जबतक बिहार में कमल नहीं खिलेगा, चैन से नहीं बैठूंगा : योगी

kamal-will-be-in-bihar-yogi-in-darbhanga
दरभंगा 15 जून, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता योगी आदित्यनाथ ने बिहार में सत्तारूढ राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और जनता दल यूनाईटेड (जदयू) गठबंधन को बेमेल बताया और कहा कि जबतक विधानसभा में ‘कमल’ नहीं खिल जाता वह चैन से बैठने वाले नहीं हैं। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में अप्रत्याशित जीत दर्ज करने के बाद पहली बार बिहार आये श्री आदित्यनाथ ने यहां के राज मैदान में एक सभा को संबोधित करने के दौरान केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के तीन वर्ष के कार्यकाल की एक-एक उपलब्धियों को गिनवाते हुये कहा कि बिहार में एक ऐसी सरकार की आवश्यकता है जो राज्य के विकास के लिए केंद्र के साथ कदम से कदम मिलाकर कार्य कर सके। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले ही बड़ी-बड़ी बातें करते हों लेकिन उनकी कथनी और करनी में बड़ा फर्क है। श्री आदित्यनाथ ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री कुमार महिलाओं के कल्याण और सशक्तिकरण की बात करने में कभी पीछे नहीं रहते लेकिन तीन तलाक के मामले पर वह रहस्यमय चुप्पी साधे हुये हैं। उन्होंने कहा कि मुस्लिम महिलायें तीन तलाक के प्रचलन से काफी उत्पीड़न का सामना कर रही हैं लेकिन श्री कुमार उनकी समस्याओं को जानते हुये भी चुप्पी साधे हुये हैं। उन्होंने कहा कि श्री कुमार की चुप्पी का मतलब सिर्फ वोट बैंक से है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ‘सबका साथ सबका विकास’ की अवधारणा के साथ काम कर रही है लेकिन तथाकथित धर्मनिरपेक्ष दल संप्रदाय विशेष को सिर्फ वोट बैंक की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जबतक जाति और धर्म के आधार पर वोट बैंक की राजनीति बंद नहीं होती तबतक सभी का विकास संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा के सत्ता में आने के बाद उत्तर प्रदेश में समाज के सभी वर्गों के लिए बिना भेदभाव के कल्याण और विकास का कार्य किया जा रहा है। श्री आदित्यनाथ ने कहा कि उनसे लगभग प्रतिदिन कई मुस्लिम महिलायें मिलकर तीन तलाक से हो रहे उत्पीड़न की व्यथा सुनाती हैं और इसे हटाने के लिए अनुरोध करती हैं। उन्होंने कहा कि आश्चर्य है कि बिहार के मुख्यमंत्री श्री कुमार इस संवदेनशील मुद्दे पर अपनी स्पष्ट राय रखने की बजाय टालने का रवैया अपनाते हैं। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय में तीन तलाक का मामला लंबित है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने उत्तर प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा के लिए एंटी रोमियाे स्क्वॉयड का गठन किया है ताकि मां-बेटियों पर बुरी नजर रखने वाले असामाजिक तत्वों से निपटा जा सके। उन्होंने कहा कि सत्ता में आने के 24 घंटे के अंदर बड़ा निर्णय लेते हुये उत्तर प्रदेश में सभी अवैध बूचड़खानों को बंद करने का निर्देश दिया गया। उन्होंने श्री कुमार को चुनौती देते हुये कहा कि क्या वह बिहार में इस तरह के अवैध बूचड़खानों को बंद करने के लिए सख्त निर्देश दे सकते हैं। 

श्री आदित्यनाथ ने राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और मुख्यमंत्री श्री कुमार के बीच हुये गठबंधन को बेमेल बताया और कहा कि इससे बिहार के लोगों का कोई भला होने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्तर की सभी प्रतियोगिता परीक्षाओं में बिहार के युवा अव्वल स्थान प्राप्त करते रहे हैं और यहां तक कि भारतीय प्रशासनिक सेवा में भी राज्य के युवाओं की ही धाक है। उन्होंने कहा कि यह तकलीफ की बात है कि वर्तमान महागठबंधन सरकार के कार्यकाल में बिहार के युवा निराश और दुखी हैं। मुख्यमंत्री ने बिहार के लोगों से आह्वान किया कि वे महागठबंधन सरकार को सत्ता से बाहर करने का संकल्प लें। उन्होंने कहा कि वर्ष 2020 तक वह बिहार के सभी जिलों की यात्रा कर यह सुनिश्चित करेंगे कि बिहार विधानसभा में कमल का फूल खिले। उन्होंने कहा कि विधानसभा में जबतक कमल नहीं खिलेगा तबतक वह चैन से बैठने वाले नहीं है। श्री आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामकाज की प्रशंसा करते हुये कहा कि उन्होंने पूरे विश्व में अच्छे शासन की मिसाल कायम की है। उन्होंने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी चुनावी प्रचार के दौरान यह कहा था कि वह सत्ता में आने के बाद अमेरिका के लोगों के लिए उसी तरह कार्य करेंगे जैसा प्रधानमंत्री श्री मोदी अपने देशवासियों के लिए कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार के लोगों के साथ उनका भावनात्मक संबंध रहा है और जब भी जरूरत होगी, वह राज्य में आते रहेंगे। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार ने समाज के सभी वर्गों के लिये कई तरह की योजनाएं शुरू की है जिसके साकारात्मक परिणाम सामने आने लगे हैं। श्री आदित्यनाथ ने कहा कि ‘स्टार्टअप इंडिया, स्टैडप इंडिया’ जैसी योजनाएं शुरू करने से न केवल युवाओं को रोजगार के बेहतर अवसर प्राप्त हो रहे हैं बल्कि इससे देश के तेजी से आर्थिक विकास में भी मदद मिल रही है। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने किसानों और गरीबों के लिये ही कई ऐसी योजनाएं लागू की जो पहले कभी नहीं लागू की गयी थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनधन योजना के तहत लगभग 25 करोड़ गरीबों के खाते बैंक में खुलवाये गये । उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने साहसिक निर्णय लेते हुए सभी बैंकों को गरीबों के लिये शून्य बैलेंस से खाता खोले जाने का निर्देश दिया ताकि उन्हें बैंकिंग सुविधाओं का लाभ मिल सके । उन्होंने कहा कि इसी तरह प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना भी लागू की गयी जिससे किसानों को प्राकृतिक आपदा या अन्य कारणों से फसलों को होने वाली क्षति की भरपायी के लिये ठोस उपाय किये गये। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...