नीतीश से झटका खाने के बाद भाजपा के खिलाफ कल विपक्षी एकता का प्रदर्शन करेंगे लालू

lalu-railly-patna-tomorow
पटना 26 अगस्त, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले जनता दल यूनाईटेड(जदयू) के महागठबंधन से एक माह पूर्व अलग होने के बावजूद राष्ट्रीय जनता दल(राजद) कल होने वाली रैली में भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) को वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में चुनौती देने के उद्देश्य से विपक्षी एकजुटता का प्रदर्शन करेगा। राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने जब पटना में 27 अगस्त को भाजपा के खिलाफ विपक्षी एकजुटता के लिए बड़ी रैली का आयोजन करने की घोषणा की थी उस समय मुख्यमंत्री श्री कुमार बिहार में महागठबंधन सरकार का नेतृत्व कर रहे थे लेकिन 26 जुलाई को महागठबंधन से उनके नाता तोड़ने और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(राजग) में शामिल होने के बाद एक नयी राजनीतिक परिस्थिति उत्पन्न हुई है । श्री यादव ने श्री कुमार के महागठबंधन से नाता तोड़ने के बाद घोषणा की थी कि नयी परिस्थिति में भी उनकी पार्टी पूरी मजबूती के साथ रैली का आयोजन कर भाजपा को चुनौती देने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर विकल्प तैयार करने की कोशिश करेगी । जदयू के बागी राज्यसभा सांसद शरद यादव पार्टी नेतृत्व की चेतावनी के बावजूद रैली में हिस्सा लेने के लिए पटना पहुंच गये हैं । श्री यादव के स्वागत के लिए यहां जय प्रकाश नारायण हवाई अड्डा पर जदयू के निलंबित राज्यसभा सांसद अली अनवर और बिहार के पूर्व मंत्री रमई राम समेत बड़ी संख्या में उनके समर्थक मौजूद थे। जदयू के राष्ट्रीय महासचिव के.सी.त्यागी ने साफ शब्दों में श्री यादव को राजद की रैली में नहीं जाने की हिदायत देते हुए कहा है कि यदि वह इस रैली में जाते हैं तो यह माना जायेगा कि उन्होंने स्वत: जदयू को त्याग दिया है ।


रैली में भले ही कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी, उपाध्यक्ष राहुल गांधी और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती नहीं आ रही हैं लेकिन पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ,उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश प्रसाद यादव , कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद ,सी.पी.जोशी ,राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के राष्ट्रीय महासचिव तारिक अनवर, झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के वरिष्ठ नेता हेमंत सोरेन , झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) के अध्यक्ष बाबुलाल मरांडी , राष्ट्रीय लोक दल के चौधरी जयंत सिंह, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सुधाकर रेड्डी और डी राजा के साथ ही कई अन्य वरिष्ठ नेताओं ने रैली में आने की हामी भरकर श्री यादव के उत्साह को कम नहीं होने दिया है । उधर कल की ‘भाजपा भगाओ देश बचाओ’ रैली की तैयारी पूरी होने के साथ ही राजद के कार्यकार्ताओं के आने का सिलसिला भी शुरू हो गया है । मुख्य समारोह स्थल पटना का ऐतिहासिक गांधी मैदान सजधज कर पूरी तरह से तैयार हो गया है । मुख्य मंच से लेकर पूरे गांधी मैदान को पार्टी के हरे रंग के झंडे से पाट दिया गया है । इसी तरह जयप्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा से लेकर राजधानी के सभी प्रमुख मार्गों और चौक-चौराहों को हरे रंग से जहां सजा दिया गया है वहीं पार्टी का चुनाव चिह्न लालटेन भी जगह-जगह लगाया गया है । रैली को लेकर राजधानी पटना में जगह-जगह तोरणद्वार बनाये गये हैं । 

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ,पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ,पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ,पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव का जगह-जगह बड़ा-बड़ा होर्डिंग और कटआउट लगाया गया है । कई स्थानों पर उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश प्रसाद यादव तथा जनता दल यूनाईटेड (जदयू) के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव का भी कटआउट लगाया गया है । रैली में आ रहे लोगों के लिए राजद विधायकों के आवास पर ठहरने के साथ ही भोजन की भी व्यवस्था की गयी है । वहां उनके मनोरंजन के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया है । आने वाले लोगों को किसी तरह की परेशानी न हो इसके लिए पार्टी के कार्यकर्ता जगह-जगह तैनात किये गये हैं। पार्टी की ओर से पेयजल और चिकित्सकों की भी व्यवस्था की गयी है । रैली के मद्देनजर पटना जिला प्रसाशन की ओर से सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किये गये हैं । किसी तरह की गड़बड़ी न हो इसके लिए चार हजार पुलिस के जवानों को लगाया गया है । मुख्य समारोह स्थल गांधी मैदान में अस्थायी पुलिस थाना बनाया गया है । 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...