बेनामी सम्पत्ति मामले में लालू की बेटी और दामाद को आयकर ने भेजा सम्मन

it-notice-to-lalu-misa-bharti
नई दिल्ली/पटना 24 मई, राष्ट्रीय जनता दल(राजद) के प्रमुख लालू प्रसाद यादव की बेटी और राज्यसभा सदस्य मीसा भारती तथा उनके पति शैलेश कुमार को बेनामी संपत्ति मामले में आयकर विभाग ने पूछताछ के लिए सम्मन भेजा है।  आयकर सूत्रों ने आज बताया कि श्रीमती भारती और उनके पति श्री कुमार को आयकर विभाग ने पूछताछ के लिए 06 एवं 07 जून रिपीट 06 एवं 07 जून को पेश होने को कहा है। कल ही श्रीमती भारती की बंद पड़ी कंपनी मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर्स प्राइवेट लिमिटेड के चार्टर्ड एकाउंटेंट (सीए) राजेश अग्रवाल को प्रवर्तन निदेशालय ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत गिरफ्तार किया था। इस मामले में कारोबारी वीरेंद्र जैन और सुरेंद्र कुमार जैन की पहले ही गिरफ्तारी हो चुकी है और वे फिलहाल जेल में हैं। उन पर श्रीमती भारती को मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए दिल्ली के बिजवासन में करीब डेढ़ करोड़ रुपये में हजार करोड़ रुपये का फार्म हाउस दिलाने का आरोप है। गौरतलब है कि 16 मई को आयकर विभाग ने श्री लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार के कथित कारोबार से जुड़े लोगों के दिल्ली, गुड़गांव, नोएडा और रेवाड़ी के 20 ठिकानों पर छापे मारे थे। आयकर छापे से पूर्व ही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने श्री यादव, उनकी बेटी मीसा भारती, बेटे तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव पर बेनामी सम्पत्ति रखने के आरोप लगाए थे और जांच की मांग की थी।



जैन बंधुओं पर श्रीमती भारती की कंपनी के कम मूल्य वाले शेयर को ऊंचे दाम पर खरीदने और बाद में फिर उन शेयरों को उन्हें ही कम कीमत पर बेचकर लालू परिवार के कालेधन को सफेद बनाने का आरोप है। बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी के आरोपों के अनुसार, राज्यसभा सांसद मीसा भारती ने वर्ष 2002 में केवल एक लाख रुपये का निवेश कर मिशेल पैकर्स नाम से कंपनी बनाई थी। इस कंपनी ने न कोई कारोबार किया, न कोई टर्नओवर और इसमें न ही कोई कर्मचारी ही थे। हालांकि वर्ष 2005-06 में कंपनी को बंद कर दिया गया। इसी वर्ष कंपनी ने 20 लाख रुपये में संयंत्र और मशीनें बेच दी। इसके बाद वर्ष 2008-09 में अज्ञात लोगों ने इस कंपनी को बिना ब्याज के 48 लाख रुपये का कर्ज भी दिया। श्रीमती भारती ने 25 नवंबर 2008 को बंद पड़ी कंपनी के 10 रुपये मूल्य के करीब 12,500 शेयर को 100 रुपये प्रति शेयर की दर से वीरेंद्र जैन को बेच दिया और ठीक 11 महीने बाद ही उन शेयरों को 10 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से खरीद भी लिया। उन्होंने कहा कि इस प्रकार वीरेंद्र जैन ने अपनी कंपनी शालिनी के माध्यम से सांसद श्रीमती भारती के करीब डेढ़ करोड़ रुपये कालेधन को सफेद बना दिया, जिससे दिल्ली के बिजवासन में 100 करोड़ रुपये से अधिक का फार्म हाउस खरीदा गया। गौरतलब है कि 16 मई को आयकर विभाग ने श्री लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार के कथित कारोबार से जुड़े लोगों के दिल्ली, गुड़गांव, नोएडा और रेवाड़ी के 20 ठिकानों पर छापे मारे थे। आयकर छापे से पूर्व ही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने श्री यादव, उनकी बेटी मीसा भारती, बेटे तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव पर बेनामी सम्पत्ति रखने के आरोप लगाए थे और जांच की मांग की थी।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...