कोविंद को समर्थन देने वाले नीतीश अब तेजस्वी को बर्खास्त करने की हिम्मत दिखाएं : सुशील कुमार मोदी

now-nitish-discharge-tejaswi-sushil-modi
पटना 20जुलाई, बिहार भारतीय जनता पार्टी(भाजपा)विधानमंडल दल के नेता सुशील कुमार मोदी ने उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव के इस्तीफे को लेकर सत्तारूढ़ महागठबंधन में जारी तकरार के बीच आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को याद दिलाते हुये कहा कि उन्होंने जिस तरह विपक्षी दलों के विरोध के बावजूद राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का समर्थन किया वैसे ही अब उन्हें श्री यादव को बर्खास्त करने की हिम्मत दिखानी चाहिए। श्री मोदी ने यहां कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पाकिस्तान यात्रा और नोटबंदी जैसे मुद्दों पर श्री मोदी का साथ देने वाले मुख्यमंत्री ने संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के दबाव के बावजूद श्री कोविंद को जिस तरह से अपना समर्थन दिया वैसे ही उन्हें भ्रष्टाचार के आरोप में घिरे उप मुख्यमंत्री को बर्खास्त करने की हिम्मत भी दिखानी चाहिए। भाजपा नेता ने कहा कि 15 दिन से महागठबंधन के घटक जनता दल यूनाईटेड (जदयू) के प्रवक्ता रट लगाए हुए हैं कि श्री यादव के मामले में उनका दल अपने रुख पर कायम है। उन्होंने कहा कि इसके बावजूद जदयू उप मुख्यमंत्री के खिलाफ की जाने वाली कार्रवाई की समय सीमा नहीं बता रहा है।


श्री मोदी ने श्री कोविंद को देश का राष्ट्रपति निर्वाचित होने पर बधाई देते हुये कहा कि दलित समाज से आने वाले श्री कोविंद को देश के सर्वोच्च पद पर आसीन किया गया है इसलिए राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव बार-बार बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती का नाम उछाल रहे हैं। उन्होंने कहा कि राजद अध्यक्ष श्री यादव के मुख्यमंत्री के कार्यकाल के दौरान सैकड़ों दलितों का नरसंहार हुआ था। एक-एक कर दलितों के सभी बड़े नेता राजद अध्यक्ष का साथ छोड़ गये तो आज दिखावे के लिए वह सुश्री मायावती के बहाने दलितों के शुभचिंतक बन रहे हैं। भाजपा नेता ने कहा कि कहीं ऐसा तो नहीं कि मुख्यमंत्री की सलाह पर ही भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे उप मुख्यमंत्री दिल्ली जाकर कानूनी रास्ता तलाश रहे हैं। उन्होंने कहा कि उप मुख्यमंत्री की मंशा है कि उन्हें कोर्ट से राहत मिल जाए और चार घंटे में मांझी से इस्तीफा लेने वाले मुख्यमंत्री उनके खिलाफ कार्रवाई करने से बच जाएं। उल्लेखनीय है कि श्री कोविंद को राजग की ओर से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाये जाने के बाद श्री कुमार की पार्टी जनता दल यूनाईटेड (जदयू) ने महागठबंधन के अन्य घटक राजद और कांग्रेस के विरोध के बावजूद उन्हें समर्थन देने की घोषणा की थी। पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार को विपक्ष का उम्मीदवार बनाये जाने पर राजद अध्यक्ष की पुनर्विचार की अपील के बाद भी मुख्यमंत्री और उनकी पार्टी श्री काेविंद को समर्थन देने के निर्णय पर अडिग रही। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...