विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 09 फ़रवरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 9 फ़रवरी 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 09 फ़रवरी

संत शिरोमणी रविदास जी के द्वारा बतलाए गए मार्गो का अनुसरण करें- स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी

vidisha news
संत शिरोमणी रविदास जी का जन्मोत्सव आज विदिशा जिले में भी बढ़े हर्षोल्लास व धूमधाम से मनाया गया।  संत शिरोमणी रविदास जी एवं भारत रत्न डॉ बीआर अम्बेड़कर की प्रतिमा पर माल्यार्पण उपरांत   अहमदपुर चौराहे पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने कहा कि संत शिरोमणी रविदास जी के द्वारा जो मार्ग बतलाया गया है उसका अनुसरण कर हम सबको अनुपालन करना चाहिए। उन्होंने समाज के सभी वर्गो के विकास की उन्नति की राह दी है। संत शिरामणी रविदास जी ने कहा कि आदमी जन्म से नही कर्म से महान बनता है। लगन, तपस्या और कठोर मेहनत से हम सामाजिक उत्थान को अग्रसर कर सकते है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि भारत रत्न भीमराव अम्बेड़कर ने प्रगति के लिए जो तीन मंत्र दिए थे उनमें से शिक्षित हो का दायित्व मेरे विभाग के माध्यम से क्रियान्वित किया जा रहा है। उन्होंने शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए किए गए नवाचारों को भी रेखांकित करते हुए कहा कि समाज नशाविहिन बने यह हम सबका नैतिक दायित्व है। उन्होंने कहा कि समाज एवं आने वाली पीढ़ी को ऐसी शिक्षा मिले जिससे भारत में नाम रोशन हो और बच्चों के मां बाप अपने आप में गौरवान्वित हो यही प्रयास शिक्षा के माध्यम से राज्य सरकार द्वारा किया जा रहा है। संतो के बताए मार्गो का हम अनुसरण कर संविधान निर्माता डॉ भीमराव ने जो संवेधानिक अधिकार दिए है का सदुपयोग करते हुए विकास की ओर अग्रसर है। उन्होंने कानून के समक्ष सभी को एक समाज अधिकार देकर प्रजातंत्र की नींव रखी है। कार्यक्रम को विदिशा विधायक श्री शशांक भार्गव, नगरपालिका अध्यक्ष श्री मुकेश टण्डन, पूर्व मंत्री श्री रघुवीर सिंह सूर्यवंशी ने भी सम्बोधित किया। स्कूल शिक्षा मंत्री के सुझाव पर नगरपालिका अध्यक्ष श्री मुकेश टण्डन ने सहमति व्यक्त करते हुए कहा कि शीघ्र ही विदिशा शहर में शिक्षा प्राप्ति के क्षेत्र में सहूलियत हो इसके लिए संत शिरामणी रविदास जी के नाम पर लायब्रेरी का संचालन किया जाएगा। उन्होंने पार्षदो के सुझाव शामिल कर निकाय की बैठक में प्रस्ताव पारित कराने से अवगत कराया।  राष्ट्रीय सचिव अहिरवार समाज संघ श्री हनुमन्त सिंह बौद्व, प्रदेश अध्यक्ष श्री अमान सिंह नरवरिया, जिला अध्यक्ष संत शिरामणी रविदास समाज संघ श्री छोटे लाल संभरवाल, श्री भगवान दास जी अहिरवार, एसएटीआई के संचालक श्री जेएस चौहान एवं प्रोफेसर एसएस गोलिया, श्री नवनीत धाकड़, श्री राजू भारती के अलावा सामाजिक संगठन के अन्य पदाधिकारी व स्वजातीय बंधु, गणमान्य नागरिक मौजूद थे।    

