कार सेवकों पर दर्ज मुकदमे वापस लेने की मांग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 12 नवंबर 2019

कार सेवकों पर दर्ज मुकदमे वापस लेने की मांग

demand-withdraw-case-on-karsewak
लखनऊ, 12 नवंबर, स्वामी चक्रपाणि की अगुवाई वाले हिंदू महासभा के धड़े ने मंगलवार को बाबरी मस्जिद विध्वंस के मामले में कारसेवकों के खिलाफ दर्ज मुकदमों को वापस लेने की मांग की। साथ ही संगठन ने कार सेवा के दौरान मारे गए कार सेवकों को शहीद का दर्जा देने की भी मांग की। महासभा ने दिल्ली के पते से आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजे गए पत्र में यह मांग की। चक्रपाणि ने खत में कहा है कि गत नौ नवंबर को उच्चतम न्यायालय ने अपने आदेश में कहा कि जिस स्थान पर बाबरी मस्जिद थी, वहां पहले मंदिर हुआ करता था। ऐसे में विवादित स्थल पर बने ढांचे का गुंबद बाबरी मस्जिद का नहीं बल्कि मंदिर का ही था लिहाजा बाबरी मस्जिद ढहाने के मामले में कारसेवकों पर दर्ज मुकदमे फौरन वापस लिए जाने चाहिए। पत्र में यह भी कहा गया है कि कार सेवा के दौरान मारे गए कारसेवकों को शहीद का दर्जा दिया जाए और उनकी सूची को प्रमुख स्थानों पर प्रदर्शित किया जाए। साथ ही उनके परिवार को वित्तीय सहायता तथा नौकरी भी दी जाए। पत्र में चक्रपाणि ने यह भी कहा है कि भगवान राम के वे सभी भक्तों जिन्होंने मंदिर निर्माण के लिए कार सेवा की थी, उन्हें स्वतंत्रता सेनानी की तर्ज पर 'धार्मिक सेनानी' घोषित किया जाए। आर्थिक रूप से कमजोर धार्मिक सेनानियों को प्रति माह वेतन और सरकारी सुविधाएं दी जाएं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...