सहयोगी ने ही दर्ज कराया डकैती और लूट का मामला, हार्दिक पटेल की धरपकड

raid-for-hardik-arrest
पाटन/आणंद, 28 अगस्त, पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति यानी पास के संयोजक हार्दिक पटेल तथा उनके दस अन्य साथियों के खिलाफ डकैती और लूट तथा धमकी देने का मामला उनके ही एक पूर्व करीबी सहयोगी तथा पास के एक अन्य संयोजक ने गुजरात के पाटन शहर के बी डिवीजन थाने में दर्ज कराया है जिसके मद्देनजर आज शाम उनको आणंद जिले के चिखोदरा चौकी के पास से पकड लिया गया। बताया जा रहा है कि पुलिस ने उनके साथ इस मामले के छह अन्य नामजद आरोपियों में शामिल उनके सहयोगी दिनेश बांभणिया को भी पकडा है। दोनो को कल अदालत में पेश किया जा सकता है। इससे पहले बी डिवीजन के प्रभारी पुलिस अधिकारी जे बी पंडित ने बताया कि पास के महेसाणा के संयोजक नरेन्द्र पटेल की शिकायत पर भारतीय दंड संहिता यानी आईपीसी की धारा 395 (डकैती), 424 (धोखे से लूटना), 504 (शांति भंग) और 506 (2)(धमकी देने) के तहत हार्दिक और उनके पांच अन्य सहयोगियों महेश पटेल, बृजेश पटेल, सुनील पटेल, दिनेश बांभणिया और धवल तथा तीन से चार ऐसे अज्ञात जिनके नाम आरोपी को पता नहीं पर वह देख कर पहचान सकता है, के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। नरेन्द्र को आरोप है कि 26 अगस्त की शाम को जब वह शहर के सिद्धपुर चौक के निकट स्थित नवजीवन होटल के पास बैठे थे तभी उक्त आरोपी एक काफिले में आये और उन्होंने उनके साथी राजकोट निवासी दिलीप सावलिया का फोन तोड दिया और उनकी सोने की चेन छीन ली। उन्होंने मारपीट और गाली गलौज भी की। उधर, नरेन्द्र पटेल ने कहा कि हार्दिक की मौजूदगी में हुई इस घटना से वह बहुत आहत हुए हैं। ज्ञातव्य है कि नरेन्द्र दो साल पहले हार्दिक पटेल की अगुवाई में हुए हिंसक पाटीदार अथवा पटेल आरक्षण आंदोलन के दौरान खासे सक्रिय रहे थे। उन्हें हार्दिक के कट्टर सर्मथकों में शुमार किया जाता था।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...