भाजपा बंगाल से खाली हाथ लौटेगी : ममता बनर्जी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 1 मई 2019

भाजपा बंगाल से खाली हाथ लौटेगी : ममता बनर्जी

bjp-will-go-empty-handed-in-bengal-mamata
अमदंगा 30 अप्रैल, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पास बंगाल में दो सीटें हैं और वह दोनों सीटें हारेगी तथा राज्य के लोग उसे बड़ा ‘रसगुल्ला’ देंगे। सुश्री बनर्जी ने उत्तर 24 परगना जिले में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि श्री माेदी ने यह आरोप लगाकर बंगाली संस्कृति का अपमान किया है कि हम लोग देवी दुर्गा और सरस्वती की पूजा नहीं करते हैं। उन्होंने कहा, “हम उन्हें रेत से बना रसगुल्ला भेजेंगे जिन पर काजू और मेवों की जगह पत्थर डले होंगे।” उन्होंने कहा कि भाजपा को पता है कि वह सभी राज्यों में हार रही है लिहाजा वह यहां हिंदू-मुस्लिम तनाव भड़काने आयी है। हमने अपने राजनीतिक जीवन में कई प्रधानमंत्री और राजनीतिक दल देखे हैं। मैं कई बार केंद्रीय मंत्री रही हूं। मैंने कई प्रधानमंत्रियों के अधीन काम किया लेकिन इस समय जो व्यक्ति प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठा है, वह सबसे अयाेग्य है।” मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि एक सच्चा नेता लोगों के बीच प्रेम के बीज बोता है, डर के नहीं लेकिन लोग नरेंद्र मोदी से डरे हुए हैं। वह फासीवादी है-हिटलर से भी बड़े तानाशाह हैं। आत्मविश्वासी होना अच्छा है लेकिन अहंकारी होना नहीं। सुश्री बनर्जी ने कहा कि प्रधानमंत्री को बुनियादी राजनीतिक शिष्टाचार की भी समझ नहीं है। देखिये कि वह कैसी भाषा इस्तेमाल करते हैं। वह बंगाली संस्कृति को नहीं जानते। उन्हें लगता है कि हर कोई उनका नौकर है। वह केवल टेलीप्रॉम्प्टर देख कर पढ़ सकते हैं। उन्हाेंने मीडिया पर कब्जा कर रखा है। संस्थाओं पर कब्जा कर रखा है। संविधान के साथ छेड़छाड़ की गयी है। पीट-पीट कर हत्या कर देने की घटनाएं बढ़ गयी हैं। उन्होंने कहा कि हिंदू धर्म सहिष्णुता का पाठ पढ़ाता है। वह सौहार्द और सार्वभौमिक भाईचारे में विश्वास रखता है। बंगाल में सभी धर्मों के लोग सौहार्दपूर्ण ढंग से रहते हैं और अपना-अपना त्योहार मनाते हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...