मधुबनी : शिक्षक नियोजन में फर्जीवाड़े पर कठोर कार्रवाई की मांग - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 31 जनवरी 2022

मधुबनी : शिक्षक नियोजन में फर्जीवाड़े पर कठोर कार्रवाई की मांग

shitlambar-jha
मधुबनी, जिला कांग्रेस कमिटी मधुबनी अध्यक्ष प्रो शीतलाम्बर झा ने जिलाधिकारी मधुबनी के नाम  एक स्मार पत्र देकर जिला में शिक्षक नियोजन में मोटी रकम के बल पर फर्जीवाड़े कर नियोजन इकाई एवं पदाधिकारियों  के मिलीभगत से रोस्टर की धज्जियां उड़ाकर सेटिंग का काउंसिलिंग का निगरानी विभाग से जांच कराकर सभी दोषियों पर कठोर कार्रवाई करने का मांग किया है। प्रो झा ने स्मार पत्र का प्रतिलिपि मुख्यमंत्री विहार,शिक्षामंत्री, नेता विरोधी दल,कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष एवं अपर मुख्य सचिव शिक्षा विभाग को भी भेजकर त्वरित कार्रवाई का आग्रह किया है। प्रो झा ने अपने पत्र में उल्लेख करते हुए कहा कि जिला में तृतीय चरण में शिक्षक नियोजन में सभी नियोजन इकाई एवं पदाधिकारियों ने बड़े पैमाने पर मोटी रकम वसूल कर कम अंकवालों अभ्यर्थियों का चयन कर घोर धांधली किया है,साथ ही यूआर के अभ्यर्थियों को ईबीसी में चयन एवं बीसी का यूआर में चयन यह दर्शाता है कि बड़े पैमाने पर फर्जीवाड़े हुआ है,प्रखण्ड नियोजन इकाई द्वारा रोस्टर की खूब धज्जियां उड़ाई है उसी प्रकार महिला अभ्यर्थियों के साथ भी हुआ है ,साथ ही दूसरे जिलों के अभ्यर्थी के नाम पुकार कर पिछले दरबाजे से काउंसिलिंग के खेल खेला गया है ,कहा तो यहां तक जाता है कि सेटिंग बाले अभ्यर्थियों को बैठने का अलग कमरा में व्यवस्था कर रखा गया था ,वहीं विस्फी,कलुआही, बासोपट्टी, बेनीपट्टी, खुटौना प्रखण्डों सहित सम्पूर्ण जिला में मेघा अंक का घोर उल्लंघन हुआ है, दिव्यांग कोटा के आवेदकों के साथ भी इस तरह की खेल हुआ है कहा तो जाता है कि सेम डेट में नियोजन इकाई आवेदन लेकर काउंसिलिंग करा दिया यह क्या दर्शाता है ,महत्वपूर्ण तो यह भी है कि प्रखण्ड नियोजन इकाई अंतिम मेघा सूची का प्रकाशन ससमय एन आई सी पर प्रकाशित कर नही डालना बहुत बड़ा फर्जीवाड़े का सबूत है,कहीं भी वीडियो ग्राफी नही कराया गया एन आई सी पर सभी आवेदकों का सूची भी  दीवाल पर नही चिपकाया गया। उन्होंने कहा है जिला में शिक्षक नियोजन फर्जीवाड़े आजकल अखबार के सुर्खियां बटोर रही है,जिसे गहन अध्ययन करने की जरूरत भी है। प्रो झा ने अपने पत्र में  उल्लेख करते हुए लिखा है कि सभी प्रखण्ड नियोजन इकाइयों के नामित अधिकारियों एवं इकाई के प्रमुखों एवं उनके पतियों के मोबाईल का कॉल डिटेल निकाला जय,साथ सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने बाले जिला शिक्षा पदाधिकारी तथा उनके चहेते भाई  का भी सरकारी एवं प्राइवेट मोबाईल का काँल डिटेल से बहुत बड़ा खुलासा हो सकता है। उन्होंने तत्काल प्रभाव से प्रखण्डों में हुए सभी नियोजन को रद्द करने एवं पुनः नियोजन का तिथि निर्धारित करना के साथ साथ सभी इसे निगरानी विभाग से जांच कराने का जोरदार मांग किया है।

कोई टिप्पणी नहीं: