अफगानिस्तान में अलगे साल जुलाई में संसदीय चुनाव

next-year-general-election-in-afganistan
काबुल 22 जून, अफगानिस्तान में चुनाव आयोग ने अगले वर्ष सात जुलाई को संसदीय और जिला परिषद के चुनाव करने की घोषणा की। ये चुनाव निर्धारित समय से तीन साल की देरी से हो रहा है। देश के स्वतंत्र चुनाव आयोग (इंडिपेंडेंट इलेक्शन कमीशन-आईईसी) के अध्यक्ष नजिबुल्लाह अहमदजई ने आज चुनाव की तारीखाें की घोषणा करते हुये कहा कि चुनाव की सफलता उचित फंडिंग और सुरक्षा व्यवस्था पर निर्भर करेगा। उन्होंने कहा, “ चुनाव के लिये बजट बनाने कि जिम्मेदारी सरकार की है। चुनाव के दौरान सुरक्षा मुहैया करने की जवाबदेही सरकार और सुरक्षा एजेंसियों की है।” मौजूदा संसद का कार्यकाल जून 2015 में खत्म हो गया है और देश में यह चुनाव 2015 में ही होना था लेकिन चुनाव की तैयारियों को सरकार के अंदरूनी घमासान और तलिबान के खिलाफ संघर्ष के कारण झटका लगा। 2014 में हुये राष्ट्रपति चुनाव के बाद एक दुसरे के प्रतिद्वंद्वी रहे अशरफ गनी और अब्दुल्ला अब्दुल्ला के संयुक्त नेतृत्व में राष्ट्रीय एकता सरकार का गठन हुआ जिसमें श्री गनी राष्ट्रपति बने और श्री अब्दुल्ला मुख्य कार्यकारी । दोनों खेमे में मतदाता पंजीकरण, चुनावी धोखाधड़ी और सुरक्षा के मुद्दे के बीच असहमति है। काबुल स्थित अमेरिका दूतावास और संयुक्त राष्ट्र ने चुनाव के नये तारीखों की घाेषणा का स्वागत किया। तारीखों की घोषणा ऐसे समय में की गयी है जब देश में राजनीतिक और जातीय तनाव बढ़ रहे है। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...