विधानसभा में पर्चे फेंकने वाले युवकों को एक महीने की जेल का आदेश

one-month-prison-order-for-youngsters-throwing-prescription-in-assembly
नयी दिल्ली, 28 जून, दिल्ली विधानसभा में लोक निर्माण मंत्री सत्येन्द्र जैन के इस्तीफे की मांग को लेकर पर्चे फेंकने वाले दोनों युवकों को अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने एक महीने की जेल की सजा के आदेश दिये हैं। आज से शुरू हुए दो दिवसीय विशेष सत्र के प्रारंभ होते ही उस समय हंगामा हो गया जब दर्शक दीघा में बैठे कुछ लोगों ने सदन में ऊपर से कागज फेंके। इसके बाद सदन में अफरा-तफरी मच गयी और कार्यवाही आधे घंटे के लिये राेक दी गयी। इस घटना के बाद सदन में एक प्रस्ताव पारित किया गया है जिसके तहत अध्यक्ष ने हंगामा करने वाले दोनों व्यक्तियों को एक महीने की जेल की सजा के आदेश दिये। पर्चे फेंकने वालों दोनों युवकों ने लोक निर्माण मंत्री सत्येन्द्र जैन को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग की। दोनों को बाद में सदन से बाहर कर दिया गया। इन युवकों की पहचान जगदीप राणा और राजन मदान के रूप में हुयी है। बताया जा रहा है कि दोनों युवकों को सदन से बाहर करने के बाद उनके साथ धक्का-मुक्की भी की गयी। युवकों ने जो पर्चे फेंके हैं उनमें दिल्ली सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर मुख्यमंत्री की चुप्पी पर सवाल भी उठाये गये हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और श्री जैन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने सदन में उछाले गये पर्चों को लेकर ट्वीट किया है। श्री मिश्रा ने ट्वीट में आरोप लगाया कि जिस प्रकार दोनों की बंद कमरे में हत्या करने का प्रयास किया गया है,वह गंभीर अपराध है। भ्रष्टाचार पर आम आदमी पार्टी(आप) का अपना कार्यकर्ता आवाज उठा रहा है। उन्होंने लिखा,“ दोनों ने अहिंसात्मक तरीके से विरोध दर्ज करवाया, जैसे भगत सिंह ने किया था, कानूनी कार्रवाई होनी चाहिये, हमला क्यों, मैंने पुलिस बुलायी है। जगदीप राणा, आप के विधायक पद के उम्मीदवार, रहे हैं आैर दिल्ली कॉलेज आफ इंजीनियरिंग के पूर्व छात्र, आप के दिल्ली उपाध्यक्ष ने ये पर्चा उछाला है। ” राणा को पिटायी से चोटें आयी हैं और बताया जा रहा है कि उनकी हड्डी भी टूट गयी है। राणा आप पार्टी के टिकट पर दिल्ली के आदर्श नगर से चुनाव लड़ चुके हैं तथा राजन ने पंजाब में पार्टी के लिये कार्य किया है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...