संस्मरण : मिथिला यात्रा जीवन की एक यादगार यात्राओं में एक : मिथुन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 12 अप्रैल 2018

संस्मरण : मिथिला यात्रा जीवन की एक यादगार यात्राओं में एक : मिथुन

mithila-journy
रास्ते अक्सर हमें उलझा कर रखते हैं। मगर किया क्या जाए कि इस उलझन का भी अपना मज़ा है। इन्हीं उलझन भरी रास्तों निकल पड़ते हैं हम -आप एक नए अनुभव और नए सबक के लिए | सड़क यात्रा हमेशा ही  रोमांचक होती हैं और हर यात्रा एक नया अनुभव देता हैं | ऐसे ही एक नए अनुभव की तलाश में भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई के रहने वाले मिथुन बंगेरा , मुंबई से मोरेह, मणिपुर  की सड़क यात्रा पर निकल पड़े. भारत के पश्चिमी छोड़ से सुदूर उत्तर पूर्व की लगभग ३६०० किलो मीटर की इस रोमांचक यात्रा के दौरान उन्होने भारत की भिविन्न प्रांतों से गुजरते हुए उस प्रान्त की ज़ायके का स्वाद लिया | इसी यात्रा के दौरान मिथुन, मां सीता की जन्मस्थली मिथिला क्षेत्र के दरभंगा और मधुबनी से होकर गुजरे जहाँ उन्होंने  दरभंगा विश्वविद्यालय प्रांगण सहित अनेक दर्शनीय स्थलों को देखा और मिथिला के खास पकवानों का आनंद लिया | मिथुन ने अपनी मिथिला यात्रा को अपने जीवन की एक यादगार यात्राओं में एक बताया !  मिथुन स्कॉउटमाईट्रिप  के साथ जुड़े हैं जो की एक खास रोड ट्रिप प्लानर हैं जो होटल, पेट्रोल पम्प , सड़क की स्थिति, रेस्तरां, निकटवर्ती आकर्षणों की सूची के साथ  साथ भारत के विभिन्न भागों में एक अविस्मरणीय सड़क यात्रा करने मैं यात्रिओं की मदद करता हैं. 
एक टिप्पणी भेजें
Loading...