बिहार : अतिवृष्टि से बाढ़ आने की आशंका को नकारा नहीं जा सकता, प्रशासन तैयार रहे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 13 जुलाई 2019

बिहार : अतिवृष्टि से बाढ़ आने की आशंका को नकारा नहीं जा सकता, प्रशासन तैयार रहे

flood-alert-begusaray
अरुण कुमार (आर्यावर्त) बिहार बेगूसराय में मानसून की बारिश लगातार जारी है और अगले 24 घंटे में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।मौसम विभाग के अनुसार पटना,बेगूसराय समेत बिहार के कई जिलों में मूसलाधार बारिश होने के अनुमान हैं।पिछले एक सप्ताह से बिहार के लगभग सभी जिलों में लगातार बारिश हो रही है।इससे कई जिलों में बाढ़ का खतरा अब मंडराने लगा है। विशेषकर कोशी क्षेत्र सीमांचल और चंपारण में बाढ़ का पानी तबाही लेकर आ रही है।बेगूसराय गंगा नदी के जलस्तर में लगातार तेजी से वृद्धि हो रही है।वहीं बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में भी शनिवार के दिन से लगातार जलस्तर में वृद्धि जारी है।नेपाल में भारी बारिश होने के कारण पानी के जलस्तर में वृद्धि होने के पूरा अनुमान है।बेगूसराय बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता महेश्वर शर्मा से गंगा नदी और बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में लगातार हो रहे वृद्धि की जानकारी ली गई तो उन्होंने ताजा जानकारी देते हुए बताया कि पिछले दो दिनों के भीतर सिमरिया धाम स्थित राजेंद्र पुल घाट गंगा नदी के जलस्तर में एक मीटर पानी की वृद्धि हुई है और पिछले 24 घंटे के अन्दर गंगा नदी के जलस्तर में और वृद्धि होने की संभावना है।सिमरिया गंगा घाट में खतरे के निशान से मात्र छः मीटर नीचे पानी बह रही है।वही बूढ़ी गंडक नदी का पानी पिछले दो दिनों तक स्थिर था,लेकिन शनिवार के दिन से बूढ़ी गंडक नदी के पानी में भी लगातार वृद्धि हो रही है।बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर खतरे के निशान से सिउरी घाट में सात मीटर नीचे बह रही है।अभियंता का कहना है कि गंगा नदी और बूढ़ी गंडक नदी के तटबंध बिल्कुल सभी जगहों पर काफी दुरुस्त हैं।किसी प्रकार से बाढ़ का खतरा फिलहाल होने के अनुमान नहीं है,फिर भी सावधानी बरतना चाहिये और पूरी तरह से आपदा काल से निपटने के लिये तैयार भी रहना चाहिये।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...