विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 17 मार्च - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 17 मार्च 2021

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 17 मार्च

किसानो की प्रमुख समस्याओ को विधायक भार्गव ने पूरी ताकत  से विधानसभा में रखा।


विदिशाः- विदिशा विधायक शशांक भार्गव को दिनांक 15.03.2021 को बजट सत्र में किसानो के हित में बोलने का अवसर प्राप्त हुआ, उक्त अवसर पर विधायक शशांक भार्गव ने किसानो के हित में पूरे सशक्त भाव से किसानो का पक्ष रखते हुए कहा कि भारत एक कृषि प्रधान देश है एवं 70 प्रतिशत आवादी खेती पर निर्भर है, इस लिए सरकार चाहे किसी की हो पूर्व में चुनी हुई कांग्रेस सरकार द्वारा किसानो के ़ऋण माफी की घोषणा की गई थी। प्रजातंत्र में कोई भी सरकार यदि निर्णय लेती है तो आने वाली सरकार उसका पालन करती है लेकिन बजट में दो लाख रूपये तक के ऋण माफ करने का कोई प्रावधान नही किया गया है। म.प्र. सरकार किसानो के ऋण माफ करने की प्रक्रिया का पालन करे, विदिशा जिले में प्राकृतिक आपदा आने पर किसानो भाईयो द्वारा अल्पकालीन ऋण जमा नही करने से कन्वर्जन कर दिया था और तीन साल की किश्ते बना दी गई थी। माननीय मुख्यमंत्री जी के निर्देंश पर लेकिन आज किश्तो की वापसी हो रही है तो हमारे यहाॅ 11 से 14  प्रतिशत की दर से ब्याज वसूला जा रहा है जबकि मा. मुख्यमंत्री जी ने उस समय 0 प्रतिशत पर ऋण उपलब्ध कराने की घोषणा की थी फिर किसानो के साथ अन्याय क्यो? इस संबंध में भी विधायक भार्गव ने कृषि मंत्री से कहा कि किसानों द्वारा जो किश्त जमा की जा रही है, उन पर कोई ब्याज न लगे ऐसे आदेश शीघ्र दिये जाये। उन्होने कहा कि विदिशा जिले के 14 हजार लगभग किसान भाई है अभी भी ऐेसे है जिन्होने बीमे की राशि जमा की लेकिन बैंक कृषि विभाग को जमा नही कर पाया, जिससे 14 हजार किसान बीमें की राशि पाने से वंचित हुए जिसे के संबंध में कलेक्टर विदिशा द्वार आदेश दिये की जिस बैंक की गलती है उसके अधिकारी अथवा बैक राशि की भरपाई करेगे, लेकिन उक्त भरपाई अभी तक नही हो पाई ऐसे किसानो की भरपाई का बजट में प्रावधान करे या फिर बैंको से दिलवाये। इसीक्रम में विधायक भार्गव ने कहा कि वर्ष 2019-20 और 2020-21 में प्राकृतिक आपदा में विदिशा जिले में जो खरीफ की फसल नष्ट हुई थी, उसमें एक बार 25 प्रतिशत और एक बार 33 प्रतिशत मुआवजा मिला है दोनो ही सालो का मुआवजा हमारे जिले के किसानो का बांकी है, इसका भी बजट में प्रावधान किया जाये। विधायक भार्गव ने विधानसभा में पूरे पुरजोर तरीके से मांग की कृषि विज्ञान केन्द्र जिसके लिए विदिशा मे जमीन आवंटन हो चुकी है इसकी स्थापना हेतु बजट में प्रावधान किया जाये। उन्होने नवीन कृषि मण्डी जो की 3 साल पहले से बनकर तैयार है, लेकिन लालफीताशाही के हस्तक्षेप के चलते मण्डी बोर्ड व्यापरियो को प्लाट उपलब्ध नही करा पा रहा है। इसीक्रम में विधायक भार्गव ने मांग की पूर्व में कृषि उपज मण्डी परिसर में किसानो को सस्ती दरो में भोजन की व्यवस्था थी, जो बंद हो गई है जिसे पुनः चालू किया जाये किसानों के लिए जो विश्राम गृह है उनमें बेड का प्रावधान किया जाये एवं म.