खुशियों की दास्तां : शिक्षा से जोड़ने के नवाचार से लाभांवित हो रही है

शाला त्यागी किशोरी बालिकाओं को शिक्षा से जोड़ने के लिए किए जा रहे नवाचारो का लाभ उन्हें मिल रहा है। कुरवाई विकासखण्ड के अंतर्गत चिन्हित चार बालिकाओं को शिक्षारूपी दामन से जोड़ने के किए गए प्रयास सफलता की ओर अग्रसर हुए है। खण्ड चिकित्सा अधिकारी की पहल पर शाला त्यागी चारो बालिकाओं का आठवीं कक्षा की परीक्षा में शामिल होने हेतु प्रायवेट फार्म भरवाकर उन्हें शिक्षा से जोड़ने का प्रयास ही नही किया गया वरन् परीक्षा में वे सफल हो इसके लिए बकायदा उन्हें अध्यापन कार्य में भी हर स्तर पर मदद मुहैया कराई गई है। 

खुशियों की दास्तां : सरपंच की पहल पर आंगनबाडी बच्चों को मिली ड्रेस

विदिशा जिले में संचालित आंगनबाडी केन्द्रो में दर्ज बच्चों के लिए जन्म सरोकार के माध्यम से नवाचारो का लाभ मिल रहा है। इस कार्य मेंं पंचायत प्रतिनिधि भी पीछे नही रह रहे है। कुरवाई विकासखण्ड के वीरपुर ग्राम की आंगनबाडी केन्द्र में स्थानीय सरपंच श्रीमती रामप्यारी यादव की पहल पर बच्चों को ड्रेस ही नही मिली बल्कि केन्द्र को मॉडल के रूप में उन्नत करने के प्रयास क्रियान्वित है। वीरपुर आंगनबाडी केन्द्र के बच्चे अब एक ही ड्रेस में आ जा रहे है। इसके पीछे की मंशा को रेखांकित करते हुए सरपंच श्रीमती यादव ने बताया कि ड्रेस देने का मुख्य उद्वेश्य आंगनबाडी के बच्चे स्कूल में आने के बाद इधर उधर कही जाते है तो शीघ्रता से ड्रेस के कारण पकड़ सकें। वही बच्चों को अभी से स्कूल जैसा माहौल मिले इसके लिए बकायदा फुलड्रेस एवं जूते तथा बच्चे आंगनबाडी केन्द्रों में कुर्सियो पर बैठे इसी मंशा से प्रदाय की गई है। महिला सरपंच के द्वारा आंगनबाडी केन्द्रों के उन्मुखीकरण हेतु किए गए प्रयासों की चंहुओर चर्चा है। 

चना मसूर फसल का पंजीयन आज से

समर्थन मूल्य पर रबी विपणन 2020-21 के अंतर्गत चना एवं मसूर फसल के ई उपार्जन पोर्टल पर पंजीयन कार्य दस फरवरी से 28 फरवरी तक किया जाएगा। प्राईस सपोर्ट स्कीम के अंतर्गत पंजीयन कार्य के जिले कीं 58 समितियों पर किया जाएगा।  

आपकी सरकार आपके द्वार आवेदनों की समीक्षा टीएल बैठक में

प्रति सोमवार को आयोजित होने वाली टीएल बैठक में पहली बार पृथक से आपकी सरकार आपके द्वार तहत लंबित आवेदनों की समीक्षा पूर्वानुसार सीएम हेल्पलाइन की तर्ज पर की जाएगी। ऐसे विभाग जिनके दस या उससे अधिक आवेदन लंबित है तथा उन विभागों के आवेदनों का भी चिन्हांकन किया गया है। जिनके द्वारा जबाव दाखिल नही किए गए है। कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह के द्वारा पूर्व उल्लेखित आवेदनों की समीक्षा की जाएगी।

