विशेष : मां भगवती जगराते में माता रानी के भजनों पर झूमे श्रद्धालु - Live Aaryaavart

Breaking

गुरुवार, 27 सितंबर 2018

विशेष : मां भगवती जगराते में माता रानी के भजनों पर झूमे श्रद्धालु

विशाल भंडारे में बड़ी संख्या में लोगों ने प्रसाद ग्रहण कर लिया माता का आर्शीवाद  
jagran-jagrata-varanasi
वाराणसी (सुरेश गांधी)  ‘रंग बरसे दरबार अंबे जी के रंग बरसे‘, ‘कजरारे तेरे मोटे मोटे नैन‘, ‘बम बोले बम बोले बम बम‘ जैसे कई भजनों पर लोग झूमते रहे। कभी जागरण के बीच कलाकारों द्वारा भगवान शिव पार्वती व राधा कृष्ण की आर्कषक झांकियां निकाली तो कभी माता भगवती की। पूरी रात चले जागरण में कलाकारों ने मां भगवती के एक के बाद एक भजन प्रस्तुत कर न सिर्फ समा बांधा, बल्कि अपने अंदाज में नृत्य प्रस्तुत कर माहौल को भक्तिमय बना दिया। मौका था मध्य प्रदेश के सतना स्थित मल्लाहटोला-धवारी में रेलवे कांट्रैक्टर दिलीप जायसवाल के आवास पर भगवती जागरण का। इसमें कलाकारों ने सुंदर भजन प्रस्तुत कर ऐसा समां बांधा कि श्रद्धालु भाव विभोर होकर नृत्य करने लगे। जागरण में माता रानी के भव्य स्वरूप को आकर्षक अंदाज में सजाया गया था। आसपास के इलाके से श्रद्धालुओं ने दरबार में नतमस्तक होकर अपने परिवार की सुख शांति के लिए मन्नतें भी मांगी। अलसुबह जागरण का आरती के साथ समापन हुआ। इसके पहले आयोजित भंडारा में हजारों श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया। देर शाम शुरु हुए जागरण में कलाकारों ने मां की महिमा का गुणगान कर जागरण में आए लोगों का मनोरंजन किया। पूरी रात चले जागरण में मां भगवती के भजन गूंजते रहे। मां भगवती के भजनों पर जागरण में बैठे लोग झूमने लगे कुछ भक्त तो डांस करने लगे। गायक कलाकारों की ओर से मां भगवती के भजनों की प्रस्तुति कर भक्तों का मन मोह लिया। मां जिन्दगी उधार देती है, एक लाल रानी मां हमका तू दै दे सोने का छत्र चढ़ाइब। भजन की तर्ज पर उपस्थित भक्तगण भाव-विभोर हो गए। कलाकारों की मनमोहक प्रस्तुतियों से लोग रात भर पंडाल में डटे रहे। जय माता दी के जयकारों से पूरा पंडाल गुंजायमान होता रहा। भजनों पर थिरकते हुए भक्तों ने खूब मस्ती भी की। इसके पहले दिलीप जायसवाल के घर में श्री गणेश की मूर्ति स्थापना कर दस दिन तक पूजा पाठ एवं हवन आदि किया गया। इसके बाद दसवें दिन बैंडबाजे व डीजे की धुन पर थिरकते हुए दिलीप जायसवाल के बडे पुत्र विशाल जायसवाल उर्फ भोलू व छोटा भाई विकास जायसवाल उर्फ सोनू के नेतृत्व बड़ी संख्या में युवकों विसर्जन जुलूस निकाला। जुलूस पूरे शहर में भ्रमण के बाद मूर्तियों को नदी में विसर्जित किया गया। 

एक टिप्पणी भेजें
Loading...