प्र. समस्त मण्डीयों में विश्राम गृह का प्रावधान किया जाये, उनके द्वारा कृषि उपकरणों, को जी.एस.टी. से मुक्त रखा जाये की भी मांग की एवं ट्रेक्टर ट्राली, हार्वेस्टर को आर.टी.ओ पंजीयन से मुक्त रखे जाने की बात भी रखीे, साथ ही उन्होंने कहा कि सभी छोटे बडे किसान अपने खेतों पर भण्डार गृह बनाना चाहते है, लेकिन सरकार ने खेत के उपर भण्डार गृह बनाने के लिये कोई अनुदान नहंी देती इसका प्रावधान किया जाये। विधायक भार्गव की खेत पर गोदाम बनाने का सभापति महोदय द्वारा भी उक्त सुझाव को मान्य करते हुये कहा कि भार्गव जी बहुत अच्छा सुझाव दिया है कि सभी विधायक इसमें एक राह है, खेत पर कोई किसान मकान बनाकर रहता है तो उसको टेक्स देना पडता है, इसका भी परिक्षण किया जाये, साथ ही उन्होंने ऋण पुस्तिका के माध्यम से किसान को कितने लीटर डीजल कृषि कार्य हेतु आवश्यकता है, उस पर सब्सिडी दिये जाने की मांग भी रखी। किसानो के हित में उन्होंने न्यूनतम समर्थन मूल्य की खरीदी के बारे में कहा कि 3-4 विभागों को खरीदी के लिये जोडा गया है, जिनमें आपस मेें सामंजस्य नहीं होने से किसानो ंका माल समय पर एवं ढीक ढंग से नहीं तुल पाता खरीदी के समय एक विभाग बारदाना देता है एक तौल करता है एक विभाग क्वालिटी कन्ट्रोल करता है सोसायटियों पर खरीदी केन्द्रो पर सामंजस्य नहीं होता, कभी बोरी खत्म हो जाता है, कभी गुण नियंत्रक नहीं होता तो कभी ट्रांसर्पोटर गाडी नहीं लगाता जिसका खामयाजा किसानो ंको उठाना पडता है। उन्होंने कहा कि विदिशा जिले में किसी लालफीताशाही के चलते सरकार का 4500 टन गेहूॅ भींग गया था, जिसको सस्ती दरों पर बेचा गया था। उन्होने कहा कि पिछले साल खरीदी की अव्यवस्थाआंे के चलते करीब 2000 किसानों का माल विक्रय नहीं हो पाया था। पोर्टल बंद होने की बात कह कर स्टाफ बाले कह देते थे कि यहाॅ चले जाओ वहाॅ चले जाओ। उन्होने प्राईवेट गोदाम में रखे हुुये माल पर भी कहा कि एफसीआई द्वारा एक प्रतिशत बढकस गेन लिया जाता है, जिसका कोई हिसाब भारत सरकार अथवा राज्य सरकार को देखने नहीं मिला है, एक प्रतिशत गेन लेने की बजह से बजन पूरा करने के लिये गोदाम संचालक कुछ ऐसी प्रक्रियाए भी करते है जिसमे कि गेहूॅ का बजन बढ जाये इसका दुष्परिणाम यह होता है कि राशन की दुकानों पर गरीब लोगों को खराब ओर सडा गेहूॅ वितरण हो रहा है। इस संबंध में भी कार्यवाही की जाये।


