सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 13 जुलाई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 13 जुलाई 2019

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 13 जुलाई

लोक अदालत का हुआ आयोजन, न्यायालय परिसर में इस अवसर पर किया गया वृक्षारोपण

sehore news
म.प्र. राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर द्वारा दिये गये निर्देशानुसार जिला एवं सत्र न्यायाधीश तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री राजवर्धन गुप्ता के मार्गदर्शन में शनिवार को माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण, दीप प्रज्वलन कर लोक अदालत का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री शशीन्द्र चौहान, अपर कलेक्टर श्री विनोद चतुर्वेदी, डीएफओ, प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय सुश्री नीना आशपुरे, प्रथम अपर जिला न्यायाधीश सुश्री अनिता वाजपेयी, तृतीय अपर जिला जज श्रीमती स्मृता सिंह ठाकुर, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री एस.के. नागौत्रा, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री शिवलाल केवट एवं न्यायाधीशगण श्री जफर इकबाल, श्री युगल रघुवंशी, श्रीमती किरण तुमराची, श्रीमती रिनि खान, श्री भारत सिंह रघुवंशी एवं ट्रेनी जज सुश्री रिचा भटेजा, के.शिवानी, श्री वैभव पटेल, श्री जितेन्द्र मंगलानी उपस्थित थे। अभिभाषक संघ अध्यक्ष श्री शरद जोशी एवं सचिव श्री लखन परमार तथा मुख्यालय के अधिवक्तागण एवं न्यायालयीन कर्मचारीगण उपस्थित थे। नेशनल लोक अदालत के शुभारंभ के पश्चात जिला न्यायालय परिसर में वृहद पैमाने पर वृक्षारोपण किया गया। जिला एवं सत्र न्यायाधीश तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री राजवर्धन गुप्ता द्वारा विभिन्न विभागों द्वारा लगाये गये स्टालों का निरीक्षण कर समस्त विभागों एवं उपस्थित जनसमूह और मीडिया को लोक अदालत को सफल बनाने हेतु योगदान देने के लिए प्रेरित किया गया। उनके प्रयास से परिवार न्यायालय सीहोर में लंबित एवं पारिवारिक विवाद में समझौता करवाया जाकर पति-पत्नि के बीच बिगड़ते संबंध को बचाकर  उन्हें तलाक की पीड़ा से बचाते हुए उनकी 3 वर्षीय छोटी बच्ची के भविष्य को देखते हुए समझौता करवाकर प्रकरण का निराकरण किया गया। पक्षकार श्रीमती इंद्रा शाक्य एवं कमल महावर के चेहरे पर समझौते के परिणाम स्वरूप प्रसन्नता की झलक देखी गई। पक्षकारों को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा नि:शुल्क पौधे वितरित किये जाकर पर्यावरण संरक्षण की जानकारी देते हुए अधिक से अधिक वृक्षारोपण करने के लिए प्रेरित किया गया। नेशनल लोक अदालत में 18 खंडपीठों में 162 आपराधिक प्रकरण रखे गये थे जिनमें से 19 प्रकरणों का निराकरण किया गया। धारा 138 प्ररक्राम्य अधिनियम के 545 रखे गये प्रकरणों में 88 प्रकरणों का समझौते से निराकरण किया गया जिसमें 1,60,53,291 रुपये की वसूली हुई। मोटर दुर्घटना दावा के 161 प्रकरणों में से 23 प्रकरणों का निराकरण किया गया जिसमें आवेददकगण को 61,91,500 रुपये दिलवाये जाने के आवार्ड पारित किये गये। इसी प्रकार विद्युत चोरी से संबंधित रखे गए 294 प्रकरणों में से 52 प्रकरणों का निराकरण हुआ जिनसे 10,29,988 रुपये की राजस्व प्राप्ति हुई। हिन्दु विवाह अधिनियम के 238 प्रकरणों में से 38 प्रकरणों का निराकरण समझौते के आधार पर किया गया। नेशनल लोक अदालत में विद्युत चोरी से संबंधित प्री-लिटिगेशन प्रकरण 3968 रखे गये थे जिनमें से 237 प्रकरणों का निराकरण किया जाकर 15,16,5640 रुपये की वसूली हुई। नेशनल लोक अदालत में नगरपालिका से संबंधित संपत्ति कर एवं जलकर के प्रकरण 1361 रखे गये थे जिनमें से 414 प्रकरणों का निराकरण किया जाकर 38,95,748 रुपये की वसूली हुई। बैंकों से संबंधित 4630 प्रकरण रखे गये थे जिनमें 97 प्रकरणों का निराकरण होकर 33,75,500 रुपये की वसूली की गई। इसी प्रकार प्री-लिटिगेशन मामलों में कुल 87,87,788 रुपये की वसूली हुई। कुल 748 प्रकरणों का निराकरण प्री-लिटिगेशन स्टेज पर होकर वसूली 87,87,788 रुपये एवं न्यायालों में लंबित प्रकरणों में से 232 प्रकरणों का निराकरण किया जाकर 2,64,21,774 रुपये के अवार्ड पारित किये गये। नेशनल लोक अदालत में बड़ी संख्या में प्ररकणों के निराकरण में पक्षकारों एवं अभिभाषको की उत्सुकता देखी गई। अधिकांश पक्षकार अपने प्रकरण का निराकरण समझौते के माध्यम से होने से चैहरे पर मुस्कान लेकर बिदा हुए।

