चीनी सेना ने नहीं की घुसपैठ: बिपिन रावत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 13 जुलाई 2019

चीनी सेना ने नहीं की घुसपैठ: बिपिन रावत

china-army-did-not-cross-border-bipin-rawat
नयी दिल्ली, 13 जुलाई, सेना अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने शनिवार को साफ किया कि लद्दाख के डेमचोक सेक्टर में चीन की सेना ने कोई घुसपैठ नहीं की है।जनरल रावत ने यहां एक समारोह में इतर कहा कि लद्दाख में काेई घुसपैठ नहीं हुई है। उन्हाेंने कहा, “चीनी अपनी धारणा के अनुसार जिसे वास्तविक नियंत्रण रेखा मानते हैं, वहां तक आकर गश्त करते हैं ....और हम उन्हें रोकते हैं।” उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर अक्सर जश्न समारोह होते रहते हैं। डेमचोक सेक्टर में हमारी ओर तिब्बती जश्न मना रहे थे। इसके आधार पर, कुछ चीनी सैनिक यह देखने चले आए कि क्या हो रहा है, हमारे कहने पर वह लौट गये लेकिन कोई घुसपैठ नहीं हुई। सब सामान्य है।सेना प्रमुख का यह बयान इन रिपोर्टों के बीच आया है कि छह जुलाई को डेमचोक क्षेत्र में तिब्बतियों द्वारा उनके आध्यात्मिक गुरू दलाई लामा के जन्मदिवस के मौके पर तिब्बती झंडे फहराए जाने पर चीनी सैनिकों ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पार की थी और भारतीय भूभाग में पांच किलोमीटर अंदर तक आ गए थे। उन्होंने तिब्बती शरणार्थियों द्वारा झंडा फहराए जाने का विरोध किया।रिपोर्ट में लद्दाख के अधिकारियों के अनुसार कहा गया था कि तिब्बती शरणार्थी दलाई लामा का 84 वां जन्मदिन मना रहे थे। भारतीय सेना के जवान भी वहां मौजूद थे। उन्होंने चीनी सैनिकों को रोक दिया था। बाद में भारतीय अधिकारियों के समझाने पर कुछ समय बाद चीनी सैनिक लौट गए थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...