गृह प्रवेशम कार्यक्रम आज


प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के अंतर्गत 18 मार्च गुरूवार को गृह प्रवेश कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। धार जिले में प्रातः 11 बजे से आयोजित ग्रामोदय वर्चुअल कार्यक्रम में केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह तथा ग्रामीण विकास एवं कृषि व किसान कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ओर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा वर्चुअल लोकार्पण किया जाएगा उनमें प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के 1.25 लाख से अधिक आवासो में हितग्राहियों का गृह प्रवेश इसके अलावा  1294 खेल मैदान, 6000 सामुदायिक स्वच्छता परिसर, 500 ग्राम पंचायत भवन तथा 1912 शांतिधाम शामिल है। पीएम आवास योजना के हितग्राहियों को 2000 करोड की किश्त राशि का वितरण भी किया जाएगा।   जिला पंचायत सीईओ श्रीमती नीतू माथुर ने बताया कि विदिशा जिले में 5102 आवासो में हितग्राहियों का गृह प्रवेश कराया जाएगा इसके अलावा वर्चुअल लोकार्पण कार्यक्रम के माध्यम से जिले में जिन कार्यो का लोकार्पण किया जाएगा उनमें 45 पंचायत भवन, 07 शांति धाम और 05 खेल मैदान भी शामिल है। 


उद्योग समस्याओं के निदान हेतु विशेष पहल 


vidisha news
कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा जिले में उद्योग स्थापन के संबंध में आने वाली समस्याओं के निराकरण हेतु विशेष पहल की जा रही है। उनके द्वारा प्रत्येक सप्ताह उद्योग स्थापन के संबंध में प्राप्त होने वाले आवेदनों की समीक्षा की जा रही है। खासकर आवेदनों में संलग्न होने वाले दस्तावेंजो की प्राप्ति के लिए उद्योग स्थापना करने वाले आवेदक भटकाव से बचें, समय पर उनके कार्य हो, आवेदनों में संलग्न किए जाने वाले दस्तावेंजो की जानकारी एक ही स्थल पर प्राप्त हो इत्यादि के लिए जिले में विशेष पहल की जा रही है।  कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा औद्योगिक इकाई स्थापना हेतु विभिन्न विभागो से संबंधित लंबित प्रकरणो की समीक्षा आज नवीन कलेक्ट्रेट के बेतवा सभागार कक्ष में की गई थी। उक्त बैठक में समिति के पदाधिकारी व उद्योगपति उपस्थित रहें।  कलेक्टर डॉ जैन ने उद्योग इकाईयों, स्वरोजगार इकाईयों के विभिन्न विभागो, संस्थाओं में अनुमतियों, स्वीकृतियों से संबंधित लंबित निम्नांकित प्रकरणो के निराकरण हेतु विशेष पहल तहत चर्चा कर निर्णय लिए गए है जिसमें मुख्य रूप से फायर एनओसी के संबंध में प्राप्त आवेदनों का निराकरण किया गया। इसके अलावा औद्योगिक क्षेत्र कंजना के उदगमियों द्वारा हाईटेंशन लाइन हटाए जाने के संबंध में अवगत कराया गया था जिस पर मध्यप्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के अधीक्षण यंत्री को कार्यवाही करने हेतु निर्देश दिए गए है। ऊर्जा विभाग के द्वारा लाइन शिफ्ट करने हेतु 18 लाख 74 हजार 872 राशि का प्राक्कलन प्रदाय किया गया है जो उद्योग आयुक्त को प्रेषित किया गया है। औद्योगिक क्षेत्र विदिशा में 33 केव्ही सप्लाई के संबंध में भी विचार विमर्श कर निर्णय लिए गए है। ततसंबंध में ऊर्जा विभाग के अधीक्षण यंत्री ने बताया कि रोड बनने के बाद 33 केव्ही लाइन डाली जाना संभव होगा। इसी प्रकार विद्युत संधारण के दौरान विद्युत सप्लाई बंद करने के संबंध में मैसर्स एमपी बोर्ड प्रायवेट लिमिटेड विदिशा के संचालक द्वारा अवगत कराया गया। इस दौरान होने वाली असुविधाओं के संबंध में ऊर्जा विभाग के अधीक्षण यंत्री ने अवगत कराया कि रविवार के दिन मेन्टेंनेस के दौरान विद्युत सप्लाई बंद की जाएगी।  औद्योगिक क्षेत्र कंजना की भूमि पर से अतिक्रमण हटवाए जाने के संबंध में भी चर्चा की गई। ततसंबंध में अवगत कराया गया कि अनुविभागीय अधिकारी उपखण्ड बासौदा के द्वारा 15 दिवस के भीतर अतिक्रमण हटाए जाने हेतु नोटिस जारी किया जा चुका है। हितग्राहियों के विभिन्न बैंको में लंबित प्रकरणो के संबंध में बतलाया गया कि जिन बैंकशाखाओं के द्वारा ऋण के लंबित प्रकरणो का निराकरण समयावधि में नही किया जा रहा है उन बैंक शाखाओं की जानकारी एलडीएम को उपलब्ध कराएं ताकि एक सप्ताह के अन्दर लंबित ऋण प्रकरणो में राशि वितरण का कार्य विधिवत रूप से किया जा सकें।  उक्त समीक्षा बैठक में पूर्व उल्लेखित बिन्दुओं के अलावा अन्य जिन पर चर्चा की गई है उन पर उद्योग स्थापित करने के पूर्व जिन विभागो द्वारा अनुमति जारी की जाती है कि पूरी प्रक्रिया से उद्योग विभाग के महाप्रबंधक को एक सप्ताह में उपलब्ध कराई जाए। आगामी बैठक में जिन विभागो द्वारा उद्योग प्रारंभ करने के पूर्व अनुमति चाही गई है उन सभी विभागो के अधिकारियों द्वारा की गई कार्यवाही सहित सम्मिलित होने हेतु निर्देशित किया जाए। लंबित प्रकरणो की समीक्षा माह में दो बार आयोजित करने तथा समया अंतराल पर जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक स्वंय संवाद कर औद्योगिक इकाईयों के स्थापन संबंध में होने वाली दिक्कतो से अवगत होकर निराकरण हेतु संबंधित विभागो से पत्राचार करें।  बैठक में जिला पंचायत सीईओ श्रीमती नीतू माथुर, अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह के अलावा मध्यप्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड के अधीक्षण यंत्री श्री अंकुर सेठ, जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक श्री बीएस बघेल, मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री सुधीर सिंह, नगर तथा ग्राम निवेश की सहायक संचालक सुश्री दक्षा सनाढ्य के अलावा औद्योगिक इकाईयों को संचालित करने वाले उद्योगपति मौजूद रहें। 