जिला शिक्षा अधिकारी ने किया स्कूलों का आकस्मिक निरीक्षण तीन शिक्षकों को कारण बताओ सूचना पत्र जारी

जिला शिक्षा अधिकारी एवं एपीसी आर.एम.एस.ए.द्वारा जिले की शालाओं का आकस्मिक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान शासकीय हाईस्कूल बोरदी में पाया गया कि प्रभारी प्राचार्य प्रशिक्षण में गई हुई थी। एक शिक्षक एवं अतिथि शिक्षक उपस्थित होकर शैक्षणिक कार्य कर रहे थे। "एक परिसर एक शाला" के तहत स्कूल में साईन बोर्ड अभी तक नहीं लगाया गया है जिस पर जिला शिक्षा अधिकारी ने अप्रसन्नता व्यक्त की तथा "एक परिसर एक शाला" के तहत राज्य शासन के निर्देशों का पालन करने के निर्देश दिए गए। विकासखंड नसरुल्लागंज अन्तर्गत शासकीय प्राथमिक शाला सुभाष, वार्ड क्रमांक 1 नसरुल्लागंज का निरीक्षण किया गया जहां पर पाया गया कि तीन शिक्षक होने के बाद भी कक्षायें दो कक्षों में संयुक्त रूप से लगाई जा रही थी। कक्षा 1 के बच्चों को वर्णमाला का ज्ञान, कक्षा 2-3 के बच्चों को हिन्दी के ज्ञान में कमी पाई गई। कक्षा 4-5 के बच्चों का जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा जोड़ एवं गुणा कराये गये जिसमें बच्चों के ज्ञान में कमी पाई गई। इस पर जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा शाला के समस्त शिक्षकों को कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया गया। इसके साथ ही शिक्षक उपस्थिति पंजी पर दो पाली के हस्ताक्षर शिक्षकों द्वारा एक साथ किया जाना पाया गया। वर्कबुक में अभ्यास कार्य ठीक से नहीं किये गये है तथा शिक्षकों ने वर्कबुक में अपनी टीप भी अंकित नहीं की थी। इस पर जिला शिक्षा अधिकारी ने विकासखंड शिक्षा अधिकारी एवं बी.आर.सी.सी. को निर्देशित किया गया कि समस्त कार्यवाही पूर्ण कराकर पालन प्रतिवेदन प्रस्तुत किया जाना सुनिश्चत करें।

उन्मुखीकरण कार्यशाला संपन्न

sehore news
ए.एन.एम.प्रशिक्षण केन्द्र में प्रशिक्षु छात्राओं की उन्मुखीकरण कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला में जिला क्षय नियंत्रण अधिकारी डॉ. नमीता नीलकंठ द्वारा विस्तार से जानकारी दी गई। प्रशिक्षण में विश्व स्वास्थ्य संगठन के सीव्हीएच आफिसर डॉ.जतीन ठक्कर लैब सुपरवाईजर श्री महेन्द्र सिंह ठाकुर एवं लैब तकनीशियन सुशीला लाकरा द्वारा विस्तार से जानकारी दी गई। जिला क्षय नियंत्रण अधिकारी डॉ.नमीता नीलकंठ ने जानकारी दी कि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रभाकर तिवारी के दिशा निर्देशन में आयोजित उक्त कार्यशाला में पुनरीक्षित राष्टीय क्षय नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत टीबी के लक्षण, उपचार, डायग्नोसिस के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। शुगर एवं ब्लड प्रेशर के बारे में विस्तार से चर्चा की गई। तंबाकू नियंत्रण एवं वृद्धजनों के देखभाल के संदर्भ में समझाईश दी गई। एड्स नियंत्रण कार्यक्रम पर बताया गया कि किस तरह सावधानी बरतकर एड्स से बचा जा सकता है। इस दौरान प्रशिक्षु छात्राओं ने कई सवाल किए जिसके जवाब प्रशिक्षकों द्वारा दिए गए।