पोर्टेबिलिटी केवल ऑनलाइन उचित मूल्य दुकानों पर

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत उचित मूल्य दुकानों से खाद्यान्न प्राप्त करने वाले परिवारों को भारत सरकार द्वारा जनवरी माह से पोर्टेबिलिटी की सुविधा दी गयी है। मध्यप्रदेश के खाद्य सुरक्षा योजना से लाभांवित परिवारों को देश के 11 अन्य राज्यों से खाद्यान्न प्राप्त करने की पात्रता होगी। इन राज्यों में गोवा, अन्ध्रप्रदेश, गुजरात, हरियाणा, झारखण्ड, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, राजस्थान, तेलंगाना तथा त्रिपुरा शामिल हैं। इन राज्यों के भी खाद्य सुरक्षा अधिनियम से लाभांवित परिवारों को मध्यप्रदेश में खाद्यान्न प्राप्त करने की सुविधा होगी। पोर्टेबिलिटी का लाभ केवल वही परिवार प्राप्त कर सकेंगे। जिनके द्वारा पिछले 6 माह में कम से कम एक बार बायोमैट्रिक सत्यापन से खाद्यान्न प्राप्त किया गया है। पोर्टेबिलिटी की सुविधा केवल ऑनलाइन उचित मूल्य दुकान पर ही उपलब्ध होगी। अन्य राज्यों के हितग्राहियों को बिना बायोमैट्रिक सत्यापन के खाद्यान्न प्राप्त नहीं होगा। अन्य राज्यों के परिवार केवल चालू माह का ही राशन ले सकेंगे। 

17 फरवरी से चलेगा सक्रिय टीबी रोगी खोज अभियान

प्रदेश में 17 फरवरी से 3 मार्च तक सक्रिय टीबी रोग खोज अभियान संचालित किया जाएगा। छूटे हुए  टीबी रोगियों की पहचान के लिए गांव के पंच एवं सरपंचों का सहयोग लिया जाएगा। टीबी के मरीज जो 6 वर्ष से छोटे है ऐसे बच्चों की जांच की व्यवस्था सिविल अस्पताल तथा जिला चिकित्सालय में शिशु रोग विषेषज्ञ द्वारा की जाएगी। एनजीओ की सहायता भी सक्रिय टीबी खोज अभियान में ली जाएगी जिससे खोज को एक जन अभियान बनाया जा सकें।

प्रायवेट स्कूलों को मान्यता के लिये आवेदन की तारीख में वृद्धि

प्रदेश में संचालित प्रायवेट स्कूलों को शिक्षा का अधिकार कानून के अंतर्गत नवीन मान्यता अथवा मान्यता नवीनीकरण के लिए मोबाईल एप से आवेदन करने की अंतिम तिथि को 10 फरवरी से बढ़ाकर 17 फरवरी कर दिया गया है। संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र श्रीमती आइरीन सिंथिया जेपी ने इस संबंध में सभी जिला कलेक्टर्स को आदेश जारी कर दिए हैं। प्रायवेट स्कूलों की नवीन मान्यता एवं मान्यता नवीनीकरण की संशोधित समय सारणी के अनुसार प्रायवेट स्कूल, नवीन मान्यता अथवा जिन स्कूलों की पूर्व मान्यता शीघ्र समाप्त हो रही है, वे मान्यता नवीनीकरण के लिए मोबाईल एप से 17 फरवरी तक आवेदन कर सकते हैं। संबंधित विकासखंड स्त्रोत केन्द्र समन्वयकों द्वारा 03 मार्च तक स्कूलों का भौतिक सत्यापन कर ऑनलाईन निरीक्षण रिपोर्ट जिला शिक्षा अधिकारी को प्रेषित की जायेगी। जिला शिक्षा अधिकारियों द्वारा प्राप्त मान्यता आवेदनों का 30 मार्च तक निराकरण किया जायेगा। अशासकीय विद्यालयों की मान्यता के लिये मोबाईल एप के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन करने की व्यवस्था सत्र 2020-21 से प्रारंभ की गई है। एप के माध्यम से आवेदन करने के लिये प्रायवेट स्कूल मोबाईल फोन का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिये उन्हें किसी भी कार्यालय अथवा कियोस्क पर नहीं जाना पड़ेगा। क्रमांक 61

जनाधिकार कार्यक्रम की वीडियो कान्फ्रेसिंग 11 फरवरी को 

जनाधिकार कार्यक्रम की वीडियो कान्फ्रेसिंग मुख्यमंत्री कमलनाथ की अध्यक्षता में 11 फरवरी को सायं 6.30 बजे से आयोजित की गई है। कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने संबंधित अधिकारियों को जानकारी के साथ उपस्थित रहनें के निर्देश दिए हैं।  क्रमांक 62

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...