रांची : BJP और AJSU के बीच गठबंधन पर बनी सहमति - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 13 नवंबर 2019

रांची : BJP और AJSU के बीच गठबंधन पर बनी सहमति

चार सीटों पर भाजपा और आजसू के होंगे अलग-अलग उम्मीदवार, घोषणा बाकि, अमित शाह से ही माने सुदेश, रघुवर को नहीं दिया तवज्जो
bjp-ajsu-agree-for-tie-up-jharkhand
रांची (आर्यावर्त संवाददाता) भाजपा और आजसू के बीच गठबंधन को लेकर लगभग सहमति बन गयी है. बताया जाता है कि भाजपा और आजसू के बीच गठबंधन में ही चुनाव लड़ा जायेगा. भाजपा की ओर से आजसू को दस सीटें दी गयी है जबकि चार सीटों पर दोस्ताना मुकाबला होगा यानी आजसू भी अपना प्रत्याशी देगी और भाजपा भी प्रत्याशी देगी. बताया जाता है कि चंदनकियारी विधानसभा सीट पर भाजपा के प्रत्याशी को टिकट मिलेगा. यहां भाजपा के उम्मीदवार मंत्री अमर कुमार बाउरी हो सकते है, जो अब तक झारखंड विकास मोरचा से विधायक बने थे. अमर कुमार बाउरी झाविमो छोड़कर बाद में भाजपा में शामिल हुए थे. इस कारण उनके टिकट पर ही संकट था. हालांकि, आजसू भी चंदनकियारी पर प्रत्याशी देना चाह रही थी. इसी तरह भाजपा लोहरदगा सीट पर कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुखदेव भगत को प्रत्याशी बनाया है. देर रात उनके नाम की घोषणा की गयी, जिसके बाद लोहरदगा से सुखदेव भगत ने अपना नामांकन दाखिल कर दिया. भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के साथ हुई बातचीत के बाद आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो माने है, लेकिन अपनी जो 13 से अधिक सीट को लेकर बातचीत का रास्ता खुला हुआ रखे हुए है. वैसे इस पूरे प्रकरण में सुदेश महतो ने सिर्फ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से ही बातचीत की है. अमित शाह से नीचे उन्होंने किसी से बातचीत नहीं की. भाजपा के प्रदेश प्रभारी ओम माथुर ने जब बातचीत करने की कोशिश की तो उन्होंने यह कहते हुए बात करने से इनकार कर दिया था कि जब उनकी बातों को सुना ही नहीं गया तो उनके लेवल पर क्या बात करना है. इसके अलावा आजसू सुप्रीमो ने राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास से भी कभी बात नहीं की और उनको कभी तवज्जो ही नहीं दिया. शीर्ष नेतृत्व से बातचीत करने के बाद ही डील फाइनल हुआ है, लेकिन कोई इसकी अधिकारिक घोषणा करने को तैयार नहीं है.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...