दुमका : विश्व कवि रविन्द्र नाथ टैगोर बहुआयामी प्रतिभा के धनी थेः डाॅ. रंजीत कु. सिंह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 24 जून 2019

दुमका : विश्व कवि रविन्द्र नाथ टैगोर बहुआयामी प्रतिभा के धनी थेः डाॅ. रंजीत कु. सिंह

ravindra-nath-thakur
दुमका (अमरेन्द्र सुमन) टैगोर विचार मंच साहिबगंज के तत्वावधान में दिन रविवार (23 जून) को स्टेशन परिसर साहिबगंज में द्वार विश्व कवि व नोबेल पुरस्कार विजेता कविगुरु रविंद्र नाथ टैगोर की प्रतिमा का अनावरण किया गया। इस अवसर पर एक विचार गोष्ठी का भी आयोजन किया गया। टैगोर विचार मंच के अध्यक्ष डॉ रंजीत कुमार सिंह ने इस अवसर पर कहा कि विश्व कवि रविन्द्र नाथ टैगोर बहुआयामी प्रतिभा के धनी थे। चाहे साहित्य का क्षेत्र हो या फिर संगीत, चित्रकला, मानव सेवा व जनकल्याण का, उपरोक्त सभी क्षेत्रों में कविगुरु ने भारतीय समाज व दुनिया को अमूल्य भेंट दिया है। बतौर मुख्य अतिथि बोरियो विधायक ताला मरांडी ने इस कार्यक्रम के  आयोजकों को बधाई दी और कहा कि उनके इस सराहनीय कदम से टैगोर के विचारों की महक साहिबगंज की अनुपम धरती पर सुशोभित हो रही है।  उन्होंने सुझाव दिया कि स्मारिका व मासिक पत्रिका (साहित्यिक) के माध्यम से जन जन तक उनका संदेश पहुंचाने का काम हो। समाजसेवी सिंघेश्वर मंडल ने यह कहा टैगोर भारत के सबसे महान लेखकों में एक गिने जाते हैं। उनका साहित्य मानवता, जन कल्याण व देशप्रेम की भावनाओं से सराबोर है ओतप्रोत है। हमें टैगोर के विचारों को अपनाकर समाज को गढ़ने की दिशा में काम करने की जरुरत है। एनएसएस की छात्रा नमिता कुमारी ने कहा कि रविंद्र नाथ टैगोर एक कवि, साहित्यकार, नाटककार व संगीतकार ही नहीं बल्कि एक श्रेष्ठ व्यक्ति भी थे। टैगोर को शब्दों में पिरोया नहीं जा सकता। उनकी भूमिका इस संसार में अतुलनीय है। यदि उनके  कार्यों को किसी शब्दों में पिरोया जाये तो वह भी कम पड़ जाए। उनकी उपलब्धियों की व्याख्या में एक और गीतांजलि की रचना की जा सकती है। उनकी अप्रतिम रचनाओं में अलौकिक छटा देखने को मिलती है। एनएसएस छात्र अमन कुमार होली ने कहा कि किसी भी देश की संस्कृति व सभ्यता मात्र घटनाओं, तिथियों, सिद्धांतों व नियमों की स्थापना से रूपांतरित नहीं होती बल्कि उनका सत्य और यथार्थ रविंद्र नाथ जैसे मनीषियों का जीवन है जो उनके कार्यों से रूपांतरित होती है। टैगोर विचार मंच के सचिव हिमांशु शेखर गुहा ने धन्यवाद ज्ञापित किया। रवीन्द्र विचार मंच के तत्वावधान में नव निर्मित भव्य मूर्ति पुनर्स्थापित कार्यक्रम के मुख्य अतिथि व बोरियो विधायक ताला मरांडी के अलावे इस कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि नगर अध्यक्ष श्रीनिवास यादव के द्वारा टैगोर मूर्ति का अनावरण किया गया। इस अवसर पर मालदह (कोलकाता) के संजीव नियोगी, बिमलेन्दू बोष विप्लव राय चैधरी, शिक्षक मुरलीधर ठाकुर, मंच के सिद्धेश्वर मंडल, हिमांशु शेखर गुहा, सोना पाल, कल्याण श्रीवास्तव, दिनानाथ झा, शशी कुमार सुमन, चंपक दत्ता, सोमनाथ व महाविद्यालय की नमिता कुमारी, अमन कुमार होली, रवि कुमार वर्मा, रवि कुमार, नरेंद्र ठाकुर, मनोज कुमार चैरसिया, राजीव कुमार पांड,े संजय कुमार मिश्रा, वृज बिहारी यादव, शशि कुमार सुमन, शशिभूषण झा, अभिजीत घोष, स्यामूल चैरसिया व अन्य लोग इस अवसर पर मौजूद थे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...