बिहार : सत्र के पहले दिन विधानमंडल के दोनों सदनों की कार्यवाही श्रद्धांजलि के बाद स्थगित

bihar-assembly-suspend-after-condolance
पटना 21 अगस्त, बिहार विधानमंडल के मॉनसून सत्र के पहले दिन आज दोनों सदनों की कार्यवाही दिवंगत नेताओं , शिक्षाविदों और बाढ़ में मरे लोगों को श्रद्धांजलि देने के बाद कल तक के लिए स्थगित कर दी गयी । बिहार विधानसभा में कार्यवाही शुरू होते ही उप मुख्यमंत्री एवं वित्तमंत्री सुशील कुमार मोदी ने वित्तीय वर्ष 2017-18 की प्रथम अनुपूरक व्यय विवरणी की प्रति सदन के पटल पर रखा । सदन में राज्यपाल की ओर से पूर्व में पारित विधेयकों की स्वीकृति दिये जाने की सूचना दी गयी । राज्यपाल ने दोनों सदनों से पारित आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय (संशोधन ) विधेयक 2016 की स्वीकृति दिये जाने के बजाय सदन से इसपर पुनर्विचार करने को कहा है । राज्यपाल ने पूर्व में पारित जिन विधेयको को स्वीकृति प्रदान की उनमें बिहार विनियोग विधेयक 2017, बिहार विनियोग (संख्या-2) विधेयक 2017, बिहार निजी विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक 2017, बिहार राज्य विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक 2017, बिहार माल और सेवाकर विधेयक 2017 तथा पटना विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक 2017 शामिल हैं । वहीं बिहार विधान परिषद में उप सभापति हारूण रसीद के आसन ग्रहण करते ही राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के सदस्यों ने सृजन घोटाले का मामला उठाया और नारेबाजी करते हुए सदन के बीच में आ गये । राजद सदस्य ‘सृजन के दुर्जन इस्तीफा दो ,खजाना चोर गद्दी छोड़ों ’ का नारा लगाते रहे । शोरगुल के बीच ही पूर्व मुख्यमंत्री और राजद की वरिष्ठ नेता श्रीमती राबड़ी देवी ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार पहले इस्तीफा करें उसके बाद इसकी केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच करायें , नहीं तो सदन चलने नहीं देंगे । 


श्रीमती राबड़ी देवी ने कहा कि मध्यप्रदेश के व्यापम घोटाले से भी सृजन घोटाला बड़ा है । उन्होंने कहा कि सृजन घोटाले के एक अभियुक्त की मौत हो गयी है और व्यापम घोटाले में भी साक्ष्य को मिटाने के लिए इसी तरह की मौत होती रही है । उन्होंने आरोप लगाया कि सृजन घोटाले की जानकारी सरकार को पहले से ही थी लेकिन जानबूझ कर इसे दबाकर रखा गया । इसी दौरान स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने वित्तीय वर्ष 2017-18 की प्रथम अनुपूरक व्यय-विवरणी की प्रति सदन के पटल पर रखा । बाद में दोनों सदनों में दिवंगत नेताओं ,शिक्षाविदों और पूर्व केन्द्रीय मंत्री विनोद खन्ना तथा बाढ़ की विभीषिका में हुई लोगों की मौत के प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त की गयी । जिन नेताओं और शिक्षाविदों को श्रद्धांजलि दी गयी उनमें पूर्व विधान पार्षद बद्रीनारायण लाल ,पी.के.सिन्हा ,पूर्व विधायक सुनीला देवी ,अदनान खां ,राजकिशोर सिन्हा ,अंतरिक्ष वैज्ञानिक प्रोफेसर यू.आर.राव ,शिक्षाविद प्रोफेसर यशपाल , लोक गायक अजीत कुमार अकेला, प्रसिद्ध सरोद वादक सी.एल.दास और प्रसिद्ध समाज शास्त्री प्रोफेसर हेतुकर झा शामिल हैं । इसी तरह दोनों सदनों में गोरखपुर अस्पताल में बच्चों की हुई मौत ,उत्तर प्रदेश में भीषण रेल दुर्घटना , अमरनाथ श्रद्धालुओं की बस दुर्घटना तथा अमरनाथ श्रद्धालुओं पर आतंकी हमले में मारे गये लोगों के प्रति भी श्रद्धांजलि व्यक्त की गयी । बाद में दोनों सदनों की कार्यवाही को कल तक के लिए स्थगित कर दी गयी । 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...