कलेक्टर ने निर्माण कार्यो का जायजा लिया 


vidisha news
कलेक्टर डॉ पंकज जैन आज ग्यारसपुर एवं पठारी तहसील क्षेत्र का भ्रमण कर स्थानीय ग्रामीणजनों की समस्याओं को सुना तथा निर्माणाधीन विकास कार्यो का मौके पर जायजा लिया है। इसके अलावा विभिन्न योजनाओं से लाभांवित हितग्राहियो से संवाद स्थापित किया है वही गौ-संवर्धन के लिए संचालित की जा रही क्षेत्रों में गौ-शालाओं के प्रबंधनो का भी अवलोकन कर जायजा लिया गया है। कलेक्टर डॉ जैन ने ग्यारसपुर तहसील के ग्राम हिम्मतपुर की गायत्री गौ-शाला का अवलोकन किया और यहां गौ-प्रबंधन हेतु की जाने वाली व्यवस्थाओं का अवलोकन उपरांत गौ-शाला परिसर में ही जलापूर्ति के लिए तालाब व कुंए के किए जा रहे प्रबंध व्यवस्था का जायजा लिया। उन्होंने इस प्रकार की व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराए जाने के निर्देश दिए है। गौ-शाला में गौकाष्ट बनाने के लिए स्वसहायता समूह को उपलब्ध कराई गई मशीन की कार्यप्रणाली का भी उनके द्वारा पूछताछ की गई। साथ ही स्वसहायता समूहो की महिला सदस्यों से संवाद कर होने वाले मुनाफो के संबंध में पूछताछ की है।  कलेक्टर डॉ जैन ने पठारी में नवनिर्मित सामुदायिक अम्बेडकर भवन के निर्माण कार्य का भी जायजा लिया है यहां उन्होंने खेत में लगाए दिए गए सागौन व यूकेलिप्टस के दस हजार पेड निजी कंपनी से किया गया बीस साल का अनुबंध के संबंध में भी जानकारी प्राप्त की है।  भ्रमण के दौरान उद्यानिकी विभाग के सहायक संचालक श्री केएल व्यास, सामाजिक न्याय विभाग के उप संचालक डॉ पीके मिश्रा समेत खण्ड स्तरीय अधिकारी साथ मौजूद रहें। 


