कोरोना काल में फंसकर कराह रहे हैं विक्टर फ्रांसिस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 24 दिसंबर 2020

कोरोना काल में फंसकर कराह रहे हैं विक्टर फ्रांसिस

bhojpuri-film-in-trouble
पटना. एक ईसाई लेखक, निर्माता और निर्देशक  विक्टर फ्रांसिस  पूर्णत:कोरोला काल में फंसकर कहार रहे हैं.उन्होंने 2018 में भोजपुरी फीचर फिल्म 'गोरिया  तोहरे खातिर' बनाना शुरू किए थे.फिल्म बनकर तैयार है.लगभग एक साल हो गया है. इस भोजपुरी फिल्म का रिलीज का शुभ मुहूर्त तय भी कर लिया गया.सारी औपचारिकता पूरी करके विक्टर मूवीज के बैनर तले निर्मित भोजपुरी  फीचर फिल्म  'गोरिया तोहरे खातिर' 27 मार्च 2020 को तैयार थे.एक साथ बिहार के बीस सिनेमा हॉल में रिलीज़ होने वाली थी.दुर्भाग्य से भारत में 21 दिन के लिए लॉकडाउन 25 मार्च 2020 से लागू कर दिया गया.लॉकडाउन लगने से रिलीज समारोह स्थगित करना पड़ा. पश्चिम चम्पारण जिले के बेतिया का रहने वाला विक्टर फ्रांसिस लगभग पच्चीस साल से पटना में रहते हैं. मध्यम वर्गीय परिवार के विक्टर ने लगभग तीस से पैंतीस लाख रू.लगाकर भोजपुरी फीचर फिल्म " गोरिया  तोहरे खातिर" बना पाये हैं.पहली बार 27 मार्च 2020 में कोरोना के कारण रिलीज नहीं हो सकी.एक बार फिर क्रिसमस के अवसर पर 25 दिसम्बर 2020 को रिलीज करने की हिम्मत जुटाई थी.मगर सहकर्मियों और शुभचिंतकों के सुझाव पर रिलीज को स्थगित कर दिया.फिल्म निर्माण होने के बाद लगभग एक साल से रिलीस समारोह फंस गया  है. एक ईसाई लेखक, निर्माता और निर्देशक विक्टर   फ्रांसिस ने कहा कि वैसे तो बिहार में अनेकों फिल्मों का निर्माण होता रहा है.अगर हम इतिहास उठाकर देखें तो बिहार के कई निर्माता- निर्देशक ने  बहुत सारे  सुपर डूपर  हिट भोजपुरी फिल्मों का निर्माण  भी किया है.एक चुनौती लेकर 'गोरिया तोहरे खातिर' बनाया गया है.


बता दें कि इन दिनों विक्टर मूवीज के बैनर तले निर्मित  भोजपुरी  फीचर फिल्म  'गोरिया तोहरे खातिर' काफी चर्चा में है.इस फिल्म के निर्माता, निर्देशक और लेखक विक्टर फ्रांसिस हैं. यह फिल्म 27 मार्च 2020 को ही एक साथ बिहार के बीस सिनेमा हॉल में रिलीज़ होने वाली थी.लेकिन कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन लग जाने के कारण इसे स्थगित करना पड़ा. विक्टर फ्रांसिस ने प्रेस को जारी एक बयान में बताया कि इस लॉकडाउन से हम सभी परेशान जरूर थे, पर हमारा विश्वास और हौसला कम नहीं हुआ है. हमारी पूरी कोशिश है कि एक बार फिर अपने नए रंग रूप में यह फिल्म रिलीज़ किया जाए.इसकी पूरी तैयारी चल रही है.पहले चरण में यह फिल्म लगभग पंद्रह से बीस सिनेमा हॉल में एक साथ रिलीज़ करने कि योजना है. हालांकि विक्टर फ्रांसिस किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं इन्होंने अब तक पचास से भी अधिक लघु फ़िल्में, हिंदी और भोजपुरी धारावाहिक आदि का निर्माण किया है.इन्हें इनकी कई फिल्मों के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है. विक्टर फ्रांसिस बताते हैं कि इनकी यह पहली भोजपुरी फीचर फिल्म है,और इसे लेकर यह बहुत ही उत्साहित हैं.भले ही इस फिल्म में इन्होंने नए लोगों को लेकर काम किया है पर अपने पुराने अनुभव के आधार पर कहते हैं कि कोइ जरूरी नहीं है कि फिल्म में स्टार को ही रखने से फिल्म हिट होती है अगर फिल्म कि कहानी और गानों के साथ साथ दर्शकों के पूरे मनोरंजन का ध्यान रखा जाए तो भी फिल्म हिट हो सकती है.इस फिल्म में भी इन्होंने बिहार के कुछ पेशेवर कलाकारों के साथ साथ कुछ नए कलाकारों को भी उभरने का मौका दिया है.फिल्म की अधिकतर शूटिंग बिहार में ही हुई है.जिसमे फतुहा शूटिंग का केंद्र रहा है. अभी भी कोरोना वायरस का प्रकोप कम नहीं हुआ है और बिहार के लगभग सभी सिनेमाघर बंद पड़े हैं.बस उनके खुलने के इंतजार में हैं.विक्टर जी कि बड़ी  इच्छा थी कि इसे आने वाले 25 दिसम्बर को क्रिसमस के अवसर पर रिलीज़ कर पाते पर अभी भी यह स्थिति है इसे देखते हुए कुछ निश्चित नहीं है.अफसोस है कि सभी दोस्तों और बिहार के दर्शकों को थोड़ा और इंतजार करना पड़ेगा.जैसे ही स्थिति बदलेगी इस फिल्म को अपनी योजना के अनुसार रिलीज़ कर दी जाएगी.


