बिहार में आपदाओं से होने वाली मानव क्षति को 75 फीसदी तक कम करने का लक्ष्य

plan-to-reduce-human-loss
पटना 21 जुलाई, बिहार सरकार ने वर्ष 2030 तक प्राकृतिक आपदाओं के दौरान होने वाली मानव क्षति को 75 प्रतिशत तक कम करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने पिछले एक वर्ष में आपदा जोखिम न्यूनीकरण की दिशा में विभिन्न विभागों की ओर से किये गये कार्यों की प्रगति की समीक्षा के लिए यहां आज से शुरू हुई ‘बिहार राज्य आपदा न्यूनीकरण मंच’ कार्यशाला के दौरान बताया कि सरकार ने वर्ष 2030 तक प्राकृतिक आपदाओं से होने वाली मानव क्षति को मूल आधार आंकड़ों की तुलना में 75 प्रतिशत तक कम करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। श्री अमृत ने बताया कि जापान के सेंडई में हुये विश्व आपदा जोखिम न्यूनीकरण सम्मेलन और इसके बाद राज्य में आयोजित ऐसे प्रथम सम्मेलन से प्राप्त अनुभव तथा विभिन्न विभागों से मिले सुझावों के आधार पर तैयार एवं मंत्रिमंडल से स्वीकृत बिहार आपदा जोखिम न्यूनीकरण कार्ययोजना 2015-30 में वर्ष 2030 तक सड़क, रेल एवं नाव दुर्घटनाओं के आंकड़ों में पर्याप्त कमी करना और आपदाओं से प्रभावित लोगों की संख्या को 50 प्रतिशत तक कम करने का लक्ष्य रखा गया है। प्रधान सचिव ने बताया कि इस कार्ययोजना को मंजूरी देने वाला बिहार देश का पहला राज्य है। उन्होंने बताया कि इसमें वर्ष 2030 तक राज्य में आपदाओं से होने वाली क्षति में भी 50 प्रतिशत तक की कमी करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। श्री अमृत ने बताया कि इस कार्ययोजना को लागू करने के उद्देश्य से सरकार ने वर्ष 2016 में सभी संबंधित विभागों को उनके कार्यक्रमों में आपदाओं से उत्पन्न होने वाले जोखिम को कम करने के लिए लक्ष्य दिये थे, जिसकी प्रगति की समीक्षा के लिए इस कार्यशाला का आयोजन किया गया है। इसके अलावा कार्यशाला में एक वर्ष के दौरान कार्ययोजना को लागू करने में जो चुनौतियां सामने आई हैं या जो संरचनात्मक कार्य किये गये हैं, उनका मूल्यांकन भी किया जाएगा। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...