अभी हाल ही में मतदान बाद के जो सर्वेक्षणों में संकेत मिले हैं उससे यही लग रहा है कि देश में एक बार फिर से नरेन्द्र मोदी की सरकार बनने जा रही है। वहीं दूसरी तरफ इस बात को भी अनदेखा नहीं किया जा सकता कि पंजाब कांग्रेस में एक घमासान भी प्रारंभ हो गया है। यह घमासान भारत में पाकिस्तान प्रेमी के रुप में बदनाम हो चुके पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की ओर से प्रारंभ हुआ है। हालांकि इस बार न तो उनके द्वारा पाकिस्तान के प्रति प्रेम का प्रदर्शन किया गया है और न ही कोई अनाप शनाप बयान ही दिया है। इस बार नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस की पंजाब सरकार के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह को आड़े हाथ लिया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि मेरी पत्नी झूठ नहीं बोलती, उसे मुख्यमंत्री अमरिन्दर के कारण ही कांग्रेस के टिकट से वंचित किया गया है। इसके बाद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने यह कहकर आग में घी डालने का प्रयास किया कि नवजोत सिंह सिद्धू मुझे हटाकर पंजाब के मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं। यहां यह स्पष्ट किया जा सकता है कि जब नवजोत सिंह सिद्धू भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए थे, उसी समय से उनके मन में यह सपना उफान मारने लगा था कि वे भी पंजाब के मुख्यमंत्री बन सकते हैं। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने इस सपने को उजागर कर दिया। पंजाब कांग्रेस में अभी तो राजनीतिक स्वार्थ मात्र सामने ही आया है, लेकिन जब बात निकली है तो दूर तक जाएगी। अभी तो यह घमासान पंजाब के अंदर ही शुरु हुआ है, लेकिन यह सच है कि देश में सत्ता परिवर्तन की हार्दिक इच्छा रखने वाली कांगे्रस पार्टी की दशा को मतदान बाद के सर्वेक्षण सही साबित करते हैं तो कांग्रेस के अंदर भूचाल लाने से कोई रोक नहीं सकता। कांगे्रस में नेताओं के समूह पूरे देश में हैं। कांग्रेस नेताओं की सबसे बड़ी कमी यही है कि वे कभी लोगों को कांग्रेस से नहीं जोड़ते, बल्कि अपने आपसे जोड़ते हैं। इसलिए आज कांग्रेस का प्रत्येक कार्यकर्ता पार्टी से नहीं, बल्कि किसी न किसी नेता के साथ ही जुड़ा है। यही कांग्रेस की गुटबाजी है।

पंजाब में भी कांग्रेस दो समूहों में विभाजित होने की कगार पर है। जिसमें अमरिन्दर सिंह के विरोधियों को नवजोत सिंह हवा देने का प्रयास कर रहे हैं तो अमरिन्दर सिंह इसे अपने अस्तित्व के लिए खतरा मान बैठे हैं। खैर.. इस बात से यह तो मानना ही पड़ेगा कि कांग्रेस में सब कुछ ठीक नहीं हैं। कांगे्रस नेतृत्व भले ही कितनी ही एकता की सफाई दे, लेकिन कांग्रेस का सच यही है कि वह समूहों में इस कदर विभाजित है कि एक दूसरे के विरोध राजनीतिक चाल चलते ही रहते हैं। कमोवेश यही हाल अभी हाल ही में सत्तासीन होने वाले राज्य मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भी है। चुनाव बाद के सर्वेक्षणों में जिस प्रकार से इन राज्यों की तसवीर दिखाई गई है, वह इन समूहों का घातक परिणाम कहा जा सकता है। इन राज्यों में भी पंजाब की ही तरह कांग्रेस पार्टी के अंदर ही मुख्यमंत्रियों के विरोध में जबरदस्त वातावरण है। भले ही यह ऊपर से दिखाई न दे, लेकिन जनता सब जानती है। एक दूसरे के विरोध में जबरदस्त वातावरण तैयार कर निपटाने की योजना बनाई जाती है। कहा यह भी जाता है कि भोपाल से चुनाव मैदान में उतरे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह भी ऐसी ही राजनीति का शिकार हुए हैं। अभी पंजाब सरकार के विरोध में उनके अपने ही बयानबाजी कर रहे हैं, कहीं ऐसा न हो कि लोकसभा चुनाव परिणाम आने के बाद पूरी कांग्रेस में ही विस्फोट हो जाए। हम जानते हैं कि 2014 के चुनाव परिणामों के बाद कांगे्रस के वरिष्ठ नेताओं ने ही अपने राष्ट्रीय नेतृत्व पर सवाल उठाए थे। राहुल गांधी को कांग्रेस का सर्वेसर्वा बनाए जाने के बाद पूर्व केन्द्रीय मंत्री जयराम रमेश तो यहां तक कह दिया था कि अब कांगे्रस में वरिष्ठ नेताओं की कोई कद्र नहीं। अगर इस चुनाव के परिणाम भी कांग्रेस की हालत को सुधारने में असफल होते हैं तो संभवत: सवाल उठाने वालों की संख्या बढ़ भी सकती है। हालांकि इसकी अभी प्रतीक्षा करनी होगी।




सुरेश हिन्दुस्थानी
102 शुभदीप अपार्टमेंट
कमानी पुल के पास, लक्ष्मीगंज
लश्कर ग्वालियर मध्यप्रदेश
मोबाइल-9770015780

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...