आरटीई में चयनित बच्चों का प्राइवेट स्कूलों में प्रवेश 20 जुलाई तक

शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अंतर्गत प्राइवेट स्कूलों की प्रथम प्रवेशित कक्षा में निःशुल्क प्रवेश के लिए चयनित बच्चों के आवंटित स्कूलों में प्रवेश की अंतिम तिथि 20 जुलाई निर्धारित की गई है। अशासकीय स्कूल मोबाईल एप के माध्यम से प्रवेशित बच्चों की एडमिशन रिपोर्टिंग कर सकेंगे। अंतिम तिथि के बाद अगर कोई बच्चा एडमिशन रिर्पोर्टिंग के लिये शेष रह जाता है, तो संबंधित स्कूल इसके लिये उत्तरदायी होंगे।  राज्य शिक्षा केन्द्र ने पालकों से आग्रह किया है कि वे अपने बच्चों का नि:शुल्क प्रवेश आंवटित प्राइवेट स्कूलों में 20 जुलाई तक अवश्य करवाएँ। इसके लिये पालकों को पोर्टल से आंवटन-पत्र डाउनलोड कर सीधे स्कूल में जमा करना होगा। आंवटन-पत्र के आधार पर ही स्कूल में एडमिशन मिलेगा।

शनिवार दिनांक 13 जुलाई 2019 को जिला न्यायालय सीहोर मे नेशनल लोक अदालत आयोजित हुई

मान्नीय सर्वोच्च न्यायालय एवं मान्नीय मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय जबलपुर के निर्देशानुसार मान्नीय जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सीहोर श्री राजवर्धन गुप्ता के मार्गदर्शन में जिला मुख्यालय सीहोर एवं जिले की समस्त तहसीलों में आज दिनांक 13.07.2019 को प्रातः 10.30 बजे जिला न्यायालय परिसर में देवी सरस्वती की प्रतिमाॅ के समक्ष दीप प्रज्वलित कर एवं न्यायालय परिसर में स्थापित राष्ट्रपिता महात्मा गाॅधी की प्रतिमाॅ पर पुष्प माला अर्पित कर नेशनल लोक अदालत का शुभारंभ किया गया।   गरिमामय कार्यक्रम में जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सीहोर श्री राजवर्धन गुप्ता, विशेष न्यायाधीश श्री अफसर जावेद खाॅन, ए.डी.एम. श्री विनोद कुमार चतुर्वेदी, पुलिस अधीक्षक श्री शशीन्द्र चैहान, वन मण्डलाधिकारी सीहोर, प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय सुश्री नीना आशापुरे, प्रथम अपर जिला जज सुश्री अनीता बाजपेयी, तृतीय अपर जिला जज श्रीमति स्मृता सिंह ठाकुर, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री एस.के.नागौत्रा, मुख्य न्यायिक मजिस्टेªट श्री शिवलाल केवट एवं न्यायाधीशगण श्री जफर इकबाल, श्री युगल रघुवंशी, श्रीमति किरण तुमराची, श्रीमति रिनि खांन, श्री भारत सिंह  रघुवंशी, एवं टेªनी जज सुश्री रिचा भटेजा, के.शिवानी, वैभव पटैल, श्री जितेन्द्र मंगलानी उपस्थित रहे।  अभिभाषक संघ सीहोर के अध्यक्ष श्री शरद जोशी एवं सचिव श्री लखन परमार तथा मुख्यालय सीहोर के अधिवक्तागण एवं न्यायालयीन कर्मचारीगण उपस्थित रहे।  नेशनल लोक अदालत के शुभारंभ के पश्चात जिला न्यायालय परिसर मे वृहद पैमाने पर वृक्षारोपण किया गया। नेशनल लोक अदालत में जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सीहोर श्री राजवर्धन गुप्ता द्वारा विभिन्न विभागों द्वारा लगाए गए स्टालों का निरीक्षण कर समस्त विभागों एंव उपस्थित जनसमूह और पत्रकारो को लोक अदालत को सफल बनाने हेतु योगदान देने हेतु प्रेरित किया गया।  