बिहार : मोबाइल इंटरनेट से तरक्की की राह ढूढ़ रही हैं इंटरनेट - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 9 फ़रवरी 2020

बिहार : मोबाइल इंटरनेट से तरक्की की राह ढूढ़ रही हैं इंटरनेट

mobile-internet-bihar
बांका,09 फरवरी. इस जिले में है पंचायत और गांव महिशाडीह.प्रगति ग्रामीण विकास समिति, पटना , फिआ फाऊडेशन,पटना और फ्रेंड,नई दिल्ली के सहयोग से द्वारा इंटरनेट का ट्रेनिंग दिया जाता है.इस तरह की इंटरनेट का ट्रेनिंग में मनीषा देवी भी ट्रेनिंग ली. प्रगति ग्रामीण विकास समिति, पटना , फिआ फाऊडेशन,पटना और फ्रेंड,नई दिल्ली के सहयोग से द्वारा इंटरनेट का ट्रेनिंग दिया जाता है. इससे जुड़े रंजीत कुमार सिंह कहते हैं कि पांच दिवसीय प्रशिक्षण दिया जाता है. दो प्रशिक्षक रहते हैं रवि जी और रंजीत कुमार.पहला और दूसरे दिन का प्रशिक्षण रहते हैं रंजीत कुमार और पटना से आए रवि जी, तीसरा , चौथा और पाँचवाँ दिन का प्रशिक्षक थे. इंटरनेट का व्यवहार और उससे जुड़े व्यवसाय के बारे में विस्तृत जानकारी  दी गयी.सूक्ष्म परियोजना के तहत व्यवसाय अाधारित 5 दिन का प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं.ये साथी प्रशिक्षण प्राप्त कर पूर्ण रूप से एक कुशल व्यवसायी बनकर ग्रामीण महिला के लिए प्रेरणास्रोत बन जाती हैं. आगे उन्होंने कहा कि अबतक बांका  जिले के कुल 7 प्रखण्डों  में 180 इन्टरनेट साथी ने प्रशिक्षण प्राप्त कर अलग-अलग तरह के अपना व्यवसाय शुरू की है.अपना व्यवसाय में इंटरनेट का उपयोग कर रही हैं उनमें मनीषा देवी का नाम सर्वपरि है,वह  मशरूम की खेती शुरू कर दी हैं.मशरूम की खेती करनी वाली मनीषा कुमारी कहती है कि 20 दिसम्बर 2019 को मशरूम की खेती अपने घर में शुरु की है.दिसम्बर में कुल 10 हजार रूपये की पूँजी लगाकर मशरूम की खेती करना शुरू की हैं. वह कहती हैं कि  इंटरनेट का ट्रेनिंग लेने के बाद आत्मविश्वास बढ़ गया है. इंटरनेट का उपयोग व्यापार में करने का प्रयास कर रही हैं. वह कहती हैं उसका लाभ मिलने लगा है उत्पादित मशरूम की काफी मांग होने लगी है.लोकल बाजार में खफत हो जाती है.सामाजिक एवं आर्थिक स्तर ऊपर उठ गयी है.वह प्रेरणास्त्रोत भी हो गयी.




कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...