बिहार में गंगा समेत नौ नदियों के जलस्तर में वृद्धि, कोसी लाल निशान से ऊपर

river-level-enclude-ganga-high-in-bihar
पटना 26 जुलाई, नेपाल के जलग्रहण क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश और बराज से पानी छोड़े जाने के कारण बिहार में गंगा समेत नौ नदियों के जलस्तर में आज भी वृद्धि जारी है वहीं कोसी का जलस्तर खतरे के लाल निशान से 53 सेंटीमीटर ऊपर पहुंच गया है। केंद्रीय जल आयोग के अनुसार, राज्य में गंगा, सोन, पुनपुन, घाघरा, गंडक, बूढ़ी गंडक, अधवारा समूह, कोसी और महानंदा नदी के जलस्तर में कुल 18 स्थानों पर वृद्धि हुई। गंगा नदी बक्सर, पटना के दीघाघाट, गांधीघाट एवं हाथीदह और मुंगेर में, सोन भोजपुर के कोइलवर एवं पटना के मनेर में, पुनपुन पटना के श्रीपालपुर में तथा घाघरा नदी का जलस्तर सिवान के दरौली एवं गंगपुरसिसवन और सारण के छपरा में बढ़ गया है। इसी तरह गंडक गोपालगंज के डुमरियाघाट एवं मुजफ्फरपुर के रेवाघाट में, बूढ़ी गंडक मोतिहारी में लालबगियाघाट एवं खगड़िया में, अधवारा समूह दरभंगा के एकमीघाट में, कोसी खगड़िया के बलतारा में तथा महानंदा नदी के जलस्तर में कटिहार के झावा में वृद्धि दर्ज की गई। आयोग के अनुसार, वर्षा के दबाव के कारण नेपाल में कोसी नदी पर बने बारा बराज से 98150 क्यूसेक एवं बिहार में वीरपुर बराज से एक लाख 35 हजार 680 क्यूसेक, गंडक नदी में वाल्मीकिनगर बराज से 81800 क्यूसेक, सोन नदी में इंद्रपुरी बराज से 195174 क्यूसेक तथा बागमती नदी में मोहम्मदगंज बराज से दो लाख 90 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। नेपाल के जलग्रहण क्षेत्र में जारी बारिश और बराज से पानी छोड़े जाने के कारण कोसी नदी का जलस्तर बलतारा में लगातार लाल निशान से ऊपर बना हुआ है। आज बलतारा में यह खतरे के निशान से 53 सेंटीमीटर ऊपर रिकॉर्ड किया तथा कल तक इसमें 15 सेंटीमीटर वृद्धि होने की संभावना है। हालांकि सुपौल के बसुआ में कोसी का जलस्तर खतरे के निशान से 72 सेंटीमटीर नीचे दर्ज किया गया लेकिन कल तक इसमें पांच सेंटीमीटर वृद्धि होने का अनुमान है। जल संसाधन विभाग ने दावा किया है कि राज्य के सभी बाढ़ सुरक्षात्मक तटबंध जहां सुरक्षित हैं वहीं तटबंधों की 24 घंटे निगरानी की जा रही है। विभाग के अभियंता लगातार नजर रख रहे हैं। इस बीच मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे के अपने पूर्वानुमान में कहा है कि बिहार की सभी नदियों एवं सोन नदी के जलग्रहण क्षेत्रों में हल्की बारिश होने की संभावना है। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...