बिहार : दादर घाट पुल का विधायक ने किया निरीक्षण, ग्रामीणों को जल्द निर्माण का दिया आश्वासन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 22 जून 2019

बिहार : दादर घाट पुल का विधायक ने किया निरीक्षण, ग्रामीणों को जल्द निर्माण का दिया आश्वासन

dadar-ghat-bridge-inaugrated
जलालगढ़ : प्रखंड के दादर घाट पुल के टूटने की खबर मिलने के साथ ही कसबा विधायक मो आफाक आलम ने उक्त पुल का निरीक्षण किया। उनके पहुंचते ही ग्रामीणों की भीड़ लग गई। ग्रामीणों ने विधायक से इस पुल के क्षतिग्रस्त होने की बात पूर्व से ही कह रहे थे और वैकल्पिक व्यवस्था की भी मांग कर रहे थे। विधायक ने ग्रामीणों को बताया कि इस दादर घाट पुल को लेकर पूर्व में विधानसभा में आवाज उठाई गई है। लगातार इस पुल को लेकर एग्जीक्यूटिव इंजीनियर से लिखित व मौखिक रूप से पुल की मरम्मती को ले संवाद कर रहे थे। लेकिन फंड नहीं होने के कारण न तो इस पुल की रिपेयरिंग की गई और न ही नया पुल का निर्माण हो सका है। उन्होंने बताया कि इस पुल पर वैकल्पिक व्यवस्था के लिए उच्चाधिकारियों से बात की जाएगी। ग्रामीणों को आश्वासन देते हुए उन्होंने कहा कि 28 जून से सदन का सत्र शुरू होगा। सदन में इस मुद्दे को उठाया जाएगा। बता दें कि दादर घाट पुल 2005 से क्षतिग्रस्त है और वर्ष 2017 में आई बाढ़ में यह पुल पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया। जिससे आवागमन करने में ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। लोगों की शिकायत पर सीओ व बीडीओ ने पहल की थी और पूर्व में पुल पर तत्काल आवागमन बहाल करने के लिए बेडमिसाइल व ईंट का टुकड़ा डालकर वाहनों का परिचालन शुरू कराया गया था। लेकिन बारिश होने के बाद स्थिति विषम हो जाती है। इस पुल के टूटने से अररिया, किशनगज, पूर्णिया के कई पंचायतों के लोगों का संपर्क टूट गया है। हल्की बारिश होने पर लोगों को 6 से 10 किमी की ज्यादा दूरी तय करनी पड़ती है। इस मौके पर विधायक प्रतिनिधि शकील अहमद, कांग्रेस प्रखंड अध्यक्ष सुमित दूबे, पुराण दास, परमानंद मंडल, प्रदीप मंडल, मो सत्तार, पप्पू, संजीव कुशवाहा समेत कई अन्य ग्रामीण मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...