बिहार : कोरोना की दूसरी लहर 15 दिनों में आ सकती है :प्रत्यय अमृत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 16 सितंबर 2020

बिहार : कोरोना की दूसरी लहर 15 दिनों में आ सकती है :प्रत्यय अमृत

covid-second-phse-within-15-days-pratyay-amrit
पटना,15 सितम्बर। बिहार में कोरोना महामारी की दूसरी लहर 15 दिनों में आ सकती है। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने वीडियो कांफ्रेंसिंग में राज्य के सभी मेडिकल कॉलेजों को इसके लिए तैयार रहने के लिए कहा है। उन्होंने स्पष्ट कहा है कि जिन डॉक्टरों व पारा मेडिकल स्टाफ को अवकाश चाहिए, वे इस बीच ले लें। 15 दिन बाद विभाग किसी को अवकाश देने की स्थिति में नहीं रहेगा। बिहार चिकित्सा एवं जन स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने कहा है कि 10 सितम्बर को महामंत्री विश्वनाथ सिंह के नेतृत्व मे संघ का शिष्टमंडल श्री प्रत्यय अमृत , प्रधान सचिव , स्वा॰ विभाग से  मिला था। शिष्टमंडल ने प्रधान सचिव को जानकारी दी कि स्वास्थ्य वॉरियर्स के मार्च 2020 से वेतनादि नहीं मिल रहा है।

स्वास्थ्य वॉरियर्स को शीर्ष 2211 के माध्यम से वेतनादि मिलता है।इस शीर्ष में केन्द्रांश और राज्यांश नहीं डालने से वेतन मिलना बंद है। शिष्टमंडल में महामंत्री के साथ संयुक्त मंत्री सुबेश सिंह, अमित मिश्रा, दिनेश कुमार, पारा मेडिकल संघर्ष समिति के साथी, कुरियर संघर्ष समिति के साथी विजय जी शामिल थे। प्रधान सचिव से वार्ता के उपरान्त शीर्ष 2211 के लम्बित वेतन के भुगतान की उम्मीद बंधी है। आशा कार्यकर्ताओं के हड़ताल के दौरान हुए समझौते के अनुरूप र॰ 1000/- की पारितोषिक की राशि की माँग पिछली शिष्टमंडलीय वार्ता मे प्रमुखता से की गयी थी, के संबंध में सूचित किया गया कि तीन जिले खगड़िया, किशनगंज एवं एक अन्य को छोड़कर सभी जिले में इसके निमित फंड उपलब्ध करा दी गयी। वार्ता के दौरान लिपिक सम्वर्ग के वेतनमान , सम्वर्ग नियमावली के अनुरूप पदों का सृजन करते हुए तदनुरूप प्रोन्नति देने, OT Asst. के वेतनमान में सुधार , भैक्सिन कुरियरों के प्रोत्सान राशि एवं घोषित अन्य कार्य के अनुरूप राशि देने सहित माँग पत्र समर्पित की गयी।   प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत से जल्द वेतन भुगतान करने का आग्रह किया गया है ताकि बिहार में आने वाले कोरोना महामारी की दूसरी लहर से मुस्तैदी से लड़ी जा सकें।  बताते चलें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने उन राज्यों को आगाह किया है, जहां कोरोना संक्रमण (CoronaVirus Infection) के मामले आने कम हो गए हैं। संगठन के अनुसार वहां संक्रमण की दूसरी लहर (Second Wave of Corona Infection) आ सकती है। इस लहर के पहले से ज्यादा तेज होने की आशंका है। दिल्ली में दूसरी लहर के साथ रिकॉर्ड संक्रमित मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है। आशंका को देखते हुए स्‍वास्‍थ्‍य विभाग पहले से तैयारियों में जुट गया है। प्रधान सचिव जांच व उपचार सुविधाएं बढ़ाने में जुटे हैं। 15 सितंबर के पहले आरटी-पीसीआर विधि से जांच की संख्या बढ़ाने के लिए नई मशीनें स्थापित कराने के साथ दो नई कोबास मशीनें भी मंगाई जा रही हैं। 

बिहार में 15 दिनों में कोरोना महामारी की दूसरी लहर आ सकती है। इसे देखते हुए बिहार स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बात कर राज्य के सभी मेडिकल कॉलेजों को इसके लिए तैयार रहने के लिए कहा है।उन्होंने स्पष्ट कहा है कि जिन डॉक्टरों व पारा मेडिकल स्टाफ को अवकाश चाहिए, वे इस बीच ले लें, नहीं तो 15 दिन बाद विभाग किसी को अवकाश देने की स्थिति में नहीं रहेगा। हमें इससे निपटने की पूरी तैयारी करनी होगी। प्रधान सचिव ने बिहार के सभी मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पतालों के साथ सभी निजी अस्पतालों को भी कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने पर सबको इलाज के लिए तैयार रहने के लिए कहा है। इसके अलावा इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (IGIMS) के अधिकारियों को जरूरत पडऩे पर सौ बेड का कोविड वार्ड शुरू करने की तैयारी रखने का भी निर्देश दिया है। बता दें कि रिकवरी रेट में बिहार अन्य राज्यों को पछड़ाते हुए पहले पायदान पर है। बिहार में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का रिकवरी रेट 91 फीसदी के करीब है जो कि राष्ट्रीय औसत से करीब 14 फीसदी अधिक है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग जांच में तेजी लाने के साथ-साथ कोरोना मरीजों को समुचित और बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करा रहा है।

पटना में कोरोना संक्रमित के स्वस्थ होने की दर में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। मंगलवार को रिकवरी प्रतिशत यानि स्वस्थ होने की दर 92 फीसदी पर पहुंच गई। मंगलवार को कुल 171 नए कोरोना संक्रमित मिले।  अब जिले में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 24095 हो गई है। इसमें कुल सक्रिय संक्रमितों की संख्या 1855 है जबकि 22142 लोग अब तक स्वस्थ हो चुके हैं। सिविल सर्जन डॉक्टर आरपी चौधरी ने बताया कि मंगलवार को जिले में एक और संक्रमण का दर घटा है जबकि दूसरी ओर स्वस्थ होने की दर तेजी से बढ़ रही है। जांच की संख्या बढ़ने से ऐसा हो रहा है।  पीएमसीएच में 573 की जांच में 14 संक्रमित मिले।पीएमसीएच में मंगलवार को कुल 14 नए कोरोना संक्रमित मिले। इसमें एक, सुपौल और 10 पीएमसीएच के भर्ती मरीज हैं। बाकी तीन पटना के अलग-अलग इलाके के लोग शामिल हैं। प्राचार्य डॉ बीपी चौधरी ने बताया कि पीएमसीएच के कोविड वार्ड में कुल 41 मरीज भर्ती हैं। पूर्वी चम्पारण के एक 20 वर्षीय मरीज की मौत कोविड वार्ड मे हो गई। तीन स्वस्थ होकर डिस्चार्ज किये गए। वहीं, एम्स पटना में मंगलवार को 15 नए मरीज भर्ती हुए और नौ स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। यहां कुल भर्ती मरीजों की संख्या 152 हो गई है। मंगलवार को किसी मरीज की मौत कोरोना से नहीं हुई।

कोई टिप्पणी नहीं: