नये भारत के निर्माण में बैंकों की भूमिका अहम : -रघुवर दास

  • प्रधानमंत्री रोजगार योजना के लम्बित आवेदनों को लटकाएं नहीं, अतिशीघ्र निष्पादन करें

step-for-new-indi-raghuwar-das
दुमका-राँची (अमरेन्द्र सुमन) मुख्यमंत्र रघुवर दास ने कहा किं डिजीटल झारखंड बनाना सरकार का लक्ष्य है। सूबे के नागरिकों को बेहतर सुविधा उपलब्ध कराना है। हमारे गांव भी डिजीटल हो, इसके लिए लक्ष्य निर्धारित कर समयबद्ध काम करना होगा। राज्य में बैंकों की 3, 000 से ज्यादा शाखाएं हैं। प्रति माह 1, 000 गांव को डिजीटल गांव बनाना है। झारखंड मंत्रालय में दिन गुरुवार (07 सितम्बर 2017) को विभिन्न बैंकों के वरीय अधिकारियों के साथ संपन्न बैठक में सूबे के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने उपरोक्त बातें कही। उन्होंने कहा कि नया भारत बनाने का पीएम नरेंद्र मोदी का सपना पूरा करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। नया झारखंड बनाकर पीएम को सहयोग देना हमारा दायित्व है। इसमें बैंकों की भूमिका अहम हो जाती है।  बैंकर्स यदि चाह लें, तो कोई काम मुश्किल नहीं है। झारखंड में छोटे-छोटे गांव हैं। यहां लक्ष्य ज्यादा कठिन नहीं होगा। मुख्यमंत्री श्री दास ने कहा कि वर्ष 2017 गरीब कल्याण वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। सरकार गरीबों के कल्याण के लिए कई योजनाएं चला रही हैं, इसमें बैंक बढ़-चढ़ का योगदान दें। ग्रामीण बस सेवा के लिए सरकार सब्सिडी दे रही है। उन्होंने कहा बैंक लोन से सम्बंधित आवेदनों को त्वरित गति से निष्पादित करें। प्रधानमंत्री रोजगार योजना के लम्बित आवेदनों को अनिर्णय में लटकाएं नहीं, अतिशीघ्र निष्पादन करें। सरकार राज्य में लघु उद्योगों का जाल बिछा रही है, इसमें बैंकों से ऋण की जरूरत है। श्री दास ने कहा कि उन आवेदनों को भी जल्द निष्पादित करें, जो योग्य है।, उन्हें लोन दें। लोगों को दौड़ाये नहीं। इसके अलावे महिला स्वयं सहायता समूह, मुद्रा लोन के आवेदनों पर भी त्वरित निर्णय लें। बैंकों के बड़े बकायादारों से राशि वसूलने के लिए सरकार पूरी मदद करेगी। इसके अलावा भी जो समस्याएं हैं, उन्हें साझा करें। सरकार हर कदम पर बैंकर्स के साथ है। बैठक में मुख्य सचिव राजबाला वर्मा, अपर मुख्य सचिव अमित खरे, परिवहन विभाग के प्रधान सचिव के के खंडेलवाल, आइटी सचिव सतेंद्र सिंह, उद्योग विभाग के निदेशक के रविकुमार, नाबार्ड तथा सभी बैंकों के राज्यस्तरीय प्रमुख व वरीय अधिकारी इस अवसर पर मौजूद थे।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...