उनके प्रयास से परिवार न्यायालय सीहोर में लंबित एक पारिवारिक विवाद में समझौता करवाया जाकर पति-पत्नी के बीच बिगड़ते हुए संबंध को बचाकर उन्हे तलाक की पीड़ा से बचाते हुए उनकी तीन वर्षीय छोटी बच्ची के भविष्य को देखते हुए समझौता करवा कर प्रकरण का निराकरण किया गया।  पक्षकार श्रीमति इन्द्रा शाक्य एवं कमल महावर के चैहरे पर समझौते के परिणाम स्वरूप प्रसन्नता की झलक देखी गई।  पक्षकारो को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा निःशुल्क पौधे वितरित किए जाकर पर्यावरण संरक्षण की जानकारी दी जाकर अधिक से अधिक वृक्षारोपण हेतु प्रेरित किया गया। नेशनल लोक अदालत में 18 खण्ड पीठो मे 162 आपराधिक प्रकरण रखे गए थे जिनमें से 19 प्रकरणो का निराकरण  किया गया।  धारा 138 परक्राम्य लिखित अधिनियम के 545 रखे गए प्रकरणो में से 88 प्रकरणों का समझौते से निराकरण किया गया जिसमें 1,60,53,291/- रूपये की वसूली हुई।  मोटर    दुर्घटना दावा के 161 प्रकरणों में से 23 प्रकरणो का निराकरण किया गया जिसमें आवेदकगण को 61,91,500/- रूपये दिलवाये जाने के आवार्ड पारित किए गए।  इसी प्रकार विद्युत चोरी से संबधित रखे गए 294 प्रकरणो में से 52 प्रकरणो का निराकरण हुआ जिनसे 10,29,988/- रूपये की राजस्व प्राप्ति हुई।  हिन्दु विवाह अधिनियम के 238 प्रकरणो में से 38 प्रकरणो का निराकरण समझौते के आधार पर किया गया।   नेशनल लोक अदालत में विद्युत चोरी से संबधित प्री-लिटिगेशन प्रकरण 3968 रखे गए थे जिनमें से 237 प्रकरणो का निराकरण किया जाकर 15,16,5640/- रूपये की वसूली हुई।  नेशनल लोक अदालत में नगर पालिका से संबधित सम्पत्ति कर एवं जलकर के प्रकरण 1361 रखे गए थे जिनमे से 414 प्रकरणो का निराकरण किया जाकर 38,95,748/- रूपये की वसूली हई।  बैंको से संबधित 4630 प्रकरण रखे गए थे जिनमें से 97 प्रकरणो का निराकरण होकर 33,75,500/- रूपये की वसूली की गई।  इस प्रकार प्री-लिटिगेशन मामलो में कुल 87,87,788/- रूपयो की वसूली हुई।   कुल 748 प्रकरणो का निराकरण प्री-लिटिगेशन स्टेज पर होकर वसूली 87,87,788/- रूपये एवं न्यायालयो में लंबित प्रकरणो में से 232 प्रकरणो का निराकरण किया जाकर 2,64,21,774/- रूपये के अवार्ड पारित किए गए।  नेशनल लोक अदालत में भारी संख्या में प्रकरणो के निराकरण में पक्षकारो एवं अभिभाषको की उत्सुकता देखी गई।  अधिकांश पक्षकार अपने प्रकरण का निराकरण समझौते के माध्यम से होने से चैहरे पर मुस्कान लेकर बिदा हुए।   जिला जनसंपर्क अधिकारी कु. अनुभा सिंह नेशनल लोक अदालत जैसे महत्वपूर्ण कार्यक्रम में बिना सूचना के चली गई।  जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सीहोर ने उनके इस व्यवहार पर असंतोष प्रकट किया।   