इस फिल्म का लेखक, निर्माता,निर्देशक के साथ साथ विक्टर फ्रांसिस ने इसमें एक हास्य अभिनेता की भी भूमिका निभाई है आशा है आप इन्हें इस  फिल्म में बिल्कुल नए रंग रूप में देख सकेंगे और शायद पसंद भी करेंगे.जो इस फिल्म निर्माण के विधा से जुड़े हैं वे महसूस कर सकते हैं कि आज के समय में कोई फिल्म का निर्माण करना और उसे रिलीज़ करना कितना जोखिम भरा कदम है.फिर भी विक्टर जी कहते है प्रभु कि कृपा से यह जोखिम भरा कदम उठाया है.अब प्रभु की जो मर्जी होगी वही होगा, पर  मेरा  विश्वास है, कि जो भी होगा अच्छा ही होगा और  हमें सफलता जरूर मिलेगी. इस फिल्म के मुख्य कलाकार हैं, नन्द किशोर मेहता,मुस्कान राज, अनिल कुमार, अजय कुमार, प्रवीण नयन, तनिषा कश्यप, पूनम सिंह राठौर,  पिकी सिंह,अकांछा सिन्हा,राकेश कपूर,  महेंद्र चोधरी ,एस एन त्रिपाठी, वीणा गुप्ता, उर्मिला सिंह, डॉ राजा बाबू, डॉली (आईटम गर्ल), कृष्ण कुमार, जीतन जोशी, डॉ तारिक सोहेल, मुन्ना कुमार, रांझा सागर, दुआ राज, संतोष कुमार,अभिषेक, आराधना श्री, निभा कुमारी, मानवी कुमारी, नसीम अंसारी, अंजलि कुमारी, नवीनचंद्र, सूरज कुमार, मुन्ना कुमार, विनोद कुमार,वेंकेश बाबा, आर.नरेंद्र, मनोज पाण्डेय, बॉबी प्रेमजोट, के अलावे बिहार के अन्य कलाकारों ने भूमिका निभाई है. इस फिल्म के संपादक : मनोज कुमार, संगीतकार : आलोक झा, गीतकार : महेंद्र चौधरी, वेंकटेश बाबा, अनिल कुमार, गायक:  आलोक कुमार,खुशबू उतम, अमृता हैं। मारधाड़ : सेंसाई  प्रिंस मिश्रा, नृत्य निर्देशक : अर्चना सोनी, आर्यन   कैमरामैन  :संजय कुमार, अनिल कुमार.अंत में विक्टर फ्रांसिस ने कहा कि इसके बाद वे अपनी दूसरी भोजपुरी  फिल्म *प्यार के सौदागर* का निर्माण की योजना बना रहे हैं.इस फिल्म के रिलीज़ होते ही इसका निर्माण शुरू कर दिया जाएगा. डिस्टीब्यूटर के ऑफिस में अपनी भोजपुरी फीचर फिल्म *गोरिया तोहरे खातिर* के रिलीज़ के सिलसिले में विचार विमर्श किया गया.इस संदर्भ में लेखक, निर्माता व निदेशक विक्टर फ्रांसिस का कहना है कि मेरी इच्छा है कि आने वाले क्रिसमस के अवसर पर दिनांक 25 दिसम्बर 2020 को इस फिल्म को लगभग बीस सिनेमा हॉल में रिलीज़ कर दिया जाए. मौके पर उपस्थित डिस्टीब्यूटरों की सलाह रही है कि अभी भी सिनेमाघरों को पूरी तरह नहीं खुलने के कारण फिलहाल इसे रिलीज़ करना घाटे का सौदा हो.जहां सिनेमाघर खुले हैं वहां पर दर्शक नहीं के बराबर आते हैं.फिलहाल इसे रिलीज़ करने का कार्यकम को स्थगित कर दिया जाए. जैसे ही स्थिति सुधरेगी वैसे ही इस फिल्म को रिलीज कर दिया जाएगा.काफी चर्चा करने के बाद इसे फिलहाल स्थगित कर देने का निर्णय लिया गया. इसमें ही सबकी भलाई है. डिस्ट्रीब्यूटर के अलावा मेरे साथ नंदकिशोर मेहता, राकेश कपूर ने भी अपने विचार व्यक्त किए. इस बताया गया कि सभी पोस्टर छपने के लिए मद्रास भेज दिया गया है.आशा है जनवरी के पहले सप्ताह छप जाएंगे और अब आप बहुत जल्द इस फिल्म को अपने नजदीकी सिनेमाघरों में देख सकेंगे.

कोई टिप्पणी नहीं: