बिहार : आर्थिक पुनर्वास और कोशी की समस्या के निराकरण की पहल करने की मांग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 25 जून 2019

बिहार : आर्थिक पुनर्वास और कोशी की समस्या के निराकरण की पहल करने की मांग

  • कोशी नव निर्माण मंच के बैनर तले बातचीत 26 जून को 4 बजे से

मुजफ्फरपुर में नौनिहालों के काल के गाल में धकेलने वाली घटना से मर्माहत होते हुए भी इस पूर्व निर्धारित कार्यक्रम को बड़े भारीमन से आयोजित कर रहे है। मीडिया के साथिओं से बातचीत 3 बजे से और अन्य सभी साथियों से 4 बजे अपराह्न से रखी गयी है।
kosi-rehablitation
सहरसा। इस जिले के कोशी तटबन्ध के बीच में जीने को बाध्य लोग। ऐसे लोग अपने साथ हो रहे अन्याय के खिलाफ सिर उठाने लगे हैं। अब एक नए सिरे से संघर्ष करने के मन बना रहे हैं। कोशी नव निर्माण मंच के बैनर तले एकजुट हो रहे हैं।

लगान मुक्ति अभियान शुरू
कई साल गुजर जाने के बाद भी प्रलयकारी कोशी प्रलय के सदमे से उभरे नहीं हैं। अपने बालू भरे खेतों, नदी की बहती धाराओं की जमीन पर लगान व सेस को समाप्त कर जमीन का मालिकाना हक भूधारी किसान के पास रखने, व उनकी जमीन की हुई बर्बादी की क्षति देने सम्बन्धी कानून बनाने के साथ ही आर्थिक पुनर्वास और कोशी की समस्या के निराकरण की पहल करने की मांग को लेकर कोशी नव निर्माण मंच के बैनर तले लगान मुक्ति अभियान शुरू किए है।

मानसून सत्र के पूर्व पटना में आ रहे हैं
पटना यूथ हॉस्टल, फ्रेजर रोड( गाँधी मैदान के समीप) 26 जून को की बातचीत में हजारों- हजार की संख्या में पीड़ित पटना आ रहे हैं। अपने साथ आवेदन पत्र भी लेकर आ रहे हैं। सभी आवेदन मुख्यमंत्री के नाम बना रहे हैं। पटना आने के बाद यह प्रयास होगा कि बिहार के माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से एक प्रतिनिधि मंडल मिले। कोशी नव निर्माण मंच के महेन्द्र यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी से समय निर्धारित करने की मांग की गयी है जो अभी नही मिला है। 

बिहार विधान सभा के मानसून सत्र 28 जून से
28 जून को सत्र के शुरूआत में ही वित्तीय वर्ष का पहला सप्लीमेंट्री बजट पेश किया जाएगा। 1 जुलाई को वित्तीय वर्ष 2019.20 के आय व्यय पर चर्चा की जाएगा। जबकि 2 जुलाई को बजट 2019.20 पर सरकार का जवाब आएगा। विधानसभा के मानसून सत्र के पूर्व अपनी बातों को राजधानी में उठाने के बातचीत का आयोजन कर रहे है। मुजफ्फरपुर में नौनिहालों के काल के गाल में धकेलने वाली घटना से मर्माहत होते हुए भी इस पूर्व निर्धारित कार्यक्रम को बड़े भारीमन से आयोजित कर रहे है। मीडिया के साथिओं से बातचीत 3 बजे से और अन्य सभी साथियों से 4 बजे अपराह्न से रखी गयी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...