सावन माह में भक्त करेंगे रूद्धभिषेक और कावड़ यात्रा  मनाएंगे हरियाली अमावस्या,तीज और नागपंचमी रक्षा बंधन 

sehore news
सीहोर। देवशयनी एकादशी से देव उठनी एकादशी तक भगवान शंकर सृष्टि का संचालन करते है और इन चार माह में श्रावण माह भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है। पंडित सूनील शर्मा ने बताया की इस वर्ष १७ जुलाई बुधवार से सावन माह प्रारंभ होगा जोकी १५ अगस्त गुरूवार तक रहेगा। इस वर्ष सावन माह पूरे तीस दिनों का रहेगा जिसमें की चार सोमवार होंगे। सावन माह में शिव भक्त भगवान भोले नाथ  की भक्ति में डूबे रहते है और भक्तों के द्वारा  भगवान शंकर को प्रसन्न करने के लिए सावन माह में रूद्धाभिषेक कावड़ यात्रा भजन कीर्तन आदि धार्मिक अनुष्ठान आयोजित किए जाते है।  सनातन परंपरा में कावड् यात्रा का विषेष महत्व है हर साल शिव भकतें के द्वारा सुख समृद्धी की कामना के कावड़ यात्रा की जाती है सावन माह में भक्तों के द्वारा गंगा जल नर्मदा जल या फिर किसी नदी विशेष के शुद्ध जल से भगवान शंकर का जलाभिषेक करते हे।  सावन माह में भक्तों के द्वारा भगवान शंकर माता पार्वती, कार्तिकेय, स्वामी भगवान गणेश  नंदीगण और सर्पदेव की विशेष पूजा अर्चना की जाती है। श्री शर्मा के अनुसार इस वार सावन माह में दूसरे और चौथे सोमवार को प्रदोष रहेगा। धार्मिक मान्यता अनुसार सोमवार को पढऩे वाले प्रदोष को सोम प्रदोष कहते है। सावन माह में हरियाली अमावस्या हरियाली तीज, नागपंचमी रक्षा बंधन आदि धार्मिक त्योहार आते है। इस बार सावन के महिने का प्रथम दिन सूर्य के उत्रराषाढ़ नक्षत्र और विश्व कुंभ योग के साथ प्रारंभ होगा। इस बार हरियाली अमावस्या पर पंचमहायोग का संयोग रहेगा यह संयोग १२५ वर्ष होगा। एक अगस्त को पहला सिद्धियोग दुसरा शुभयोग, तीसरा गुरूपुष्यामृत योग चौथा सवार्थ सिद्धियोग रहेगा और पांचवा अमृत सिद्धी योग का संयोग है। इस दिन हरियाली अमावस्या मनाई जाएगी। श्रावण मास में तीसरे सोमवार को नागपंचमी पर्व रहेगा। नागपंचमी और सोमवार दोनों हीं दिन भगवान शंकर की आराधना के लिए श्रेष्ठ होते है। श्रावण मास में रक्षा बंधन श्रवण नक्षत्र के संयोग में मनाया जाएगा। 

नहीं हटाए जाएंगे पॉलिटेक्रिक अतिथि व्याख्याता  नियमितिकरण की लड़ाई निरंतर जारी रखेगा संघ 
व्याख्याता संघ की सरकार ने कर दी है एक मांग पूरी 
sehore news
सीहोर। शासकीय महिला पॉलिटेक्रिक महाविद्यालय में कार्यरत अतिथि व्याख्याताओं को अब नहीं हटाया जाएगा। महिला पॉलिटेक्रिक महाविद्यालय में कार्यरत अतिथि व्याख्याताओं को सरकार के आदेश से बढ़ी राहत मिल गई है। इस से पहले अतिथि व्याख्याताओं को तय अवधी पूरी होने पर हटा दिया जाता था। मध्य प्रदेश सरकार ने अतिथि व्याख्याता संघ की एक मांग पूरी कर दी है। हालाकी अतिथि व्याख्याताओ के नियमितिकरण के लिए संघ के द्वारा जारी लड़ाई निरंतर जारी रहेगी।  मध्य प्रदेश अतिथि व्याख्याता संघ के जिला संयोजक विश्वास बगवैया ने बताया की अतिथि व्याख्याताओं को अधिकतम ११ माह की नियुक्ति दी जाएगी। इस के लिए किसी भी प्रकार की चयन प्रक्रिया की अब आवश्यकता नहीं है। शासन ने संघ की मांग के मुताबिक १२ जुलाई को विभागीय आदेश जारी कर दिया है। संघ सरंक्षक लोकेंद्र गुर्जर, प्रदेशाध्यक्ष योगेश इन्दोरिया,उपाध्यक्ष जसबंत सिंह, रवि खटीक, पूजा सक्सेना, निशांत चौरसिया, दिनेश कुमार जैन, अखिलेश सेन, राहुल यादव, पूजा मांझी विश्वास बगवैया आदि अतिथि व्याख्याताओं ने सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...