पूर्णिया : सामाजिक सरोकार से रखा वास्ता तो बन गया सबका चहेता - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 9 जून 2019

पूर्णिया : सामाजिक सरोकार से रखा वास्ता तो बन गया सबका चहेता

social-cause-makes-hero
कुमार गौरव । पूर्णिया : सामाजिक सरोकार से मतलब रखने वालों के लिए निजी स्वार्थ कोई मायने नहीं रखता है। बस हर हाल में आमजनों का कार्य होना चाहिए ताकि उन्हें अमन चैन की जिंदगी नसीब हो सके। कुछ ऐसा ही ख्याल रखते हैं शहर के समाजसेवी सोनी सिंह। उनका कहना है कि शहर की कई ऐसी समस्याएं व ऐतिहासिक धरोहर हैं जिस पर आजतक किसी की नजर नहीं गई। यही कारण है कि गाहे बगाहे वो इस दिशा में प्रयत्नशील रहते हैं ताकि जिला प्रशासन समेत हमारे जनप्रतिनिधि इसकी महत्ता समझें और कार्रवाई अमल में लाएं। उनके द्वारा उठाए गए मुद्दों पर तो अब लोगों के फीडबैक भी आ रहे हैं और यही कारण है कि निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ आवाज भी उठने लगी है। सामाजिक सरोकार से वास्ता रखने का ही नतीजा है कि शहर में अब सोनी सिंह की पहचान के मोहताज नहीं। रविवार को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर उन्होंने बिहार सरकार से बच्चों को विद्यालय में दिए जा रहे मध्याह्न भोजन व्यवस्था को सुदृढ़ एवं पारदर्शी बनाने की मांग की है। श्री सिंह ने कहा है कि केंद्र सरकार की यह महत्वाकांक्षी योजना अन्य राज्यों में बड़े सुचारु ढंग से चल रही है लेकिन बिहार में यह लालफीताशाही की शिकार हो गई है। उन्होंने मांग की है कि शिक्षकों को इस योजना से बिल्कुल अलग किया जाए ताकि पठन पाठन सही तरीके से हो। श्री सिंह ने कहा कि बच्चों के विद्यालय जाने के प्रति रुझान बढ़ाने वाली यह योजना आज बिहार में घपले और घोटाले की शिकार हो गई है। इसलिए सरकार को चाहिए कि एक ऐसी कारगर व्यवस्था बनाएं जिसमें बच्चों के निवाले की हकमारी न हो।

...किन किन मुद्दों पर उठाई आवाज : 
- समाजसेवी सोनी सिंह ने एक आरटीआई दाखिल कर चुनाव आयोग से आजादी के बाद अब तक बनमनखी विधानसभा क्षेत्र के सुरक्षित सीट को ले जानकारी मांगी। उन्होंने पूछा है कि बनमनखी विधानसभा क्षेत्र आजादी के बाद आज तक सुरक्षित सीट है और यह सामान्य क्षेत्र में परिवर्तित हो सकता है या नहीं? 
- पूर्णिया के झंडा चौक स्थित झंडोत्तोलन स्थान को अब तक राजकीय दर्जा हासिल नहीं हुआ है जो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। जबकि इसे लेकर जिलाधिकारी एवं मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा जा चुका है। झंडा चौक स्थित झंडोत्तोलन स्थान हमारे पूर्णिया ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय गौरव का स्थान है। क्योंकि इस स्थान पर देश की आजादी की औपचारिक घोषणा के साथ ही आजादी के दीवानों ने 14 अगस्त 1947 की मध्य रात्रि तिरंगा फहराकर अपने राष्ट्रप्रेम का इजहार किया था। 
- जिलाधिकारी से स्कूलों व चौक चौराहे पर प्याऊ लगाने की मांग
- जिला प्रशासन से खुदरा दवा विक्रेता के अमानवीय व मनमाने रवैये पर अंकुश लगाने की मांग
- सरकार से पूर्णिया के मौसम विज्ञान केंद्र के जीर्णोद्धार की मांग
- पूर्णिया के मौसम विज्ञान केंद्र में अत्याधुनिक यंत्र लगाने की मांग 
- शहर में जाम की समस्या से निजात दिलाने की मांग 
- शहर में मुख्य नालाें की सफाई समेत गली मोहल्लों में भी मानक स्तर की सफाई सुनिश्चित करने की मांग नगर निगम से की 
- विद्युत विभाग से जर्जर हो चुके बिजली खंभे व तार को दुरूस्त कराने की मांग 
- शहर में युवाओं के लिए खेल के मैदान को विकसित किए जाने 
- राजकीय कन्या उच्च विद्यालय पूर्णिया की टूटी चाहरदिवारी के निर्माण की मांग की ताकि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ मुहिम सार्थक हो सके 
- पूर्णिया के थाना चौक स्थित पुस्तकालय के कायाकल्प की मांग की। ताकि यहां के विभिन्न रचनाकारों की दुर्लभ रचनाएं युवाओं को नसीब हाे सके 
- कश्मीर में धारा 370 हटाने को लेकर एक जन जागरण रैली का आयोजन किया 
- 14 फरवरी को वैलेंटाइन डे नहीं बल्कि पूर्णिया स्थापना दिवस मनाने की आमजनों से अपील

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...