बिहार : फुलवारीशरीफ मामले में माले ने लिखा CM को पत्र, अपने स्तर से मामले को देखें - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 24 जुलाई 2022

बिहार : फुलवारीशरीफ मामले में माले ने लिखा CM को पत्र, अपने स्तर से मामले को देखें

cpi-ml-kunal
पटना 24 जुलाई, भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने फुलवारीशरीफ कथित आतंकी व देशविरोधी गतिविधियों के संबंध में मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार को पत्र लिखा है. पत्र के माध्यम से भाकपा-माले ने मुख्यमंत्री से मामले को अपने स्तर से देखने की अपील की है. भाकपा-माले ने अपने पत्र में कहा है कि एक - दो गिरफ्तार संदिग्ध घटनाओं के आधार पर पूरे मुस्लिम समुदाय व फुलवारीशरीफ को बदनाम किया जा रहा है. प्रशासन व पुलिस के हवाले से फुलवारी को ‘आतंक की फुलवारी’ बताया जा रहा है. लगातार अनर्गल, झूठे व नफरत फैलाने वाले खबरों की वजह से मुस्लिम समुदाय खौफ में जी रहा है. जबकि एक दिन पहले ही भारत के मुख्य न्यायाधीश ने कहा है कि विचाराधीन मामलों में मीडिया ट्रायल बंद हो. उन्होंने कहा कि पुलिस आम लोगों को कोई सबूत नहीं दिखलाती, लेकिन मीडिया में ये खबरें खूब प्रचारित हो रही हैं. इससे भ्रम की स्थिति बनी हुई है. हमारा मानना है कि यह भाजपा के मिशन 2024 का हिस्सा है, जिसमें मुसलमानों को बदनाम करके वोटों के ध्रुवीकरण की साजिशें की जा रही हैं. संविधान व लोकतंत्र का तकाजा है कि इन मामलों का मीडिया ट्रायल बंद हो. पूरे मुस्लिम समुदाय व फुलवारीशरीफ को बदनाम करने की साजिश करने वालों पर कार्रवाई की जाए. अतः इस मामले में मुख्यमंत्री को अपने स्तर से हस्तक्षेप करना चाहिए.

कोई टिप्पणी नहीं: