रोहिंग्या मुस्लिमों के संबंध में केंद्र ने स्थिति की स्पष्ट: अमित शाह

india-stand-clear-on-rohingya-amit-shah
रांची 16 सितंबर, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि रोहिंग्या मुस्लिम के संबंध में केंद्र सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय में हलफनामा दाखिल कर अपनी स्थिति स्पष्ट कर दी है। श्री शाह ने आज यहां पार्टी के प्रदेश कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेल में कहा कि भारत सरकार रोहिंग्या मुस्लिमों को म्यांमार में ही हरसंभव सहायता मुहैय्या करायी जाएगी। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि देश में विपक्ष कमजोर हो रहा है, तो इसे मजबूत करने का काम भाजपा का नहीं है, बल्कि विपक्ष को ही अपनी स्थिति मजबूत करनी होगी। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तीन साल की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए कहा कि इस अवधि में देश से जातिवाद, परिवारवाद और तुष्टिकरण की राजनीति को उखाड़ फेंका गया है तथा योग के माध्यम से भारतीय संस्कृति को दुनियाभर में पहुंचाया गया है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि झारखंड में पहली बार स्थिर सरकार बनी है और मुख्यमंत्री रघुवर दास की अगुवाई वाली भाजपा सरकार विकास को गति देने काम कर रही है। उन्होंने रघुवर सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि श्री दास ने राज्य के हर कोने में विकास को पहुंचाया है तथा प्रदेश में समविकास को गति दे रहे है। केंद्र ने भी झारखंड के विकास में भरपूर योगदान किया है। 13वें वित्त आयोग में केंद्रीय कर के रूप में 39938 करोड़,अनुदान सहायता के रूप में 6087 करोड़, प्लॉक ग्रांट के रूप में 6262 करोड़, राज्य आपदा प्रतिक्रिया निधि में 1075 करोड़ तथा स्थानीय निकाय अनुदान में 1891 करोड़ रूपये यानि कुल मिलाकर 55253 करोड़ रुपये मिला था, वहीं अब 14वें वित्त आयोग की सिफारिश पर केंद्रीय कर के रूप में 124408 करोड़ अनुदान सहायता दी गयी है जो 13वें वित्त आयोग की तुलना में ढ़ाई गुणा अधिक है।


श्री शाह ने कहा कि राज्य में छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम (सीएनटी) और संतालपरगना काश्तकारी अधिनियम (एसपीटी) संशोधन विधेयक राज्यपाल द्वारा राज्य सरकार को वापस करना कोई बड़ी बात नहीं है, क्योंकि लोकतंत्र में जनता की भावना को समझना चाहिए और राज्य सरकार ने भी जनता की भावना को समझा है। उन्होंने कहा कि इस समय राजतंत्र नहीं है, लोकतंत्र है, इसलिए यहां तानाशाही नहीं चल सकती। उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने इस संशोधन को कई आदिवासी संगठनों द्वारा ज्ञापन सौंपे जाने के बाद सरकार को विचार के लिए वापस भेजा है। एक अन्य सवाल के जवाब में श्री शाह ने कहा कि झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक) के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी के भाजपा में शामिल होने को लेकर कोई बात नहीं है और न ही कोई ऐसा सवाल पार्टी के सामने है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि पश्चिम बंगाल और केरल में लोकतांत्रिक तरीके से भाजपा संघर्ष कर रही है और अगले चुनाव में पार्टी को अच्छे परिणाम निश्चित तौर पर इन राज्यों से मिलेंगे। उन्होंने कहा कि झारखंड में पार्टी से वह काफी आशान्वित है और यहां की भाजपा इकाई तथा संगठन अच्छे ढंग से काम कर रही है तथा पार्टी का विस्तार हो रहा है। रघुवर सरकार अच्छी तरह काम कर रही है तथा प्रदेश को विकसित राज्य बनाने में लगी है। 

श्री शाह ने कहा कि हरियाणा में स्कूली छात्र प्रद्युम्न हत्याकांड का मामला दुःखद है और हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार ने इस मामले की केन्द्रीय जांच ब्यूरो से जांच की घोषणा दिया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए केंद्र के तीन मंत्रालयों द्वारा स्कूली बच्चों की सुरक्षा को लेकर आवश्यक कदम उठाने पर विचार-विमर्श किया जा रहा है। भाजपा अध्यक्ष कहा कि झारखंड में भाजपा सदस्यों की संख्या पहले एक लाख 10 हजार थी जो अब बढ़कर 42 लाख हो गयी है, जिसमें से 22 लाख सदस्यों से पार्टी ने संपर्क भी स्थापित किया है। उन्होंने लिट्टीपाड़ा उप चुनाव में पार्टी की पराजय पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कई बार पार्टी चुनाव हारती है और भाजपा को भी झारखंड में विधानसभा में 50 प्रतिशत सीटों में ही सफलता मिली है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के कार्यकाल में झारखंड का काफी विकास हुआ है। श्री शाह ने कहा कि झारखंड में अनुसूचित जाति, जनजाति या युवा आयोग के गठन से ही इन वर्गों के विकास को जोड़ कर नहीं देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इन वर्गो के विकास के लिए केंद्र और राज्य सरकार ने अनेक काम किये है। देश में महंगाई दर भी दो अंकों से घटकर एक अंक में आ गयी है। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय ने इंदिरा साहनी मामले में जो फैसला दिया, उसके बाद आरक्षण की सीमा 50 प्रतिशत से अधिक नहीं बढ़ायी जा सकती है और उसी हिसाब से झारखंड में भी 50 प्रतिशत आरक्षण है। 

श्री शाह ने कहा कि पार्टी ने उनके लिए देशभर में 110 दिनों का उनका दौरा तय किया है और उसी के तहत वे झारखंड के तीन दिनों के दौरे पर हैं। पार्टी ने बड़े राज्यों में तीन, छोटे राज्यों में दो और केंद्र शासित प्रदेश तथा पूर्वोत्तर राज्यों में एक-एक दिन का प्रवास का कार्यक्रम तय किया है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी वर्ष 2017 को पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्मशताब्दी वर्ष के रूप में गरीब कल्याण वर्ष के रूप में भी मना रही है। उन्होंने कहा कि संगठन के काम को तथा पार्टी के सिद्धांतों को अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाना उनका उद्देश्य है। उन्होंने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के तीन साल की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए कहा कि इन तीन सालों में जनता का विश्वास दृढ़ हुआ है और लोग मानने लगे है कि भारत सही रास्ते पर चल पड़ा है, क्योंकि मोदी सरकार के पहले के दस वर्ष के दौरान हुए घोटाले और भ्रष्टाचार से जनता का विश्वास उठ गया था। श्री शाह ने कहा कि नरेंद्र मोदी की सरकार ने पिछले तीन साल में देश में पारदर्शी सरकार देने का काम किया है। यह निर्णय लेने वाली सरकार है और इस सरकार पर भ्रष्टाचार का कोई आरोप विपक्षी भी नहीं लगा पाया। इस सरकार में गरीबों, आदिवासियों, पिछड़ों, किसानों, युवाओं और महिलाओं के विकास के लिए अनेकों कदम उठाये गये है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि देश में 29 करोड़ नये बैंक खाता खोले गये, गरीबों को उज्जवला योजना के तहत गैस सिलेंडर मुहैय्या कराया गया है तथा देश में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के माध्यम से एक कर व्यवस्था को लागू किया गया। वहीं, सर्जिकल स्ट्राइक के जरिये भारत अमेरिका के बाद पहला ऐसा देश है, जिसने दुनिया को यह बताने का काम किया है कि भारत सुरक्षा के लिए किसी सीमा तक जा सकता है। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने वर्षो से लंबित सेना के लिए ‘एक रैंक एक पेंशन’ योजना को लागू करने का काम किया। कालेधन के लिए एसआईटी का गठन, नोटबंदी और बेनामी संपत्ति का कानून लाकर केंद्र सरकार ने अर्थव्यवस्था को मजबूत करने का काम किया है। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...