एक दिन में 321 नलो में टोंटियां लगाई


कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा दिए गए निर्देशो के अनुपालन में जिले में नलो में टोंटी लगाओ अभियान का क्रियान्वयन किया जा रहा है। नटेरन जनपद पंचायत के अंतर्गत अभियान के तहत बुधवार 17 मार्च को सम्पादित कार्यो की जानकारी देते हुए जनपद सीईओ ने बताया कि एक दिन में 321 नवीन टोंटियां लगाने का कार्य किया गया है। उपरोक्त कार्य ग्राम पंचायत साडेर, हीरापुर, सेउ, भरनाखेडा, नादिया, रावन, नटेरन, वर्धा, बरखेडाजागीर, डंगरबाडा, बिछिया, करमेढी में सम्पादित किया गया हैं


संस्कृत की श्रेष्ठ कृतियों के पुरस्कार के लिए पुस्तकें और आवेदन आमंत्रित


संस्कृति विभाग द्वारा संस्कृत की श्रेष्ठ कृतियों को पुरस्कृत करने की योजना के अन्तर्गत एक जनवरी 2019 से 31 दिसंबर 2020 के मध्य प्रकाशित संस्कृत की श्रेष्ठ पुस्तकों के लिये म.प्र.संस्कृति परिषद कालिदास संस्कृत अकादमी द्वारा अ.भा.कालिदास संस्कृत पुरस्कार एवं प्रादेशिक राजशेखर, भोज एवं व्यास पुरस्कारों के लिये लेखकों से आवेदन आमंत्रित किये गये हैं, जिनकी अंतिम तिथि 31 मार्च 2021 घोषित की गई है। देशभर के अधिक से अधिक लेखकों, प्रकाशकों तक जानकारी पहुँचे तथा पुरस्कार के लिए अधिक आवेदन प्राप्त हो इसके लिये अकादमी प्रयत्नशील है। उल्लेखनीय है कि पुरस्कार में एक लाख रुपये का अ.भा. कालिदास पुरस्कार तथा रु. 51 हजार रुपये के तीन प्रादेशिक पुरस्कारों के लिये पुस्तकें आमंत्रित की जा रही हैं। पुस्तकों के लेखक अथवा प्रकाशक अपने आवेदन के साथ पुस्तक की तीन प्रतियां 31 मार्च तक अकादमी को प्रेषित कर सकते हैं। विस्तृत जानकारी के लिये अकादमी की वेब साइटूूणंसपकेंंबंकमउलण्बवउ देखी जा सकती है।


श्रमोदय आवासीय विद्यालय प्रवेश परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन अब 25 मार्च तक


