शिवराज ने कहा मेधा को नहीं किया गिरफ्तार, स्वास्थ्य की वजह से अस्पताल में कराया भर्ती

medha-was-not-arrested-said-shivraj
भोपाल, 07 अगस्त, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेता मेधा पाटकर के आंदोलन के परिप्रेक्ष्य में कहा कि वे संवेदनशील व्यक्ति हैं और चिकित्सकों की सलाह पर सुश्री पाटकर और उनके साथियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया है। श्री चौहान ने रात्रि में ट्वीट के जरिए कहा कि सुश्री पाटकर और उनके साथियों की स्थिति 'हाई कीटोन और शुगर' के कारण चिंतनीय थी। इनके स्वास्थ्य और दीर्घ जीवन के लिए वह प्रयासरत हैं। श्री चौहान ने अलग अलग ट्वीट के माध्यम से कहा कि राज्य सरकार ने सरदार सराेवर परियोजना के विस्थापितों के पुनर्वास के लिए नर्मदा पंचाट और उच्चतम न्यायालय के आदेश पालन के साथ नौ सौ करोड रूपयों का अतिरिक्त पैकेज देने का काम किया है। श्री चौहान ने आज शाम धार जिले के चिकल्दा में हुए घटनाक्रम के परिप्रेक्ष्य में एक तरह से स्थिति को स्पष्ट करते हुए कहा कि विस्थापितों के पुनर्वास के संबंध में सुश्री पाटकर को पूरी जानकारी देकर राज्य सरकार ने उन्हें संतुष्ट करने की कोशिश की है। सरदार सरोवर बांध के विस्थापितों को बेहतर से बेहतर सुविधा मिले, इसके लिए हरसंभव प्रयास किया गया है और यह प्रयास जारी है। श्री चौहान ने ट्वीट करके कहा 'मैं प्रदेश का प्रथम सेवक हूं और मैं सरदार सरोवर बांध के विस्थापित अपने प्रत्येक भाई बहन के समुचित पुनर्वास के लिए प्रतिबद्ध हूं। ' इस बीच इंदौर से यूनीवार्ता के अनुसार धार जिले के चिखल्दा गांव में 12 दिनों से अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठीं सुश्री पाटकर को स्वास्थ्य बिगड़ने पर आज इंदौर के निजी अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती किया गया है। धार के अपर कलेक्टर डी के नागेन्द्र ने बताया कि सुश्री पाटकर का स्वास्थ्य बिगड़ने पर उन्हें उपचार के लिए इंदौर लाया गया है। छह अन्य उपवासरत आंदोलनकारियों को धार में ही स्थानीय अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है। श्री नागेंद्र ने सुश्री पाटकर और अन्य प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी से स्पष्ट इंकार किया है। इसके पूर्व आंदोलनकारियों पर बलप्रयोग करने का आरोप लगाते हुए सुश्री पाटकर ने कहा था कि मध्यप्रदेश सरकार हमारे 12 दिनों से जारी 12 साथियों के अनशन को उनकी गिरफ्तारी करके हमें जवाब दे रही है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...