बेगूसराय : चर्चित कवि रामेश्वर प्रशांत जी पारलौकिक हुए - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 6 जून 2019

बेगूसराय : चर्चित कवि रामेश्वर प्रशांत जी पारलौकिक हुए

jan-kavi-poet-rameshwar-prashant-passes-away
अरुण कुमार (आर्यावर्त) जन संस्कृति मंच की नाट्य इकाई रंगनायक द लेफ्ट थिएटर,बेगूसराय के कलाकारों द्वारा भाकपा माले नगर पार्टी ऑफिस में आज जनपद के क्रांतिकारी कवि व दिनकर जनपदीय सम्मान से सम्मानित कवि रामेश्वर प्रशांत जी के निधन पर मौन धारण व शोक प्रकट कर श्रद्धांजलि अर्पित की गई।कविवर प्रशांत महीनों से बेड पर बीमार चल रहे थे। अंततः आज लम्बी बिमारी के बाद अपने निवास स्थान गढ़हरा में उन्होंने अंतिम सांस ली।शोकाकुल जसम के राज्य उपाध्यक्ष व रंगनिर्देशक दीपक सिन्हा ने कहा कि रामेश्वर प्रशांत का जाना साहित्य जगत के लिए एक अपूर्णनीय क्षति है।उनकी कविताओं मे क्रांतिधर्मिता का सुगंध है।कवि रामेश्वर क्रांतिकारी विचारों के कवि थे।मौके पर रंगकर्मी सचिन कुमार,मोहित मोहन,अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा,विजय कृष्ण,ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय नाट्य विभाग के अतिथि अनुदेशक प्रो० संतोष कु० राणा, अमरेश कुमार, गोविन्द, कन्हैया, सोनू, यथार्थ, आदि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...