भारत में पहली बार महिला कैदी को मिलेगी फांसी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 17 फ़रवरी 2021

भारत में पहली बार महिला कैदी को मिलेगी फांसी

first-women-death-sentence
लखनऊ  : आजादी के बाद पहली बार भारत में किसी महिला को फांसी दी जाएगी। इसको लेकर तैयारी शुरु कर दी गई है। निर्भया के आरोपी को फांसी पर लटकाने वाले मेरठ के पवन जल्लाद खुद दो बार फांसीघर का निरीक्षण कर चुके हैं। वर्तमान में फांसी की तारीख तय नहीं की गई है। दरअसल अमरोहा की रहने वाली शबनम को यूपी का एकलौते महिला फांसीघर मथुरा में फांसी दी जाएगी। शबनम ने अप्रैल 2008 में प्रेमी के साथ मिलकर अपने सात परिजनों की कुल्हाड़ी से काटकर बेरहमी से हत्या कर दी थी। इस दौरान उसने अपने माता-पिता, दो भाई एक बहन, एक मौसेरी बहन और एक आठ माह के भतिजे की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी थी। इसके बाद इसने हल्ला कर दिया था कि लुटेरों ने इसके परिवार की हत्या कर दी। वहीं पुलिस को इसकी बात पर शक हुआ और जांच-पड़ताल के दौरान पाया गया कि इसका हत्या के पीछे शबनम का ही हाथ है। जिसके बाद इसको अदालत में पेश किया गया था। जहां निचली अदालत ने इसको फांसी की सुनाई थी। इसके बाद शबनम इस मामले को लेकर उपरी अदालत में अपील किया था। जहां सुप्रीम कोर्ट ने शबनम की फांसी की सजा बरकरार रखी थी।इसके बाद उसने राष्ट्रपति के पास दया याचिका भेजी गई थी और राष्ट्रपति ने भी उसकी दया याचिका खारिज कर दी है। ऐसे में अब उसके पास फांसी के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा है। ऐसे में अब वह पहली महिला कैदी होगी जिसे आजादी के बाद फांसी पर लटकाया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं: