शिवसेना सुप्रीम कोर्ट में विशेष उल्लेख करने से पीछे हटी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 13 नवंबर 2019

शिवसेना सुप्रीम कोर्ट में विशेष उल्लेख करने से पीछे हटी

shiv-sena-backtracks-from-making-special-mention-in-supreme-court
नयी दिल्ली, 13 नवंबर, महाराष्ट्र में नये राजनीतिक घटनाक्रमों के बीच शिवसेना ने बुधवार को उच्चतम न्यायालय में मामले का विशेष उल्लेख नहीं किया।महाराष्ट्र में सरकार बनाने के बारे में निर्णय को लेकर कुछ अतिरिक्त मोहलत नहीं दिये जाने के राज्यपाल के निर्णय के खिलाफ शिवसेना को आज सुबह शीर्ष अदालत में मामले का विशेष उल्लेख करना था, लेकिन राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के बाद पार्टी मामले का विशेष उल्लेख करने से पीछे हट गयी।शिवसेना के वकील सुनील फर्नांडिस ने यहां बताया कि कल रात राज्य में लगाए गए राष्ट्रपति शासन के मद्देनजर यह निर्णय लिया गया है।गौरतलब है कि शिवसेना ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने के बारे में निर्णय को लेकर कुछ अतिरिक्त मोहलत नहीं दिए जाने के राज्यपाल के निर्णय के खिलाफ कल शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया था।शिवसेना ने मामले की त्वरित सुनवाई का भी न्यायालय से अनुरोध किया था। याचिका में महाराष्ट्र सरकार के अलावा कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) को भी पार्टी बनाया गया था।शिवसेना ने माँग की थी कि उन्हें राकांपा और कांग्रेस से समर्थन का पत्र लेने के लिए तीन दिन का समय दिया जाए।याचिका में आरोप लगाया है कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी भारतीय जनता पार्टी के इशारों पर काम कर रहे है। राकांपा ने आरोप लगाया है कि उसे सरकार बनाने के लिए ज़रूरी वक़्त नहीं दिया। राज्यपाल ने जहाँ भाजपा को समर्थन जुटाने के लिए 48 घण्टे का वक़्त दिया, वही शिव सेना को महज 24 घंटे मिले ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...