पूर्णिया : दुर्घटना को दावत दे रहा सड़क किनारे सूखा पेड़ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 21 जून 2019

पूर्णिया : दुर्घटना को दावत दे रहा सड़क किनारे सूखा पेड़

dry-denger-tree-purnia
पूर्णिया  : आए दिन सड़क के किनारे सूखे पेड़ के कारण दुर्घटना होती रहती है। प्रशासन की देख रेख में कमी के कारण अभी भी मुख्य मार्ग के किनारे सूखे पेड़ दो तीन वर्षों से पड़े हैं। लेकिन वन विभाग के अधिकारियों का ध्यान इस ओर नहीं जा रहा है। बता दें कि कटिहार पूर्णिया मुख्य मार्ग के किनारे दर्जनों सूखे पेड़ हैं और कई बार सूखे पेड़ की टहनियां टूट कर सड़क पर गिर चुकी हैं। इस मार्ग से प्रतिदिन हजारों की संख्या में छोटी बड़ी गाड़ियों की आवाजाही होती है। रानीपतरा बाजार के समीप वर्षों से एक सूखा पेड़ मुख्य मार्ग के समीप खड़ा है। जो कभी भी राहगीरों के लिए दुर्घटना का कारण बन सकता है। अगर सही समय पर विभाग द्वारा ऐसे झुके व सूखे पेड़ को काट कर नहीं हटाया गया तो बेशक बड़ी दुर्घटना को टाला नहीं जा सकता है। ऐसे सूखे पेड़ हल्की बारिश होने से या हवा चलने से गिर जाते हैं। जिससे कभी भी बड़ी घटना घटित होने की संभावना बनी हुई है। वहीं कटिहार पूर्णिया मुख्य मार्ग के रानीपतरा, मटिया, सतडोभ, श्रीनगर, दिवानगंज, बेलौरी आदि जगहों पर दर्जनों सूखे पेड़ हैं। स्थानीय राजेश कुमार, रण विजय पोद्दार, बलवीर साह, अरुण कुमार बताते हैं कि वर्षों से ये सूखे पेड़ सड़क किनारे हैं। यहां से गुजरने के समय काफी डर लगा रहता है। ऐसा लगता है किसी भी वक्त यह पेड़ गिर जाएगा। कुछ ग्रामीणों ने बताया कि कई बार वन विभाग के पदाधिकारियों को बोला भी गया है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। लोगों का कहना है कि वन विभाग के अधिकारी प्रतिदिन बेलोरी स्थित दर्जनों लकड़ी मिल जांच करने आते हैं और वहीं से लौट जाते हैं। वन विभाग के कोई भी अधिकारी रानीपतरा जाकर सूखे पेड़ की स्थिति जानना भी व्यर्थ समझते हैं। यही सूखे पेड़ जब बड़ी दुर्घटना को अंजाम दे देंगे तब वन विभाग के अधिकारी आकर आनन फानन में पेड़ को काट कर हटाएंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...