मध्यप्रदेश भवन एवं संनिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल अंतर्गत पंजीकृत  निर्माण श्रमिकों के पुत्र एवं पुत्रियों को शिक्षा देने के लिए संचालित श्रमोदय आवासीय विद्यालय में प्रवेश के लिए आवेदन श्रमोदय विद्यालय के पोर्टल पर ऑनलाईन करने की अंतिम तिथि 25 मार्च 2021 है। पूर्व में यह तिथि 12 मार्च 2021 थी। जिसे बढ़ाकर अब 25 मार्च कर दी गई है।


 खेती संबंधी बंटाई अनुबंध की कॉपी तहसीलदार को देना अनिवार्य


सामान्य तौर से कृषकों और भू-स्वामियों द्वारा अपनी भूमि अन्य व्यक्तियों को देकर खेती कराई जाती है। जिसे सामान्य तौर पर बंटाई, सिकमी, अन्य स्थानीय नामों से जाना जाता है। तत्संबंध में मध्यप्रदेश भूमि स्वामी एवं बंटाईदारों के हित संरक्षण अधिनियम 2016 के अनुरूप भूमि बंटाई पर दिए जाने की मान्यता प्रदान की गई है। हित संरक्षण अधिनियम भूमि स्वामी एवं बंटाईदार दोनों के हितों का संरक्षण करता है। अब कोई भी भूमि स्वामी अपनी भूमि बटाई पर देने या किसी व्यक्ति द्वारा बटाई पर लेने की वैधानिकता तभी मानी जाएगी, जब दोनों पक्षों के द्वारा मध्यप्रदेश भूमि स्वामी बंटाईदारों के हित संरक्षण अधिनियम 2016 के नियम चार के तहत अनुबंध निष्पादित किया गया हो और एक प्रति संबंधित क्षेत्र के तहसीलदार को उपलब्ध कराई हो। कोई भी बंटाईदार, भूमि बंटाई पर लेकर यदि वह फसल क्षति की देय राहत राशि, बीमा राशि और कृषि उपज का उपार्जन के लिए दावा करता है, तो शासन द्वारा तभी स्वीकार माना जाएगा जब भूमि स्वामी और बंटाईदार के मध्य उपरोक्त अधिनियम के अंतर्गत अनुबंध निष्पादित हुआ हो अन्यथा विधिवत अनुबंध के अभाव में उपरोक्त हित लाभ दिया जाना संभव नही होगा।


सातवें वेतनमान के एरियर की तीसरी किश्त के भुगतान के आदेश जारी’


शासकीय सेवकों के हित में सातवें वेतनमान की तीसरी किश्त के एरियर की शेष 75 प्रतिशत राशि का नगद भुगतान करने के आदेश राज्य शासन ने जारी कर दिये हैं । पूर्व में राज्य शासन द्वारा एरियर की तृतीय और अंतिम किश्त की 25 प्रतिशत राशि का नगद भुगतान शासकीय सेवकों को किया गया था ।  समस्त शासकीय सेवकों को सातवें वेतनमान के एरियर्स की तृतीय और अंतिम किश्त की शेष 75 प्रतिशत राशि का नियमानुसार अनिवार्य कटौत्रे पश्चात नगद भुगतान किया जायेगा। राष्ट्रीय पेंशन योजना के अभिदाता सदस्यों को देय राशि का अंशदाता तथा शासन के नियमानुसार अंशदान उपरान्त देय राशि का नगद भुगतान किया जायेगा। 


तीन समीक्षा बैठक आज आयोजित


कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वार गुरूवार 18 मार्च को नवीन कलेक्ट्रेट के बेतवा सभागार कक्ष में तीन समीक्षा बैठक आयोजित की गई है जिसमें दोपहर 12.30 बजे से उत्कृष्ट विद्यालय के संचालन हेतु गठित समिति की इसके अलावा दोपहर तीन बजे से कृषि उद्यानिकी पशु पालन, मत्स्य उद्योग संघ की समीक्षा तथा सायं चार बजे से नगरीय निकायो के कार्यो की समीक्षा बैठक आयोजित की गई है।





live news, livenews, live samachar, livesamachar

कोई टिप्पणी नहीं: