गरीब कौशल नवाज केन्द्रों में शुरू होगा सेनेटरी सुपरवाइजर पाठ्यक्रम: नकवी

sanitary-supervisor-to-be-included-in-the-syllabus-of-garib-kaushal-navaz
नयी दिल्ली 28 सितम्बर, अल्पसंख्यक मंत्रालय देश भर के गरीब नवाज कौशल विकास केन्द्रों में ‘ सेनेटरी सुपरवाइजर’ पाठ्यक्रम शुरू करेगा। केन्द्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यहां मंत्रालय के मौलाना आजाद एजुकेशन फांउडेशन के कैंपस में ‘स्वच्छता ही सेवा’ के तहत श्रमदान करने के बाद कहा कि लगभग तीन से छह माह के इस सेनेटरी सुपरवाइजर पाठ्यक्रम से अल्पसंख्यक समुदायों के गरीब तबकों के लोगों के लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे और स्वच्छ भारत अभियान को मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा कि आधुनिक मशीनों और तकनीक से साफ-सफाई एवं कूड़े-कचरे आदि से खाद बनाने का प्रशिक्षण भी इस पाठ्यक्रम का हिस्सा होगा। उन्होंने बताया कि गरीब नवाज़ कौशल विकास योजना के तहत देश भर में 100 गरीब नवाज़कौशल विकास केंद्र स्थापित किये जा रहे हैं, जिनमें अल्पसंख्यक समुदायों के गरीब तबकों के युवाओं को विभिन्न रोजगारपरक कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया जाएगा। श्री नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में स्वच्छ भारत अभियान सफल हो रहा है और आजादी के बाद पहली बार सफाई, एक जज़्बा ही नहीं बल्कि जुनून बन गया है। उन्होंने कहा कि दो अक्टूबर 2014 को शुरू हुआ स्वच्छ भारत अभियान आज आम लोगों के सहयोग से एक मजबूत मिशन बन गया है। केंद्र की मोदी सरकार स्वच्छ, स्वस्थ, और सशक्त भारत बनाने के संकल्प के साथ काम कर रही है। श्री नकवी ने कहा कि आज आम लोग विशेषकर युवा स्वच्छता को लेकर काफी सजग हुए हैं। साफ-सफाई एक कार्य न रह कर एक जन आंदोलन बन गया है और स्वच्छता के प्रति लोगों की सोच बदल गई है। देश भर में “स्वच्छ भारत” अभियान पर आधारित स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम इस साल 15 सितंबर से गांधी जयंती यानी 2 अक्टूबर तक आयोजित किया जा रहा है। श्री नकवी ने कहा कि अल्पसंख्यक मंत्रालय ने भी 15 सितम्बर से 2 अक्टूबर तक “स्वच्छता ही सेवा’ अभियान का आयोजन किया है। मंत्रालय के मुख्यालय अंत्योदय भवन के विभिन्न स्थानों में स्थित मंत्रालय के विभिन्न विभागों जैसे एनएमडीएफसी, केंद्रीय वक्फ काउंसिल आैर मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन के कार्यालयों के साथ-साथ देश भर में विभिन्न राज्य वक्फ बोर्डों में भी इस अभियान का आयोजन किया जा रहा है। इसके साथ ही अल्पसंख्यक समुदायों के स्कूलों एवं अन्य शैक्षिक संस्थानों, सामाजिक संस्थानों, मदरसों, दरगाहों आदि में अभियान आयोजित किए गए हैं। । उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत मोदी सरकार ने पिछले तीन वर्ष में तीन करोड़ से अधिक शौचालयों का निर्माण किया है। अल्पसंख्यक मंत्रालय भी बड़ी संख्या में मदरसों और अल्पसंख्यक समुदाय के अन्य संस्थानों में शौचालय निर्माण कर उन्हें स्वच्छता अभियान से जोड़ रहा है। श्री नकवी ने कहा कि इन शौचालयों की साफ-सफाई और रख रखाव में सेनेटरी सुपरवाइजर बड़ी भूमिका निभा सकते हैं।


Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...